कंप्यूटर फंडामेंटल्स। कंप्यूटर का आधार। पूरी जानकारी 2023

कंप्यूटर का आधार, Computer Fundamental in hindi किसी भी चीज के बारे में जानने से पहले उसके जड़ के बारे में जानना चाहिए. उसका शुरुआत कैसे हुआ. उसका आधार क्या है.

कंप्यूटर के क्षेत्र में कंप्यूटर के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए सबसे जरूरी है कि कंप्यूटर के आधार Computer fundamentals के बारे में जानकारी प्राप्‍त करें.

computer fundamental के फायदे ,नुकसान , कंप्यूटर का उपयोग , कंप्यूटर का विशेषता , इतिहास , कंप्यूटर की पीढ़ियां इन सभी चीजों के बारे में नीचे विस्तार से जानकारी दी गई हैं. 

What is Computer Fundamental in hindi कंप्यूटर फंडामेंटल्स क्या हैं

Computer Fundamental का इतिहास 5000 वर्ष पुराना है उस समय चीन के द्वारा abcus को केलकुलेटर का आकार दिया गया था. जिसके द्वारा कुछ गणितीय जोड़ का काम किया जाता था. लेकिन उस केलकुलेटर के द्वारा गुणा भाग या अन्य प्रकार के जो कैलकुलेशन होते थे वह नहीं हो पाता था.

फिर वर्ष 1617 में एक नेपियर बोंस के नाम से दूसरा केलकुलेटर का आविष्कार किया गया. जिस कैलकुलेटर से घटाव गुणा भाग जोड़ आदि का काम किया जाता था. और ऐसे ही धीरे-धीरे केलकुलेटर का जो मशीन होता था. उसमें बदलाव करते करते एक मशीन के रूप में आकार दिया जाने लगा फिर पास्कल नाम से एक मशीन का आविष्कार किया गया.

computer fundamentals in hindi

जिस मशीन से कैलकुलेशन को बहुत ही तेजी से किया जा सकता था. इस मशीन का नाम मैकेनिकल कैलकुलेटर रखा गया था. और इस मशीन को बनने के बाद जो गणितीय कैलकुलेशन था. वह बहुत ही आसानी से किया जाने लगा.

ऐसे ही कैलकुलेटर मशीन से संबंधित एक दो और अविष्कार हुए और धीरे-धीरे कुछ दिनों के बाद डिफरेंस इंजन नाम के एक मशीन का आविष्कार कंप्यूटर के जनक चार्ल्स बैबेज के द्वारा 1833 में तैयार किया गया और उसके बाद से ही कंप्यूटर का आकार के रूप में मशीन का धीरे-धीरे विस्तार किया जाने लगा.

charles babbage image

कंप्यूटर की पीढ़ियां

Vaccum Tubes

TransistorIntegrated Circuit
MicroprocessorArtificial Intelligence
  • शुरुआत से लेकर अभी तक जितने भी जनरेशन आए हैं उन सभी के बारे में जानना बहुत जरूरी है सबसे पहले पहला जनरेशन का जो कंप्यूटर था वह vaccum tubes के नाम से जाना गया.
  • दूसरे जनरेशन का कंप्यूटर ट्रांजिस्टर कंप्यूटर के नाम से जाना गया.
  • तीसरे जनरेशन का जो कंप्यूटर बना उसका को इंटीग्रेटेड क्रिकट कंप्यूटर के नाम से जाना गया.
  • चौथे जनरेशन का जो कंप्यूटर का आविष्कार हुआ उस कंप्यूटर को माइक्रो प्रोसेसर कंप्यूटर के नाम से जाना गया.
  • और वर्तमान में अभी पांचवा जनरेशन जो कंप्यूटर का हम लोग इस्तेमाल कर रहे हैं उस कंप्यूटर का नाम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंप्यूटर के नाम से जानते हैं.

पार्ट्स ऑफ कंप्यूटर

Main parts of computer fundamental in Hindi

CPUMonitor
UPSKeyboard
MousePrinter
ScreenerSpeaker

Important parts of computer fundamentals on the basis of device

Input deviceOutput device
Storage deviceOptical device

 

कंप्‍यूटर के प्रकार

Computer fundamental On behalf of computer size 

MicrocomputerMini computer
Mainframe computerSupercomputer

Computer fundamental On behalf of the mechanism of computer

Analog computerDigital computer
Hybrid computerQuantum computer

Computer fundamental On behalf of general uses of computer 

Generally used computerSpecially used computer
Mobile device computerTab used as computer

 

कंप्यूटर क्या है – Computer Fundamental

कंप्यूटर एक मशीन है एक इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस है. कंप्यूटर एक यंत्र है जिससे गणना से संबंधित कैलकुलेशन से संबंधित प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर से संबंधित कामों को बहुत ही जल्द एवं तेजी से कर लिया जाता है. कंप्यूटर शब्द का उत्पत्ति कंप्यूट शब्द से हुआ है. कंप्यूट शब्द का मतलब होता है. गणना करना कंप्यूट शब्द से ही कंप्यूटर शब्द का निर्माण हुआ है.

Computer

कंप्यूटर का निर्माण कैसे हुआ

कंप्यूटर को बनाने के लिए दो चीजों की आवश्यकता होती है. सबसे पहला चीज हार्डवेयर और दूसरा सॉफ्टवेयर. हार्डवेयर सॉफ्टवेयर दोनों को जब एक साथ तैयार किया जाता है. दोनों को एक दूसरे के परस्पर बनाया जाता है. तब एक कंप्यूटर का निर्माण होता है. जिससे सभी तरह के कैलकुलेशन एवं कंप्यूटर संबंधित जितने भी काम होते हैं उसको किया जाता है.

Hardware

हार्डवेयर एक ऐसा वस्तु होता है जिसको देखा जा सकता है उसको छुआ जा सकता है वैसे जितने भी वस्‍तु हैं जिनको देख सकते हैं छू सकते हैं. वैसे वस्तुओं को हार्डवेयर कहा जाता है. कंप्यूटर के भाषा में हार्डवेयर के रूप में सीपीयू मॉनिटर कीबोर्ड माउस यूपीएस प्रिंटर स्केनर यह सभी एक हार्डवेयर डिवाइस होते हैं जो कंप्यूटर में काम करते हैं.

Hardware image

Software

सॉफ्टवेयर एक सेट किया हुआ प्रोग्राम होता है जिसके मदद से कंप्यूटर में किसी भी तरह के कामों को किया जाता है. यदि कंप्यूटर का हार्डवेयर मौजूद हो लेकिन उसमें सॉफ्टवेयर को नहीं डाला जाए तब तक कंप्यूटर कुछ भी नहीं कर सकता है.

Software image

एक लोहे के समान होता है जब कंप्यूटर हार्डवेयर में सॉफ्टवेयर को डाला जाता है. इंस्टॉल किया जाता है तब वह एक कंप्यूटर के रूप में काम करना शुरू करता है.

सॉफ्टवेयर दो प्रकार का होता है

System software

जब कंप्यूटर हार्डवेयर को तैयार कर लिया जाता है. उसके बाद उस कंप्यूटर हार्डवेयर में सिस्टम सॉफ्टवेयर को सबसे पहले इंस्टॉल किया जाता है. सिस्टम सॉफ्टवेयर को ही ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम से जाना जाता है. जैसा कि विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम लाइनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम मैकिनटोश ऑपरेटिंग सिस्टम ये सारे ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर होते हैं.

इन सभी ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर को ही सिस्टम सॉफ्टवेयर के नाम से जाना जाता है और कंप्यूटर को ऑपरेट करने के लिए कंप्यूटर हार्डवेयर को एक पूर्ण कंप्यूटर बनाने के लिए जरूरी है कि उसमें सिस्टम सॉफ्टवेयर को सबसे पहले डाला जाए. सिस्टम सॉफ्टवेयर सारे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को कंट्रोल करता है.

Application software

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन के नाम से ही पता चलता है कि एक ऐसा एप्लीकेशन जिसमें सभी तरह के खाका उसका डिजाइन एवं इंस्ट्रक्शन पहले से ही तैयार कर लिया गया होता है. वैसे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर में डाल कर के किसी भी तरह के कामों को किया जाता है.

उदाहरण के लिए माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर है जिसमें माइक्रोसॉफ्ट वर्ड माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल माइक्रोसॉफ्ट पावरप्वाइंट माइक्रोसॉफ्ट एक्सेस में अलग-अलग तरह के कंप्यूटर से संबंधी कामों को किया जाता है.

कंप्यूटर कैसे काम करता है

कंप्यूटर अपने आप काम नहीं करता है कंप्यूटर को चलाने के लिए एक यूजर होता है. जब यूजर के द्वारा कंप्यूटर में किसी भी तरह का कोई इनपुट दिया जाता है. तब कंप्यूटर उसको प्रोसेस करता है और प्रोसेस करने के बाद उसका आउटपुट डिस्प्ले करता है.

इस तरह से कंप्यूटर में किसी भी तरह के कामों को किया जाता है. कंप्यूटर में जो भी इनपुट दिया जाता है वह अपने भाषा में बायनरी लैंग्वेज में कन्वर्ट कर लेता है और उसको प्रोसेस करके यूजर के स्क्रीन पर उसके रिजल्ट को डिस्प्ले कर देता है.

InputProcessingOutput

 

कंप्यूटर के विशेषता

Fast

एक मनुष्य के दिमाग से भी बहुत ही ज्यादा तेज गति से कामों को करने वाला एक ऐसा मशीन है जिसको कंप्यूटर के नाम से जाना जाता है.

Accuracy

हम इंसान जब किसी भी तरह का गणना या किसी भी तरह काम को करते हैं तो उसमें हो सकता है कि कभी न कभी कोई गलती हो जाए लेकिन कंप्यूटर जो भी रिजल्ट दिखाता है वह बिल्कुल हीं शुद्ध और सही होता है.

Diligence

हम इंसान काम करते करते थक जाते हैं लेकिन कंप्यूटर कभी भी थकता नहीं है और थक करके ऐसा नहीं हो सकता कि वह गलत किसी भी तरह का कोई उत्तर दे दे कंप्यूटर लगातार और बिना गलती किए हुए काम करता है.

Storage capability

हम इंसान अपने दिमाग में किसी भी चीज को किसी भी बातों को स्टोर करके रखते हैं लेकिन यदि उसको बार-बार पुनरावृति न किया जाए तो भूलने की संभावना हो सकती है. लेकिन कंप्यूटर में जब किसी भी टेक्स्ट फाइल पिक्चर वीडियो ऑडियो आदि को रखा जाता है तो उसमें बिल्कुल भी भूलने की खोने की संभावना नहीं होता है.

Memory

इंसान की मेमोरी की तुलना में कंप्यूटर का जो मेमोरी है दिमाग है वह बहुत ही तेज है कंप्यूटर के मेमोरी में किसी भी डाटा को कैलकुलेट  करते समय किसी भी तरह का एरर की संभावना नहीं होता है.

Internet

कंप्यूटर के साथ इंटरनेट जुड़ने के कारण दुनिया के किसी भी जगह किसी भी स्थान किसी भी व्यक्ति से जुड़ना तथा अपने विचारों को साझा करना डाटा को शेयर करना बहुत ही आसान हो गया है.

कंप्यूटर का उपयोग

In house

अब तो लोग अपने घर में भी computer का इस्तेमाल करते हैं. क्योंकि घर में यदि किसी भी तरह के डाटा को आप रखना चाहते हैं या घर का जो खर्च है या घर में जो भी सामग्री है सामान है उसका विवरण आप रखना चाहते हैं या बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं तो उसके लिए घर में कंप्यूटर का लोग इस्तेमाल कर रहे हैं.

School

बच्चों को पढ़ाने के लिए या फिर स्कूल के सारे डेटा को मैनेज करने के लिए मैनेजमेंट के लिए स्कूल की निगरानी के लिए या स्कूल में हर तरह के कामों को करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा है.

Railway

देश का सबसे बड़ा यात्रा करने का माध्यम रेलवे है और रेलवे का इतने बड़ा नेटवर्क होने के बाद भी उसके सारे मैनेजमेंट हर तरह के ट्रेकिंग के लिए टिकटिंग के लिए रिजर्वेशन के लिए कंप्यूटर का उपयोग रेलवे में भी किया जा रहा है. कंप्यूटर के आने के बाद से रेलवे का पूरा जो सिस्टम है वह बहुत ही ज्यादा मजबूत अच्छा एवं बेहतर तरीके से काम कर रहे हैं.

Bank

कंप्यूटर के उपयोग के कारण ही आज बैंकिंग प्रणाली इतना आसान हो गया है कि लोग अब अपने घर से ही किसी भी तरह का लेन-देन बहुत ही आसानी से कर पा रहे हैं. बैंकिंग क्षेत्र में कंप्यूटर के कारण आज पैसा निकालना पैसा किसी को भेजना तथा घर बैठे अपने बैंक खाता से किसी भी तरह का सामान का खरीदारी कर लेना यह सब कुछ बहुत ही आसान हो गया है.

कंप्यूटर से नुकसान

चाहे कितना भी कोई भी चीज अच्छा हो लेकिन उसका कोई न कोई ऐसा चीज जरूर होता है जिससे नुकसान होता है. ठीक वैसे ही कंप्यूटर एक बहुत ही अच्छा मशीन है टेक्नोलॉजी है यंत्र है.

लेकिन इसका भी नुकसान है क्योंकि कंप्यूटर पर कभी-कभी ऐसा होता है कि उसमें किसी भी तरह का फोन्‍ट आज आने के बाद पूरा जो सिस्टम है काम है वह पूरी तरह से ठप हो जाता है बंद हो जाता है तो कंप्यूटर पर लोग पूरी तरह से आश्रित हो चुके हैं.

कंप्यूटर सेहत के लिए खतरा कंप्यूटर पर दिन भर काम करने से लगातार कंप्यूटर पर काम करने से आंख में समस्या शरीर में थकावट महसूस होना तथा कंप्यूटर से निकलने वाले जो हानिकारक तत्‍व होते हैं. उससे शरीर में तरह तरह के नुकसान होते हैं जिससे शारीरिक परेशानियां लोगों को महसूस करना पड़ता है तथा जूझना पड़ता है.

सारांश 

कंप्यूटर फडामेंटल का शुरुआत कैसे हुआ कंप्यूटर कैसे काम करता है. कंप्यूटर का इतिहास कंप्यूटर की पीढ़ियां Computer Fundamental in hindi से संबंधित पूरी जानकारी इस लेख में देने का प्रयास किया गया है.

फिर भी यदि इससे संबंधित यदि किसी भी तरह का कोई सवाल या सुझाव आपके मन में हो तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें. तथा computer fundamental के बारे में दी गई जानकारी को अपने दोस्त मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी जरूर करें.

2 thoughts on “कंप्यूटर फंडामेंटल्स। कंप्यूटर का आधार। पूरी जानकारी 2023”

Leave a Comment