फास्टैग क्या हैं उपयोग एवं फायदें

एक वाहन मालिक के लिए यह जानना बहुत ही जरूरी हो गया हैं कि फास्टैग क्या हैं. What is fastag in hindi language क्योंकि वर्तमान समय में भारत में जितने भी टोल प्लाजा हैं. वहां पर वाहन का टोल टैक्स देने के लिए फास्टैग का उपयोग किया जा रहा हैं.

यदि आप भी फास्टैग के बारे में जानकारी सर्च करते हुए इस पोस्ट पर आए हैं तो यहां पर आपको फास्टैग के बारे में पूरी जानकारी दी गई हैं. नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के द्वारा भारत में सभी राष्ट्रीय राजमार्गों के लिए फास्टैग को लागू कर दिया गया हैं.

क्योंकि जितने भी टोल प्लाजा हैं. वहां पर किसी भी वाहन का टोल टैक्स जमा करने के लिए जो लंबी-लंबी लाइनें कतार लगती हैं. उससे छुटकारा पाने के लिए भारत सरकार के द्वारा फास्टैग को लागू कर दिया गया हैं. आइये नीचे fastag kya hai, के बारे में हम लोग नीचे जानकारी प्राप्त करते हैं. मोबाइल से पैसा कैसे कमाएं

What is fastag in hindi फास्टैग क्या हैं

फास्टैग एप डिजिटल तकनीक के द्वारा बनाया गया कार्ड यंत्र तकनीक हैं. जिसके द्वारा टोल प्लाजा पर लगने वाले टैक्स को ऑटोमेटिकली वाहन गुजरते समय टोल प्लाजा पर लगने वाला टैक्स जो हैं जमा हो जाता हैं. फास्टैग का जब उपयोग नहीं किया जाता था.

उस समय टोल प्लाजा पर वाहन के लिए जो टैक्स देना होता था उसको जमा करने के लिए गाड़ी को रोकना पड़ता था. तथा लंबी लंबी कतार लग जाती थी. जिससे बहुत परेशानी होता था. लेकिन इस तकनीक का इस्‍तेमाल करने से टोल प्लाजा पर वाहन का टूल टैक्‍स जमा करना बहुत ही आसान हो गया हैं. क्योंकि यह पूरी तरह से ऑटोमेटिक सिस्टम के तहत काम करता हैं.इंटरनेट क्या हैं

What is fastag in hindi language

फास्टैग को कब लागू किया गया 

पूरे भारत में फास्टैग को 15 फरवरी से अनिवार्य रूप से लागू कर दिया गया हैं. जोकि अब आगे नहीं बढ़ाया जा सकता हैं. इसलिए जिन लोगों ने अभी तक अपनी गाड़ियों पर Fastag नहीं लगवाया हैं. वह जल्दी लगवा लें.

क्योंकि यदि आप Fastag का उपयोग नहीं करते हैं तो, आपसे टोल प्लाजा पर अधिक पैसा वसूल किया जाएगा. इसलिए Fastag को आप जल्द अपने वाहन में लगवा ले.

फास्टैग कैसे खरीदें

हाईवे पर जितने भी टोल प्लाजा हैं उन सभी टोल प्लाजा पर Fastag को बेचा जा रहा हैं. टोल प्लाजा पर आप बहुत ही आसानी से Fastag को खरीद सकते हैं. उसके लिए आपको अपने गाड़ी के पंजीकरण का जो पेपर होता हैं.

उसको एवं अपना एक पहचान पत्र पर Fastag को आप खरीद सकते हैं. या फिर Fastag बहुत ऐसे पेट्रोल पंप हैं वहां पर भी बेचा जा रहा हैं. आप पेट्रोल पंप पर भी Fastag को खरीद सकते हैं. अथवा Fastag आप विभिन्न बैंक के द्वारा भी खरीद सकते हैं.

जिससे Fastag को अटैच किया गया हैं जैसे कि भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी बैंक एक्सिस बैंक कोटक बैंक आईसीआईसीआई बैंक पेटीएम पेमेंट बैंक के साथ-साथ अन्य कुछ और भी बैंक शामिल हैं. जिसके द्वारा आप Fastag खरीद सकते हैं. साथ ही साथ आप ऑनलाइन इकॉमर्स प्लेटफॉर्म जैसे कि फ्लिपकार्ट, अमेजॉन के माध्यम से भी Fastag को buy कर सकते हैं.

फास्टैग रिचार्ज कैसे करें

फास्टैग को रिचार्ज करने के लिए आप ऑफलाइन मोड में किसी भी टोल प्लाजा पर अपने Fastag को रिचार्ज करा सकते हैं या फिर आप अभी ऑनलाइन Fastag को रिचार्ज करना चाहते हैं तो उसके लिए आप अपने मोबाइल के प्ले स्टोर में जाकर Fastag ऐप को डाउनलोड करें.

उसके बाद Fastag ऐप को ओपन करके आप अपने Fastag का आईडी नंबर डाल कर के Fastag एप के द्वारा रिचार्ज कर सकते हैं.

Fastag आपका जिस बैंक से भी कनेक्टेड हैं उस बैंक के माध्यम से ही आप रिचार्ज करें. यदि आप दूसरे बैंक से अपने Fastag को रिचार्ज करते हैं तो उसके लिए आपको 2.5% का टैक्स एक्स्ट्रा देना पड़ता हैं.

यदि Fastag को रिचार्ज करने में आपको दिक्कत हो रही हैं तो, आप यूट्यूब पर जाकर के Fastag रिचार्ज कैसे करें सर्च करके वीडियो देख सकते हैं और उसके बाद आप आसानी से अपने Fastag को रिचार्ज कर सकते हैं.

फास्टैग का फायदा क्या हैं  

  • Fastag का उपयोग करने से टोल प्लाजा पर जो गाड़ी को रोकना पड़ता था. उससे समय का नुकसान होता था. अब Fastag का उपयोग करने से टोल प्लाजा पर रुकना नहीं पड़ता हैं.
  • टोल प्लाजा पर टोल टैक्स ऑटोमेटेकली Fastag के खाते से कट जाता हैं.
  • फास्टैग का उपयोग करने से कैशबैक मिलता हैं.
  • अनावश्यक पेट्रोल या डीजल खर्च नहीं करना पड़ता हैं.

फास्टैग से टोल टैक्स जमा होने के बाद मोबाइल पर एप से जानकारी प्राप्त हो जाता हैं.

Toll Plaza से नजदीक रहने वाले लोगों के लिए फायदा

टोल प्लाजा से सटे हुए 20 किलोमीटर के दायरे में आने वाले गांव के लोगों के लिए महीने में एक बार 275 रुपया का भुगतान करना होता हैं जो कि पूरे महीने के लिए लागू होता हैं. उसके लिए एक आधार कार्ड पहचान के रूप में टोल प्लाजा पर देना होता हैं. जिससे उनको 1 महीने के लिए टोल प्लाजा से आने-जाने की सुविधा आसानी से मिल जाता हैं.

कुछ दिन पहले तक भारत में Fastag का इस्तेमाल केवल कुछ शहरों में ही किया जाता था. Fastag को सफल होने के बाद भारत सरकार के सड़क एवं परिवहन मंत्रालय के द्वारा इसे पूरे देश में सभी टोल प्लाजा पर लागू कर दिया गया.

फास्टैग कैसे काम करता हैं

फास्टैग किसी भी वाहन के आगे जो शीशा होता हैं उसके ऊपर लगाया जाता हैं. जब कभी भी टोल प्लाजा पर वाहन पहुंचता हैं. उस समय विंडोस्क्रीन में लगे Fastag के ऊपर जो एक फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन लगा होता हैं. उसके द्वारा टोल प्लाजा पर जैसे ही गाड़ी हैं पहुंचता हैं.

टोल प्लाजा पर लगे सेंसर के द्वारा वाहन के स्क्रीन पर लगे Fastag के संपर्क में आ जाता हैं. जिसके बाद Fastag अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क ऑटोमेटिकली कट जाता हैं.

इस प्रक्रिया को बहुत ही तेजी से ऑटोमेटिकली किया जाता हैं. जिससे टोल प्लाजा पर वाहन को रोकना नहीं पड़ता हैं. साथ ही साथ टोल प्लाजा पर जो बेरियर लगे होते हैं. वह ऑटोमेटिकली हट जाते हैं. जब तक आपके Fastag में पैसा रहता हैं.

तब तक आप को रिचार्ज कराने की आवश्यकता नहीं होता हैं. लेकिन जैसे ही आपके फास्टैग अकाउंट से पैसा खत्म हो जाता हैं तो उसको फिर से रिचार्ज कराना होता हैं. वैसे Fastag की वैधता 5 वर्ष तक की होती हैं. उसके बाद आपको फास्टैग फिर से लगवाना होता हैं.

भारत में फास्टैग का शुरुआत कब हुआ

सबसे पहले भारत में कुछ चुनिंदा जगहों का चयन किया गया. जहां पर फास्टैग का ट्रायल रूप से उपयोग किया जाए. जिसको करने के लिए सबसे पहले अहमदाबाद और मुंबई के बीच वर्ष 2014 में फास्टैग को शुरू किया गया था.

जिसको कुछ दिन बाद जुलाई 2015 में इसे भारत के और शहरों में लागू किया गया जैसे कि चेन्नई, बेंगलुरु के बीच फास्टैग को टोल प्लाजा पर शुरू किया गया.

फास्टैग क्यों जरूरी हैं

  • फास्टैग लगने के बाद टोल प्लाजा पर जो लंबी कतारें लगती थी उससे निजात मिल जाता हैं.
  • टोल प्लाजा पर अनावश्यक समय बर्बाद नहीं होता हैं.
  • डीजल पेट्रोल के साथ-साथ समय का बर्बादी नहीं होता हैं.
  • Fastag के कारण टोल प्लाजा पर लेन-देन की सुविधा ऑनलाइन होने से डिजिटली पेमेंट करना आसान हुआ हैं.

जीरो बैलेंस फास्टैग क्या हैं

भारत में रहने वाले आम जनता के लिए टोल प्लाजा पर किसी भी वाहन को टोल प्लाजा को पार करने के लिए टोल टैक्स देना पड़ता हैं. जबकि भारत के कुछ विशिष्ट लोगों के लिए जीरो बैलेंस फास्टैग को लागू किया गया हैं.

जिसमें भारत के कुछ प्रमुख लोगों के लिए जीरो बैलेंस फास्टैग का उपयोग किया जाता हैं. जीरो बैलेंस फास्टैग को रिचार्ज नहीं करना पड़ता हैं.

यह एक्जमटेड फास्टैग के नाम से जाना जाता हैं. भारत के प्रमुख व्यक्तियों के लिए जीरो बैलेंस फास्टैग का उपयोग.

  • भारत के राष्ट्रपति
  • उपराष्ट्रपति
  • भारत के प्रधानमंत्री
  • सभी राज्यों के राज्यपाल
  • भारत के मुख्य न्यायाधीश
  • सभी राज्यों के मुख्यमंत्री
  • भारत सरकार के सभी कैबिनेट मंत्री
  • उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश
  • भारत सरकार के सभी सचिव

जीरो बैलेंस Fastag का इस्तेमाल भारत के सभी राष्ट्रीय राज्य मार्ग पर बने टोल प्लाजा पर किया जा सकता हैं.

जीरो बैलेंस Fastag बनवाने के लिए एनएचएआई यानी कि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर के अपना आवेदन करना होता हैं. जिसके बाद एनएचएआई द्वारा सत्यापित करके जीरो बैलेंस Fastag को जारी किया जाता हैं.

टोल टैक्स के अलावा कुछ महत्वपूर्ण कामों के लिए फास्टैग का उपयोग

वर्ष 2019 के दिसंबर महीने में बिकने वाले जितने भी चार पहिया वाहन हैं. उनमें Fastag लगाना आप बहुत ही आवश्यक कर दिया गया था. क्योंकि सरकार का यह निर्देश था कि जितने भी गाड़ी निर्माता कंपनी हैं और जो वाहन डीलर हैं.

उनको यह सुनिश्चित करना हैं कि 1 दिसंबर के बाद जितने भी चार पहिया वाहन बेचा जा रहा हैं. उसमें उनके मालिक के द्वारा फास्टैग को लगवाना जरूरी हैं.

  • यदि गाड़ी में फास्टैग लगा हुआ हैं तो आसानी से ट्रांसपोर्ट फिटनेस सर्टिफिकेट को रिन्यू कराया जा सकता हैं.
  • यदि आपके गाड़ी में फास्टैग नहीं लगा हुआ हैं तो आप 2021 वर्ष अप्रैल माह के बाद अब जितने भी वाहन जिसमे फास्टैग नहीं लगा हैं. उन वाहनों के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस भी नहीं कराया जा सकता हैं.
  • राष्ट्रीय परमिट के लिए Fastag को भी आवश्यक कर दिया गया हैं.

कुछ महत्वपूर्ण सवाल  

फास्टैग रिचार्ज कैसे करें 

फास्टैग रिचार्ज करने के लिए अपने मोबाइल के प्ले स्टोर से फास्टैग ऐप को डाउनलोड करके आप रिचार्ज कर सकते हैं.

कितने दिनों के लिए मान्य हैं 

एक बार आप अपने वाहन में लगा लेते हैं तो अगले 5 साल तक के लिए मान्य हैं. 

फास्टैग से टोल टैक्स कैसे जमा करें 

फास्टैग से टोल टैक्स जमा करने के लिए आपको कुछ नहीं करना हैं. बस आपकी वाहन के आगे जो भी स्ट्रीकर लगा हुआ हैं जैसे ही गाड़ी टोल प्लाजा पर पहुंचता हैं वहां पर उसको अपने आप टोल प्लाजा पर लगे रिडर सिस्टम के द्वारा उसको आईडेंटिफाई करके आपके फास्टैग से पैसा काट लिया जाता हैं.

ये भी पढ़े

सारांश 

फास्टैग क्या हैं फास्टैग का कैसे उपयोग किया जाता हैं. फास्टैग के बारे में पूरी जानकारी यहां दी गई हैं. फिर भी फास्टैग से संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल आपके मन में हैं तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें.

फास्टैग के बारे में दी गई जानकारी आपको कैसा लगा. अपना राय जरूर दें और इस जानकारी को अपने दोस्त मित्रों के साथ शेयर भी जरूर करें.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment