वेब होस्टिंग क्‍या हैं उपयोग विशेषता 2022

इंटरनेट पर जब कभी भी हम लोग किसी वेबसाइट को बनाने के बारे में सोचते हैं. तो उसके लिए हम लोगों को what is web hosting in hindi की आवश्यकता होती हैं. डोमिन और Web hosting kya hai के बारे में इस लेख में नीचे विस्‍तार से जानकारी दी गई हैं.

वेब होस्टिंग क्या है वेब होस्टिंग का उपयोग क्यों किया जाता है वेब होस्टिंग का जरूरत क्या है  वेब होस्टिंग कैसा होता है वेब होस्टिंग कैसे खरीदना चाहिए इसका उपयोग क्‍या है कौन सा सबसे बेहतर वेब होस्टिंग होता है.

होस्टिंग कितने प्रकार का होता है इस तरह का सवाल हम सभी के मन में जरूर आता होगा. यदि आप भी इन सवालों से परेशान हैं तो आइये इस लेख में हम लोग Web hosting in hindi के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं.

What is web hosting in hindi

वेब होस्टिंग का मतलब क्या होता है  सबसे पहले आइए इसको समझते हैं होस्टिंग का मतलब होता है मेजबानी करना जब कोई भी व्यक्ति अपने घर पर या कहीं पर भी लोगों का स्वागत करता है तो उसको मेजबान कहा जाता है अंग्रेजी में उसको होस्ट कहा जाता है.

होस्ट शब्‍द से होस्टिंग बना है इंटरनेट की दुनिया में होस्टिंग वेब होस्टिंग का मतलब होता है कि जो भी वेबसाइट बनाया जाता है, उसका जो भी डाटा होता है जैसे की टैक्स, इमेज बीडीओ फोटोज इन सभी को रखने के लिए जो जगह होता है, उसी जगह को वेब होस्टिंग के नाम से जाना जाता है.

what is web hosting in hindi

Web hosting kya hai in hindi

बहुत ही आसान भाषा में हम लोग समझे तो Web hosting एक प्रकार का जगह होता हैं. जहां पर हम लोग अपने वेबसाइट के डाटा फाइल इमेज को स्टोर करते हैं. और जब कभी भी किसी यूजर के द्वारा इंटरनेट पर वेबसाइट पर जाकर के किसी भी इंफॉर्मेशन को सर्च किया जाता हैं.

तो Web hosting के द्वारा उस डाटा को फिर से क्लाइंट्स यूजर के पास भेजा जाता हैं. आसान भाषा में हम लोग  उदाहरण से समझते हैं. जैसे हम लोग एक मकान बनाते हैं. और उसमें हम लोगों का अपना सामान घर का जितना भी होता हैं.

वहां पर रख देते हैं. अब जब किसी व्यक्ति को किसी सामान की आवश्यकता होती हैं. तो हम लोगों के पास संदेश भेजता हैं, कि आपके घर से मुझे यह सामान चाहिए. फिर हम लोग अपने घर से उस सामान को उस व्यक्ति के पास भेज देते हैं .

उसी तरह से जब कोई व्यक्ति वेबसाइट को सर्च करके. और किसी भी इंफॉर्मेशन को वहां पर पाना चाहता हैं. तो जब वह क्लिक करता हैं, तो रिक्वेस्ट वेब होस्टिंग सर्वर के पास जाता हैं. और वहां से डाटा यूजर के कंप्यूटर पर दिखने लगता हैं. इसी को हम लोग Web hosting कहते हैं. वेबसाइट के जितने भी डाटा होते हैं. उस डाटा को रखने के लिए web hosting लेना जरूरी है.

होस्टिंग कैसे काम करता हैं

वेब होस्टिंग का काम करने का तरीका यह हैं, कि जब कभी भी वेबसाइट के ऊपर बहुत सारी यूजर बहुत प्रकार के इंफॉर्मेशन को सर्च करते हैं . तब सारे यूजर का जो इंफॉर्मेशन होता हैं. वह Web server के पास जाता हैं और वहां से वेब hosting सर्वर से डाटा यूजर के कंप्यूटर पर fetch होकर दिखने लगता हैं.

इस प्रोसेस को हम लोग करने के लिए यूजर कंप्यूटर इंटरनेट और वेब सर्वर तीनों मिलकर के एक साथ काम करते हैं . तब यह सारा प्रोसेस होता हैं. हम लोग किसी भी डाटा को इंटरनेट पर जब सर्च करते हैं . तो उसका डाटा जिस सर्वर में रहता हैं.

मतलब उस वेबसाइट का सर्वर अमेरिका में, या किसी भी कंट्री में भी हो सकता हैं. वहां से उस डाटा को सर्च करके . और यूजर जहां पर सर्च करता हैं. वहां पहुंचा देता हैं.

होस्टिंग कैसे खरीदें

वेब होस्टिंग खरीदने के लिए हम लोग ऑनलाइन मुख्य रूप से चार वेबसाइट को विजिट करके, Web hosting खरीद सकते हैं. वेब होस्टिंग खरीदने के पहले यूजर को यह जानकारी होना चाहिए, कि जो भी हम hosting खरीद रहे हैं.

उसका होस्टिंग पॉइंट हमारे देश में हैं, या उसका होस्टिंग पॉइंट हमारे देश से बाहर हैं. यदि आप होस्टिंग खरीदते समय जहां रहते हैं. और उसी देश का होस्टिंग खरीदते हैं, तो वेबसाइट के स्पीड और डाटा fetching के लिए काफी अच्छा होता हैं. आजकल होस्टिंग खरीदना बहुत ही आसान हो गया हैं. होस्टिंग खरीदने के लिए मुख्य रूप से इन वेबसाइटों को विजिट कर सकते हैं.

  • गोडैडी
  • बिंगरॉक
  • होस्‍टगेंटर
  • होस्‍टीन्‍जर

पर काफी सस्‍ता होसटिंग खरीद सकते हैं. Cheap web hosting.

Types of Web hosting

Shared Hosting – इस तरह के होस्टिंग में एक ही कंप्‍यूटर पर बहुत प्रकार के वेबसाइट का सर्वर रहता हैं. जहां से डाटा को सभी वेबसाइटों के लिए प्रयोग किया जाता हैं. शेयर्ड होस्टिंग ऑन होस्टिंग के तुलना में सस्ता होता हैं.

शेयर्ड होस्टिंग में वेबसाइट का एसपी कभी-कभी ज्यादा ट्रैफिक होने के कारण धीमा हो जाता हैं. यहां तक कि कभी कभी आपका वेबसाइट बिल्कुल डाउन हो सकता हैं. लेकिन यदि आप ब्लॉग वेबसाइट या नया बिजनेस स्टार्ट कर रहे हैं, तो आप शेयर्ड होस्टिंग का प्रयोग कर सकते हैं.

VPS web hosting 

वर्चुअल प्राइवेट सर्विस होस्टिंग में बेहतर hosting सुविधाएं दी जाती हैं. इसमें एक डेडीकेटेड hosting की तरह ही सारी सर्विसेस प्रदान की जाती हैं. इसमें यूजर्स को ज्यादा फ्लैक्सिबिलिटी भी मिलता हैं.

क्योंकि इसमें आप अपने सुरक्षा के अनुसार कस्टमाइज कर सकते हैं. डेडीकेटेड hosting के तुलना में यह होस्टिंग सस्ता होता हैं. इसके प्राइवेसी और सिक्योरिटी भी बेहतर होता हैं. वीपीएस होस्टिंग मिडल लेवल के व्यापार के लिए अच्छा हैं. इस पर बहुत ज्यादा ट्रैफिक को हासिल किया जा सकता हैं. लेकिन यह शेयर्ड होस्टिंग के तुलना में महंगा होस्टिंग होता हैं.

Dedicated Hosting

इस hosting में एक वेबसाइट के लिए एक अपना सर्वर होता है. जिसमें उसी वेबसाइट के सारे डेटा और इंफॉर्मेशन को स्टोर किया जाता हैं. डेडीकेटेड सर्वर पर अनंत यूजर को हैंडल किया जा सकता हैं. इसका सर्वर कभी डाउन नहीं होता हैं.

वेबसाइट के स्पीड और स्वीकृति काफी अच्छा रहता हैं. डेडिकेटेड सर्विस सबसे महंगा सर्विस हैं. डेडिकेटेड सर्विस को यूज करने के लिए आपको कर्मचारी रखने की भी आवश्यकता होती हैं. क्योंकि इस को हैंडल करने के लिए किसी प्रोफेशनल की जरूरत पड़ता हैं. डेडीकेटेड सर्वर को बैंक या ई-कॉमर्स वेबसाइट के लिए अधिकतर उपयोग किया जाता हैं.

Cloud Hosting 

यह भी एक काफी अच्छा और बेहतर होस्टिंग हैं. क्लाउड Web hosting में एक वेबसाइट के लिए ढेर सारे सर्वर अलग-अलग जगहों पर काम करते हैं. जैसे किसी एक कंप्‍यूटर का काम करना बंद हो जाता हैं. तो क्लाउड होस्टिंग में जितने भी उसके और भी सर्वर होते हैं. वहां से वेबसाइट के डाटा को हैंडल किया जाता हैं.

क्लाउड होस्टिंग एक बहुत ही अच्छा होस्टिंग माना जाता हैं. एक बिजनेस प्रोफेशनल या ब्लॉग वेबसाइट के लिए , भी क्लाउड hosting सबसे अच्छा और डेडीकेटेड सर्वर , और वीपीएस सर्वर से तुलना में सस्ता hosting हैं. क्लाउड होस्टिंग में ढेर सारे सर्वर बनाए जाते हैं. जिससे वेबसाइट के सिक्योरिटी और स्पीड अच्छा रहता हैं.

