कंप्‍यूटर क्‍या हैं

यहॉं पर आपको Computer in hindi क्‍या हैं Computer in hindi कैसे काम करता हैं Computer का आविष्‍कार कब हुआ था और अन्‍य कंप्‍यूटर से संम्‍बन्‍धित पूरी जानकरी हिन्‍दी में यहां पर दी गयी हैं। कंप्‍यूटर कितने प्रकार के होते हैं

Contents

कंप्यूटर क्या है What is Computer in hindi 

कंप्यूटर क्या है आसान भाषा में यदि कहा जाए तो कंप्यूटर एक मशीन है जिसकी सहायता से सभी प्रकार के कार्यों को बहुत ही आसानी से और कम समय में किया जा सकता है Computer अग्रेंजी के compute शब्‍द से बना हैं। जिसका अर्थ गणना करना होता हैं। कप्‍यूटर को हिन्‍दीं में संगणक भी कहा जाता हैं। वैसे कंप्यूटर क्या है इसके बारे में परिभाषित किया जाए तो इसका परिभाषा अनंत हो सकता हैं।

लेकिन मुख्य रूप से कंप्यूटर क्या है इसके बारे में अभी बताया जाए तो कंप्यूटर एक इल्‍केट्रोनिक्‍स डिवाइस है मशीन हैं। जिसकी सहायता से किसी भी प्रकार की कैलकुलेशन को बिलकुल आसानी से कर दे उसे कंप्यूटर डिवाइस कहते हैं कंप्यूटर का अविष्कार सन 1833 ई० में हुआ था। जिसका अविष्‍कार इंग्‍लैंड के वेज्ञानिक चार्ल्स बैबेज के द्वारा किया गया था। कंप्यूटर को एक हार्डवेयर मशीन भी कहा जाता है।

 कंप्यूटर का इतिहास क्या हैं Computer in hindi 

कंप्यूटर का इतिहास 5000 वर्ष पुराना है उस समय चीन के द्वारा abcus को केलकुलेटर का आकार दिया गया था जिसके द्वारा कुछ गणितीय जोड़ का काम किया जाता था लेकिन उस केलकुलेटर के द्वारा गुणा भाग या अन्य प्रकार के जो कैलकुलेशन होते थे वह नहीं हो पाता था। –How to earn money from home

फिर वर्ष 1916 में एक नेपियर बोंस के नाम से दूसरा केलकुलेटर का आविष्कार किया गया जिस कैलकुलेटर से घटाव गुणा भाग जोड़ आदि का काम किया जाता था और ऐसे ही धीरे-धीरे केलकुलेटर का जो मशीन होता था उसमें बदलाव करते करते एक मशीन के रूप में आकार दिया जाने लगा फिर पास्कल नाम से एक मशीन का आविष्कार किया गया।

 कंप्यूटर का इतिहास

जिस मशीन से कैलकुलेशन को बहुत ही तेजी से किया जा सकता था इस मशीन का नाम मैकेनिकल कैलकुलेटर रखा गया था और इस मशीन को बनने के बाद जो गणितीय कैलकुलेशन था वह बहुत ही आसानी से किया जाने लगा। कंप्यूटर के मुख्य पार्ट्स के बारे में जानें

ऐसे ही कैलकुलेटर मशीन से संबंधित एक दो और अविष्कार हुए और धीरे-धीरे कुछ दिनों के बाद डिफरेंस इंजन नाम के एक मशीन का आविष्कार कंप्यूटर के जनक चार्ल्स बैबेज के द्वारा तैयार किया गया और उसके बाद से ही कंप्यूटर का आकार के रूप में मशीन का धीरे-धीरे विस्तार किया जाने लगा।

computer in hindi  

कंप्यूटर की पीढ़ियां Computer in hindi

कंप्यूटर का शुरुआत से लेकर अभी तक जितने भी जनरेशन आए हैं उन सभी के बारे में जानना बहुत जरूरी है सबसे पहले पहला जनरेशन का जो कंप्यूटर था वह vaccum tubes के नाम से जाना गया दूसरे जनरेशन का कंप्यूटर ट्रांजिस्टर कंप्यूटर के नाम से जाना गया तीसरे जनरेशन का जो कंप्यूटर बना उसका को इंटीग्रेटेड क्रिकट कंप्यूटर के नाम से जाना गया चौथे जनरेशन का जो कंप्यूटर का आविष्कार हुआ उस कंप्यूटर को माइक्रो प्रोसेसर कंप्यूटर के नाम से जाना गया और वर्तमान में अभी पांचवा जनरेशन जो कंप्यूटर का हम लोग इस्तेमाल कर रहे हैं उस कंप्यूटर का नाम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंप्यूटर के नाम से जानते हैं।Generation of computer in hindi  कंप्यूटर की पीढि़याॅँँ 

पार्ट्स ऑफ कंप्यूटर Computer in hindi

  1. Main parts of computer in Hindi
  • CPU
  • Monitor
  • UPS
  • Keyboard
  • Mouse
  • Printer
  • Screener
  1. Important parts of computer on the basis of device.
  • Input device
  • Output device
  • Storage device

कंप्‍यूटर के प्रकार Computer kya hai

On behalf of computer size

 

  • Micro computer
  • Mini computer
  • Mainframe computer
  • Supercomputer

On behalf of mechanism of computer

  • Analogue computer
  • Digital computer
  • Hybrid computer

सॉफ्टवेयर क्‍या हैं what is software

On behalf of general uses of computer 

  • Generally used computer
  • Specially used computer
  • Mobile device computer
  • Tab used as computer

How does Computer Works 

कंप्यूटर काम कैसे करता है जब कभी भी हम लोग कंप्यूटर को कुछ भी इनपुट देते हैं तो अपने मशीन के अंदर उस इनपुट किए गए डाटा को प्रोसेस करके और उसका रिजल्ट हम लोगों को आउटपुट के माध्यम से प्रदान करता है।इस कार्य को करने में कंप्यूटर को बहुत ही कम समय लगता है।और कंप्यूटर बहुत ही फास्ट आउटपुट रिजल्ट देता है।इसीलिए कंप्यूटर को फास्ट आउटपुट्स मशीन भी कहते हैं।

Main Parts of Computer 

कंप्यूटर के मुख्य पार्ट्स कौन-कौन से होते हैं कंप्यूटर का मुख्य पार्ट्स निम्‍नलिखित प्रकार के होते हैं। जैसे कि सीपीयू , मॉनिटर , कीबोर्ड, यूपीएस, माउस, और स्‍पीकर ये सारे कंप्यूटर के मुख्य पार्ट्स होते हैं इन सारे पार्ट्स को एक हार्डवेयर मशीन भी कहा जाता है कंप्यूटर के मुंख्‍य और महत्वपूर्ण पार्ट्स होते हैं इन सारे पार्ट्स मिलकर के एक डेक्‍सटॉप ऑफ कंप्यूटर के रूप में काम करते हैं।

Two important things of Computer 

कंप्यूटर के दो महत्वपूर्ण भाग होते हैं पहले भाग को हार्डवेयर कहा जाता हैं। और दूसरे भाग को सॉफ्टवेयर कहा जाता हैं।हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर मिलकर के किसी भी कंप्यूटर के कार्य को करते हैं।

Hardware role in Computer

हार्डवेयर किसे कहते हैं हार्डवेयर वैसे वस्तु जिनको हम लोग देख सकते हैं छू सकते हैं। वैसे वस्तुओं को हमलोग हार्डवेयर कहते हैं। जैसे मॉनिटर, सीपीयू, यूपीएस, कीबोर्ड, माउस, प्रिंटर, स्पीकर,पेन ड्राईव,एक्‍सरे मशीन आदि ये सभी हार्डवेयर के पार्टस होते हैं। कंप्यूटर मेमोरी क्या है 

Software role in Computer 

सॉफ्टवेयर किसे कहते हैं सॉफ्टवेयर हम उसे कहते हैं जिसको हम लोग देख नहीं सकते, छू नहीं सकते लेकिन महसूस  कर सकते हैं। उसे हम लोग सॉफ्टवेयर कहते हैं। सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते हैं। सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर सिस्टम सॉफ्टवेयर किसे कहते हैं सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्‍यूटर को मुख्‍य सॉफ्टवेयर होता हैं। सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्‍यूटर सिस्‍टम का कन्‍ट्रोंलर होता हैं। ये सारे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को कंट्रोल करता हैं। एप्‍लीकेशन सॉफ्टवेयर पर हमलोग काम करते हैं। ये सर्विस प्रोभाईडर का काम करता हैं। एप्‍लीकेशन सॉफ्टवेयर का उदाहरण हैं जैसे कि माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस,जावा,टैली,फोटोसॉप और पीएचपी ये सारे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर हैं।कंप्‍यूटर का विशेेषता क्‍या हैं

Computer शब्द का फुल फॉर्म हिन्‍दीं में क्या होता है

  • सी- आम तौर पर
  • ओ- संचालित
  • एम- मशीन
  • पी- विशेष रूप से
  • यू- प्रयुक्‍त
  • टी- तकनीकी
  • ई- शैक्षणिक
  • आर- अनुसंधान

कंप्‍यूटर के मशीन है जिसका उपयोग आमतौर पर तकनीकी अनुसंधान के लिए किया जाता हैं। कंप्‍यूटर का संचालन मानव के डाटा इनपुट के अनुसार होता हैं।

In English

Computer का फुल फॉम अग्रेंजी में

Commonly Operated Machine Particularly Used in Technical Educational Research

  • C – Commonly
  • O – Operated
  • M – Machine
  • P – Particularly
  • U – Used
  • T – Technical
  • E – Educational
  • R – Research

इनपुट्स Computer kya hota hai 

कंप्यूटर की संरचना में हम लोग सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट के बारे में ऊपर में जानकारी पाए हैं उसके बाद जो ऑप्शन होता है वह इनपुट का काम होता है और इनपुट कंप्यूटर के वह हार्डवेयर का भाग होता है जिसके माध्यम से कंप्यूटर में किसी प्रकार के डाटा को इंटर करते हैं उसके बाद सॉफ्टवेयर के जो कमांड होते हैं वह जिस तरह का कार्य होता है उसके लिए और निर्देशित करते हैं और फिर कंप्यूटर की सीपीयू के माध्यम से प्रोसेस होता है कंप्यूटर में किसी भी प्रकार के इनपुट देने के लिए कीबोर्ड या माउस इत्यादि डिवाइस का उपयोग किया जाता है और यह एक इनपुट डिवाइस के रूप में काम करता है।

रैम क्या है Computer in hindi 

RAM का फुल फॉर्म रीड ओनली मेमोरी होता है और यह परिवर्तनशील मेमोरी होता है जिसको भोला टाइल मेमोरी कहते हैं कंप्यूटर में जब किसी भी प्रकार के डाटा को प्रोसेस किया जाता है उस समय रैम डाटा को प्रोसेस करता है और डाटा को अपने पास यह स्टोर नहीं करता है रैम का इस्तेमाल कंप्यूटर में डाटा को प्रोसेस करने के लिए किया जाता है। रैम में जो भी डाटा को प्रोसेस किया जाता है उस डाटा को रैम अपने पास स्टोर नहीं करता है और जब कंप्यूटर बंद हो जाता है तब वे डाटा नष्ट हो जाते हैं।

 

रीड ओनली मेमोरी को ROM कहते हैं इसका काम कंप्यूटर के डाटा को रीड करना यानी कि पढ़ना होता है कंप्यूटर मेमोरी में रोम एक स्थाई मेमोरी होता है जिस को परमानेंट मेमोरी कहते हैं रोम में स्टोर किए गए डाटा कंप्यूटर बंद हो जाने के बाद भी नष्ट नहीं होता है क्योंकि ROM एक (non volatile storage memory है इसको आप परिवर्तनशील मेमोरी) कहते हैं।

रोम  के कुछ प्रकार Computer in hindi 

PROM:- programmable read only memory यह एक ऐसा मेमोरी है जिसको कंप्यूटर के बंद हो जाने के बाद भी जो इसमें डाटा मौजूद रहता है उसे मिटाया नहीं जा सकता या उस में कुछ बदलाव नहीं किया जा सकता है जो डाटा एक बार इसमें संग्रहित कर दिया जाता है उसे मिटाया नहीं जा सकता है।

EPROM:- Erasable programmable read only memory ई प्रोम मेमोरी में स्टोर किए गए डाटा को पराबैगनी किरणों के द्वारा मिटाया या हटाया जा सकता है और इसमें नए प्रोग्राम को स्टोर भी किए जा सकते हैं। EEPROM:- electrical programmable read only memory फुल फॉर्म होता है इस मेमोरी में जो प्रोग्राम या डाटा होते हैं उसको विद्युतीय विधि से मिटाया हटाया जा सकता है।  नेटवर्क क्या है और कितने प्रकार  के होते हैं

सेकेंडरी मेमोरी क्या है (सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस क्या है) 

रीड ओनली मेमोरी की तरह है सेकेंडरी मेमोरी यानी कि सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस जो होता है वह नॉन वोलेटाइल मेमोरी के नाम से जाना जाता है जिसको हिंदी में और परिवर्तनशील स्टोरेज डिवाइस के नाम से जानते हैं सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस में डाटा को परमानेंटली स्टोर कर सकते हैं इसमें डाटा को संग्रहित करना सुरक्षित होता है और इस डाटा को कंप्यूटर के यूजर कभी भी एक्सेस कर सकते हैं सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस यानी कि सेकेंडरी मेमोरी जो होता है वह कंप्यूटर का मुख्य भाग नहीं होता हैसेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के रूप में हार्ड डिक्स सीडी डीवीडी पेन ड्राइव इत्यादि का उपयोग किया जाता है।

सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस की विशेषता 

  • इसका डाटा स्थाई रूप से मेमोरी में स्टोर रहता है।
  • इसमें स्टोर किए गए डाटा हमेशा के लिए मौजूद रहता है।
  • सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस का स्टोरेज क्षमता बहुत ज्यादा होता है।
  • इसका स्टोरेज गति थोड़ा धीमा होता है।
  • कंप्यूटर बंद हो जाने के बाद भी डाटा सुरक्षित रहता है।

कैचे मेमोरी क्या है computer in hindi

कैचे मेमोरी एक मेमोरी होता है जो सीपीयू के साथ तेजी गति से डाटा को प्रोसेस करने के लिए काम करता है सीपीयू में जब किसी प्रकार के डाटा को प्रोसेस करने के लिए इनपुट दिया जाता है तो उसके लिए कैचे मेमोरी बहुत ही तेजी गति से डाटा को प्रोसेस करता है कैचे मेमोरी मेन मेमोरी के साथ जुड़ा रहता है और यह काम को बहुत ही तेज गति से करने में मदद करता है। कैचे मेमोरी में कार्य करने की क्षमता अधिक होता है और इसमें प्रोग्राम या डाटा को बार-बार साफ करना पड़ता है क्योंकि इसका स्टोरेज क्षमता जो होता है वह कम होता है। कंप्यूटर वायरस क्या है 

कंप्यूटर मेमोरी यूनिट्स को कैसे मापते हैं computer in hindi 

कंप्यूटर पूर्ण रूप से बायनरी नंबर को ही है समझता है कंप्यूटर में किसी भी लैंग्वेज में डाटा को प्रोसेस करते हैं तो वह डाटा कंप्यूटर अपने भाषा यानी कि बायनरी नंबर में परिवर्तित कर लेता है जिसको कंप्यूटर जीरो और एक के रूप में परिवर्तित कर के डाटा को प्रोसेस करता है।

Binary digits कोही bits मैं कैलकुलेट किया जाता है कंप्यूटर का सबसे छोटी इकाई bit होता है

अलग-अलग प्रकार के मापने की प्रक्रिया अलग होती है उसी प्रकार कंप्यूटर में मेमोरी को मापने के लिए बाइट  के हिसाब से मापा जाता है कंप्यूटर के स्टोरेज क्षमता को नापने के लिए मात्रकों का निर्धारण किया गया है जिसे कंप्यूटर के मेमोरी को नापा जाता है।

कंप्यूटर मेमोरी को बाइनरी डिजिट का एक सेट बनाया जाता है जिसकी संख्या 8 डिजिट में होती है और यही 8 डिजिट्स यानी कि 8 bit बराबर एक Byte होता है।कंप्यूटर का अनुप्रयोग

आउटपुट computer in hindi

कंप्यूटर में जब किसी प्रकार के डाटा या किसी प्रकार के कार्यों के लिए कंप्यूटर में कोई इनपुट दिया जाता है तब कंप्यूटर के सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट में मेमोरी यानी कि रीड ओनली मेमोरी के द्वारा कार्य को प्रोसेस किया जाता है और उसके बाद कंप्यूटर उस डाटा को प्रोसेस करके आउटपुट प्रदान करता है कंप्यूटर में जो आउटपुट हम लोग देख पाते हैं उस डिवाइस को मॉनिटर के नाम से जानते हैं मॉनिटर एक आउटपुट डिवाइस है जो कि कंप्यूटर के डाटा का आउटपुट को प्रस्तुत करता है।आप लोगों को ये जानकारी कैसा लगा आपलोग कमेंट करके अपना राय जरूर बतायें और लोगों को शेयर भी करें।

Computer science in hindi कंप्यूटर साइंस क्या है

लैपटॉप खरीदना से पहले इसे पढि़यें

कंप्‍यूटर के जनक कौन थें

कंप्यूटर का उपयोग

Leave a Comment

error: Content is protected !!