रैम क्या हैं रैम का उपयोग प्रकार एवं विशेषता

Computer Ram kya hai. Ram कितना होना चाहिए अक्सर हम लोग यदि एक स्मार्टफोन या लैपटॉप Computer खरीदते हैं  रैम क्या हैं Ram in hindi language तो यह सवाल मन में आता हैं कि रैम हमारे स्मार्टफोन या Computer लैपटॉप में कितना होना चाहिए. रैम उपयोग क्या हैं.

Ram यदि आप भी इन सभी सवालों का जवाब सर्च करते हुए इस post पर आए हैं तो यहॉं पर आपको रैम के बारे में पूरी जानकारी मिलने वाला हैं.

Computer या स्मार्ट फोन में जब एक से ज्यादा एप्लीकेशन या फिर एप्स को खोल करके इस्तेमाल किया जाता हैं.उस समय Computer के द्वारा वर्तमान में किए जा रहे काम के डाटा को निर्देशित करने के साथ-साथ उसको रैम में स्टोर तथा access करते रहता हैं.

Ram kya hai रैम क्या हैं

रैम को रेंडम एक्सेस memory कहते हैं. इसका मतलब Computer या स्मार्टफोन में जो किसी भी प्रोग्राम को रेंडमली एक्सेस करता हैं उसी को रैम कहते हैं. रैम Computer का या स्मार्टफोन का प्रमुख यानी कि प्राथमिक memory होता हैं

आइए एक उदाहरण से हम लोग रैम को समझते हैं जैसे रैम को हम लोग रेंडम एक्सेस memory के नाम से जानते हैं. इसमें जो memory शब्द हैं इसका मतलब होता हैं याददाश्त यानि याद करना होता हैं. जैसे इंसान का दिमाग किसी भी चीज के बारे में याद रखता हैं या उसको याद करता हैं या जरूरत के हिसाब से उसके बारे में सोचता हैं.

जैसे कोई इंसान एक बार में कई बातें याद करता हैं. जितना जिसके पास memory यानि दिमाग होता हैं उस तरह का उसके काम करने का क्षमता होता हैं. ठीक उसी प्रकार Computer या स्मार्टफोन में जो रैम हैं उसका भी काम ठीक दिमाग की तरह ही काम करता हैं.

स्मार्टफोन या Computer में बिजली का सप्लाई होते रहता हैं तब तक डाटा Ram के द्वारा एक्सेस किया जाता हैं. उसके बाद जैसे ही बिजली का कनेक्शन बंद हो जाता हैं या Computer बंद हो जाता हैं तो उसमें निर्देशित किए गए काम या डाटा पूरी तरह से डिलीट हो जाता हैं. क्योंकि रेंडम एक्सेस memory एक भोला टाइल memory हैं.

Ram kya hai

रैम का उपयोग 

किसी भी स्मार्टफोन या Computer में हम सभी लोग सुनते हैं जितना ज्यादा रैम होगा उतना ही अच्छा स्मार्टफोन होगा या Computer होगा.

तो क्या यह सही हैं आइए इसके बारे में आज हम लोग इसका पूरी जानकारी जान लेते हैं. जैसा कि एक समय में एक ही साथ यदि हम लोग अपने स्मार्टफोन या Computer में एक से ज्यादा एप्लीकेशन या ऐप का इस्तेमाल करते हैं.

उस समय किए जा रहे हैं सभी प्रकार के गतिविधियों का कार्य रैम के द्वारा ही किया जाता हैं. जैसे किसी व्यक्ति को एक ही समय में एक साथ अलग-अलग के कई तरह के कामों को या यादों को सहेजने को कहा जाए तो उसके दिमाग का जो काम करने का प्रक्रिया हैं. उसको उस समय ज्यादा तेज गति से बढ़ाना पड़ता हैं .

ठीक उसी प्रकार एक स्मार्टफोन या Computer में जितना ज्यादा रैम होगा उतना ही ज्यादा आप एक समय में एप्लीकेशन या एप्स का इस्तेमाल आसानी से कर पाएंगे.

कभी-कभी स्मार्टफोन का उपयोग करते समय हम सभी लोग महसूस करते हैं कि स्मार्टफोन स्लो हो जाता हैं या हैंग करने लगता हैं. यह जो समस्या होता हैं रैम कम होने के कारण ही स्मार्टफोन हैंगिंग प्रॉब्लम या स्लो समस्या से ग्रसित हो जाता हैं.

रैम क्या हैं

मुख्य रूप से मेमोरीदो प्रकार का होता हैं

  • प्राइमरी मेमोरी
  • सेकेंडरी मेमोरी

1. प्राइमरी मेमोरी

प्राइमरी Memory को ही Ram कहते हैं प्राइमरी मेमोरी का काम Computer में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता हैं. क्योंकि Computer memory में डाटा और उसका निर्देश सेल में स्टोर रहता हैं.

हर एक सेल का कुछ रो एवं कॉलम से मिलकर के बना रहता हैं. सबका अपना यूनिक एड्रेस भी होता हैं. इस यूनिक एड्रेस को सेल का path भी कहते हैं. जैसा कि ऊपर में रैम के बारे में जानकारी दिया गया हैं जो की पूरी तरह से प्राइमरी मेमोरी का उल्लेख हैं.

2. सेकेंडरी मेमोरी

सेकेंडरी Memory में Computer में जितने भी डाटा इमेज वीडियो ऑडियो को रखा जाता हैं. वे सभी डाटा सेकेंडरी memory यानी सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस जिसको हार्ड डिक्स के नाम से जाना जाता हैं. इसे ही सेकेंडरी memory या सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस कहते हैं.

रैम कितने प्रकार का होता हैं 

रैम दो प्रकार का होता हैं आइए नीचे Ram के उन दोनों प्रकार के बारे में एक-एक करके जानते हैं

  • Sरैम
  • Dरैम

1. SRam

एस रैम को  static random access memory कहते हैं. static का मतलब जो सामान्य रूप से परिवर्तित नहीं होता हैं. उसे static कहते हैं इसका मतलब होता हैं static रैम में डाटा जो हैं वह स्थिर रहता हैं.

2. DRam

Dरैम:- stand for dynamic random access memory इसका मतलब जो डाटा सामान्य रूप से अपने आप बदलते रहता हैं. रिफ्रेश होते रहता हैं. बार-बार रिफ्रेश करने की जरूरत नहीं पड़ता हैं

इसीलिए Dरैम का उपयोग वर्तमान समय में सभी स्मार्टफोन या Computer में किया जा रहा हैं. ddr3 और ddr4 रैम का उपयोग सभी स्मार्टफोन या लैपटॉप Computer में किया जा रहा हैं.

Ram का विशेषता क्या हैं 

  • रैम एक भोला टाइल memory हैं.
  • डाटा को परमानेंट के लिए स्टोर नहीं करता हैं.
  • रैम प्राथमिक यानी कि प्राइमरी memory होता हैं.
  • डाटा को रेंडम एक्सेस करता हैं.
  • रैम डाटा को अस्थाई रूप से स्टोर करता हैं लेकिन तेज काम करता हैं.
  • रैम Computer का एक महंगा पार्ट होता हैं. 

Ram का फुल फॉम

रैम का फुल फॉम Random access memory होता हैं

स्मार्टफोन लैपटॉप में रैम कितना होना चाहिए

वैसे जहां तक Computer की बात की जाए तो Computer में Ram कितना होना चाहिए यह डिपेंड करता हैं आपके काम के ऊपर. क्योंकि लैपटॉप या Computer जब कोई खरीदता हैं

तो खरीदने से पहले यह जानना जरूरी हो जाता हैं कि आप किस लिए Computer खरीदना चाहते हैं. रैम Computer में कितना होना चाहिए एक Computer का कंफीग्रेशन क्या होना चाहिए जानने के लिए जहां तक इस स्मार्टफोन की बात हैं तो एक स्मार्ट फोन में कम से कम 2GB रैम जरूर होना चाहिए.

ज्यादा Ram से क्या लाभ हैं  

किसी भी स्मार्टफोन या Computer में ज्यादा Ram यदि हो तो आप आसानी से उसमें गेम खेल सकते हैं. वीडियो एडिटिंग फोटो एडिटिंग और एक साथ मल्टीपल एप्लीकेशन या ऐप का इस्तेमाल बहुत ही आसानी से कर सकते हैं. ज्यादा रैम होने के कारण आपका स्मार्टफोन या लैपटॉप हैंग नहीं करता हैं. स्‍लो नहीं होता हैं आप smoothly काम कर पाते हैं.

स्मार्ट फोन और कंप्‍यूटर के रैम में क्या अंतर हैं

एक स्मार्ट फोन में रैम 1GB 2gb 4gb 6GB या उससे अधिक 8GB तक का आता हैं. जबकि लैपटॉप में वर्तमान समय की बात की जाए तो कम से कम 4GB रैम या उससे अधिक 8GB 16GB या उससे ऊपर तक का भी रैम Computer में आते हैं

जहां तक दोनों में अंतर की बात हैं तो स्मार्टफोन में LPDDR लो पावर डबल डाटा सिंक्रोनस Ram का इस्तेमाल होता हैं जबकि Computer में PCDDR रैम का इस्तेमाल किया जाता हैं.

ये भी पढ़े

सारांश  

Ram kya hai इस लेख में Ram के बारे में आप लोगों को जानकारी दी गई हैं. यह जानकारी आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं. मुझे आशा हैं कि आप लोगों को यह जानकारी बहुत काम का होगा.

वैसे रैम का कैपेसिटी जो हैं दिन प्रतिदिन बढ़ रहा हैं. तरह-तरह के स्मार्ट फोन और लैपटॉप आ रहे हैं. समय के हिसाब से उनका काम करने का क्षमता भी बेहतर हो रहा हैं.

यदि आप Memory के भी बारे में जानना चाहते हैं की Memory क्या हैं इसके बारे में भी आप जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ऊपर दी गई जानकारी के बारे में अपना राय जरूर दें और इस जानकारी को अपने दोस्त मित्रों के साथ भी शेयर जरूर करें.

ravi
नमस्कार रवि शंकर तिवारी ज्ञानीटेक रविजी ब्लॉग वेबसाईट के Founder हैं। वह एक Professional blogger भी हैंं। जो कंप्‍यूटर ,टेक्‍नोलॉजी, इन्‍टरनेट ,ब्‍लॉगिेग, SEO, एमएस Word, MS Excel, Make Money एवं अन्‍य तकनीकी जानकारी के बारे में विशेष रूचि रखते हैंं। इस विषय से जुड़े किसी प्रकार का सवाल हो तो कृपया जरूर पूछे। क्‍योकि इस ब्‍लॉग का मकसद लोगो बेहतर जानकारी उपलब्‍ध कराना हैंं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here