क्लाउड होस्टिंग सर्वर क्लस्टर cloud के रिसोर्सेस का इस्तेमाल करता हैं. यहां पर सर्वर डाउन होने के चांसेस कम रहता हैं. इसलिए एक ब्लॉग वेबसाइट्स जो कि कुछ दिन पूर्व पुराना हो गया हैं. तो क्लाउड वेब होस्टिंग काफी बेस्ट ऑप्शन हैं.

Disk Space in Hosting 

जब कभी भी हम लोग वेब hosting परचेज करते हैं. तो वहां पर हम लोग डाटा और इमेज फोटो टेक्स्ट स्टोर कर सकते हैं. उसका लिमिटेशंस होता हैं. उसी को हम लोग डिस्क स्पेस कहते हैं. जब हम लोग वेब होस्टिंग परचेज खरीदते हैं.

तो उस समय यह ध्यान में रखना होता हैं, कि हमारे वेबसाइट के लिए स्टोरेज स्पेस कितना हैं. जिसके हिसाब से हम लोग अपने वेबसाइट के अंदर डाटा इमेज वीडियो फोटो रख सकते हैं.  

Bandwidth in Web hosting

बैंडविथ का मतलब होता हैं कि 1 सेकंड में मेरे वेबसाइट पर कितने सारे लोगों ने डांटा को एक्सेस किया हैं, या कर सकते हैं. उसे हम लोग बैंडविथ कहते हैं. जब कभी भी हम लोग वेब होस्टिंग खरीदते हैं, तो वहां पर बैंडविथ का इंफॉर्मेशन भी देखना होता हैं.

जब वेबसाइट से एक साथ ढेर सारे यूजर किसी इंफॉर्मेशन के लिए डाटा को एक्सेस करते हैं. तो उस समय बैंड विद जो हैं. यदि कम हो तो वेबसाइट डाउन हो सकता हैं. और डाटा को विजिटर्स एक्सेस नहीं कर पाएगा. इसे bandwidth कहा जाता हैं.

Uptime in Web hosting

इसका मतलब होता है कि 24 घंटा में कितने देर तक हमारे वेबसाइट्स के डाटा या इंफॉर्मेशन को कंप्‍यूटर भर के द्वारा भेजा जा रहा हैं. जब कभी भी हम लोगों का वेबसाइट डाउन हो जाता हैं. और ओपन नहीं होता हैं. उस समय को हम डाउन टाइम कहते हैं. आजकल हर कंपनी सौ परसेंट Uptime की गारंटी देता हैं.

Customer service in web hosting

कस्टमर सर्विस इन्वेस्टिंग किसी भी वेबसाइट से हम लोग जब वेब hosting खरीदते हैं. तो वहां पर कस्टमर सर्विस 24 * 7 मौजूद रहता हैं. जैसे यदि किसी प्रकार की कोई दिक्कत हमारे व्यवस्था में हो जाए , तो उसको ठीक करने के लिए हम लोग कस्टमर सर्विस का प्रयोग करते हैं.

तो सभी वेब होस्टिंग प्रोवाइडर्स जो भी कंपनी हैं. वह दावा करता है कि हम लोग 24 * 7  कस्टमर सर्विस प्रोवाइड करते हैं. web hosting buy करते समय कस्टमर सर्विस का भी ध्यान रखना चाहिए .

Linux operating system vs Windows operating system

किसी भी प्रकार के विभिन्न होस्टिंग जब हम लोग खरीदते हैं. किसी भी कंपनी से खरीदते हैं. तो हम लोग दो प्रकार के वेब hosting का ऑप्शन देखते हैं. जो कि डिफरेंट तरह-तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम पर उपयोग किया जाता हैं.

जैसे जब कभी भी हम लोग Web hosting को खरीदते हैं. तो वहां पर लाइनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का सर्वर प्रयोग किया जाता हैं. जैसे मेरा वेबसाइट हैं, और उसका जो सर्वर हैं. उसका ऑपरेटिंग सिस्टम लाइनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का यूज करता हैं. तो इसे हम लोग लाइनस ऑपरेटिंग Web hosting कह सकते हैं.

और यदि किसी वेबसाइट के वेब होस्टिंग का जो सर्वर हैं. वह विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करता हैं, और उस सिस्टम का सर्वर के लिए यूज करता हैं. तो उसका विंडोज ऑपरेटिंग Web hosting सर्वर होता हैं. लाइनेक्स या विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में Web hosting प्रयोग करने से कोई परेशानी नहीं हैं. किसी भी प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम पर Web hosting खरीदा जा सकता हैं.

ये भी पढ़े

साराशं 

इस लेख में वेब होस्टिंग क्या है Hosting कैसे खरीदे होस्टिंग का उपयोग क्‍या  है  वेब होस्टिंग Web hosting kya hai in hindi से संबंधित सारे सवालों का जवाब दिया गया है.

फिर भी यदि वेब होस्टिंग से संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल हो तो कृप्या कमेंट करके जरूर पूछें. वेब होस्टिंग के बारे में दी गई जानकारी.के बारे में कमेंट करके अपना राय जरूर दें तथा इस जानकारी को अपने दोस्त, मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर भी जरूर करें.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment