टैली क्या हैं उपयोग, फायदें व कैरियर

Tally kya hai – किसी भी कंपनी के हिसाब किताब को सही तरीके से मेंटेन रखने के लिए टैली सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है यह एक अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है। 

जिसके द्वारा कंप्यूटर पर ऑनलाइन किसी भी कंपनी के लाभ, हानि, सेल्स, परचेस आदि के विवरण को अपडेट किया जाता है। पहले एक समय था जब कंप्यूटर नहीं था उस जमाने में किसी भी कंपनी के हिसाब किताब लाभ हानि सेल परचेज आदि विवरण को लिखने के लिए बड़े-बड़े रजिस्टर पर लाइन खींच कर के अलग-अलग लाइन में कलम के द्वारा उसको मेंटेन करना पड़ता था

जिसमें मेहनत के साथ साथ अधिक समय भी लगता था तथा बैलेंस शीट लाभ हानि को कैलकुलेट करने के लिए भी ज्यादा मेहनत करना पड़ता था। लेकिन वर्तमान समय में टैली सॉफ्टवेयर के उपयोग करने से केवल सेल्स परचेज एंट्री को अपडेट कर लेने के बाद ऑटोमेटिक सॉफ्टवेयर के द्वारा बैलेंस शीट और लाभ हानि आदि को तैयार कर दिया जाता है।

टैली क्या हैं

टेली एक अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जिसको वर्तमान समय में एंटरप्राइज रिसोर्स प्‍लानिग के नाम से भी जाना जाता है। किसी भी कंपनी में उसका हिसाब किताब सबसे महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यदि किसी कंपनी का बहीखाता हिसाब आदि को अच्छे से नहीं मेंटेन किया जाए तो उस कंपनी का लाभ हानि के बारे में पता नहीं चल पाएगा।

इसलिए आज के समय में हर एक छोटे से छोटे शॉपिंग सेंटर या कंपनी में उसके सेल्स परचेस एकाउंटिंग से संबंधित जितने भी जरूरी चीज होते हैं उन सभी को टैली सॉफ्टवेयर पर ही अपडेट किया जाता है। जिससे किसी भी शॉपिंग या कंपनी का पूरा हिसाब किताब आसानी से देखा जा सकता है।

Tally kya hai

इस सॉफ्टवेयर के द्वारा ही जीएसटी फाइल आदि को भी किया जा सकता है। किसी भी बिजनेस में कितना परचेज कर रहे हैं और कितना सेल हो रहा है उसका सभी डाटा टैली सॉफ्टवेयर में अपडेट रहता है। जिससे आसानी से जीएसटी का पूरा इनफार्मेशन तैयार हो जाता है और समय से जीएसटी को भी फाइल कर सकते हैं। सर्वर क्या होता हैं उपयोग एवं फायदें

भारतीय अकाउंटिंग सिस्टम में किसी भी ऑर्गेनाइजेशन या कंपनी शॉपिंग सेंटर आदि को कितना लाभ हो रहा है उसके बारे में गवर्नमेंट को जीएसटी के माध्यम से बताना पड़ता है तथा भारत सरकार राज्य सरकार को टैक्स भी देना पड़ता है। इसलिए जो भी प्रोडक्ट परचेज किया जाता है और जो प्रोडक्ट को सेल किया जाता है उसका डिटेल्स टैली सॉफ्टवेयर में अपडेट किया जाता है। किस चिज पर कितना टैक्स लगा इन सभी चीजों का विवरण भी होता है।

सेल्स पर आपने कितना टैक्स गाहक से लिया और परचेज करते समय कितना टैक्स आपने वहां पर दिया है इन सभी चीजों को टैली सॉफ्टवेयर में आसानी से देख करके कैलकुलेट कर सकते हैं। उसके आधार पर आप जीएसटी फाइल भी बहुत ही आसानी से कर सकते हैं।

वैसे सामान्य रूप से टैली का दो प्रकार का सॉफ्टवेयर होता है एक फ्री सॉफ्टवेयर होता है जिसको सीखने के लिए या पढ़ने के लिए उपयोग किया जा सकता है। इसका उपयोग करने के लिए कोई चार्ज नहीं देना पड़ता है।

जबकि यदि आप अपने बिजनेस व्यापार के हिसाब किताब को टैली सॉफ्टवेयर पर मेंटेन करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको इस का सॉफ्टवेयर खरीदना पड़ता है 

तभी आप उसमें सारे चीजों को ऑनलाइन आसानी से मैनेज कर पाते हैं क्योंकि एक फ्री सॉफ्टवेयर में सारा फैसिलिटी उपलब्ध नहीं होता है। 

जबकि 1 paid सॉफ्टवेयर जिसको इंटरप्राइज रिसोर्स Planning सॉफ्टवेयर के नाम से भी जानते हैं। यदि उसको आप खरीदते हैं तो आप अपने एक ऑर्गेनाइजेशन कंपनी, शॉपिंग सेंटर का सारे हिसाब किताब उस पर आसानी से मेंटेन कर सकते हैं।

टैली का मतलब क्या होता हैं

टैली शब्द का मतलब है इसी शब्‍द में छुपा हुआ है जिसका मतलब होता है टैली करना है यानी कि उसको मिलाना काउंटिंग करना। इस सॉफ्टवेयर को बनाने का उद्देश्य हिसाब किताब को काउंटिंग करना, मिलाना, उसको आसानी से मैनेज करना, व्यवस्थित करना जिससे किसी भी कंपनी का सारा अकाउंटिंग सिस्टम आसानी से उपयोग तथा मैनेज किया जा सके। प्लॉटर क्या होता हैं उपयोग एवं विशेषता

टैली का इतिहास

इस सॉफ्टवेयर का इतिहास बहुत ज्यादा पुराना नहीं है क्योंकि 90 के दशक में इस सॉफ्टवेयर को बनाया गया था। सबसे पहला सॉफ्टवेयर टैली 4.5 वर्जन के रूप में बनाया गया था जो कि एक Dos आधारित सॉफ्टवेयर था जिसको वर्ष 1990 में बनाया गया था।

उसके बाद से टैली के और कहीं अपडेटेड वर्जन भी बनाया गया है जिस का जानकारी नीचे इस प्रकार है।

  • Tally 5.4 version 
  • Tally 6.3 version
  • Tally 7.2 version
  • Tally 8.1 version
  • Tally 9 version

Tally ERP 9 वर्तमान समय में जो टैली का उपयोग किया जा रहा है वह Tally Enterprise resource planning (ERP) 9 version है जोकि टैली का बहुत ही अपडेट एवं बेहतरीन वर्जन है। जिसके द्वारा जीएसटी आदि को भी बहुत ही आसानी से मेंटेन किया जा सकता है 

टैली का फुल फॉर्म

Tally :- transaction allowed in a linear line yards.

उपयोग

अपने कंपनी के नाम से टैली सॉफ्टवेयर में अपना कंपनी क्रिएट करते हैं।

  • कंपनी में खरीदे गए सामान की पूरी जानकारी अपडेट कर सकते हैं कंपनी द्धारा सेल किए गए प्रोडक्ट की पूरी जानकारी अपडेट करते हैं
  • भाउचर तैयार कर सकते हैं
  • कंपनी के कैपिटल के बारे में जानकारी ले सकते हैं
  • कंपनी के बजट आदि के बारे में जान सकते हैं
  • कंपनी में कितना प्रोडक्ट खरीदा गया है उसके बारे में जानकारी ले सकते हैं
  • कितना सामान सेल किया जा चुका है उसके बारे में जान सकते हैं।
  • जीएसटी फाइल कर सकते हैं
  • पेमेंट हिस्ट्री को अपडेट कर सकते हैं और उसको मॉनिटर कर सकते हैं
  • एकाउंटिंग सिस्टम के हर एक काम टैली इआरपी सॉफ्टवेयर पर कर सकते हैं।
  • एकाउंटिंग फाइनेंसियल से संबंधित किसी भी प्रकार की इंट्री को कर सकते हैं।

फायदे

इस सॉफ्टवेयर का बहुत ही ज्यादा फायदा ही फायदा है क्योंकि कंप्यूटर पर एक क्लिक करने के बाद आप कंपनी के सारे रिकॉर्ड स्कोर देख सकते हैं। 

टैली सॉफ्टवेयर का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप अपने कंपनी का हिसाब किताब प्रॉफिट लॉस के बारे में 1 मिनट में आप पूरा डाटा को देख करके एनालिसिस कर सकते हैं।

जो कि बिना Tally या कंप्यूटर के संभव नहीं था पहले जब किसी कंपनी के प्रॉफिट लॉस आदि को कैलकुलेट करना होता था तो उसके लिए कितना दिन का समय लगता था। लेकिन आज इस सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर का योगदान है जो कि कंपनी के सारे लाभ हानि आदि को एक क्लिक पर देखा जा सकता है।सिम का उपयोग,विशेषता एवं 2 प्रकार

टैली का उपयोग किसे करना चाहिए

वैसे छोटे से छोटे व्यापारी जो सेल परचेजिंग या सर्विसेज आदि की सुविधा प्रदान करते हैं जो कि जीएसटी रिटर्न के दायरे में आते हैं जिनका व्यापार का टर्नओवर जीएसटी के दायरे के अंदर आता है वैसे लोगों को अपना सारा सेल परचेज या सर्विस का रिकॉर्ड टैली सॉफ्टवेयर पर तैयार करवाना चाहिए। 

जिससे उनको गवर्नमेंट को जीएसटी फाइल करने में आसानी होगा तथा उनके व्यापार पर किसी भी प्रकार के गवर्नमेंट से संबंधित जांच आदि का सामना नहीं करना पड़ेगा। आसानी से अपने सारे हिसाब किताब लाभ हानि के बारे में जीएसटी के द्वारा समय समय से गवर्नमेंट को जीएसटी फाइल करने में आसानी होगा।

छोटे व्यापारी भी अपने व्यापार के जानकारी को टैली पर मेंटेन करना चाहता है तो वह भी टैली सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते है। जिससे उनको व्यापार में गवर्नमेंट से यदि लोन की सुविधा लेना हो तो आसानी ले सकते हैं। 

वैसे लोग जो जीएसटी लिए हैं और जीएसटी फाइल करते हैं उनको यदि व्यापार से संबंधित किसी भी बैंक से लोन की भी आवश्यकता पड़ती है तो आसानी से उनको लोन मिल जाता है। क्योंकि उनका पूरा व्यवसाय का विवरण ऑनलाइन टैली के द्वारा अपडेट किया जाता है।

जिससे सभी जानकारी बैंक को भी प्राप्त हो जाता है तथा जीएसटी रिटर्न से भी पूरा जानकारी व्यापार के बारे में लाभ हानि आदि के बारे में आसानी से मिल जाता है जिससे व्यापार को आगे बढ़ाने में मदद मिल सकता है।

टैली सॉफ्टवेयर कैसे सीखें

बहुत से ऐसे छोटे व्यवसाई हैं जो चाहते हैं कि टैली सॉफ्टवेयर पर वे स्वयं काम करें ताकि वह अपना टैली पर सेल परर्चेज का इंट्री कर सकें। वैसे लोगों के लिए टेली आज के समय में सीखना बहुत ही आसान है। यदि आप अकाउंट के बारे में थोड़ा बहुत भी जानकारी रखते हैं तो आप टैली सॉफ्टवेयर को आसानी से सीख सकते हैं।

सबसे पहले आप गूगल या यूट्यूब पर जाकर के इस से संबंधित वीडियो या ट्यूटोरियल को पढ़ सकते हैं। 

उसके बाद आप अपने कंप्यूटर में इस सॉफ्टवेयर पर प्रैक्टिकल किसी भी तरह की सेल परचेज इंट्री आदि कर सकते हैं। कंपनी बनाना या और भी टैली से संबंधित जो भी आप वीडियो या ट्यूटोरियल से सीखते हैं उसको प्रैक्टिकल नियमित रूप से अभ्यास करते हैं तो टैली सॉफ्टवेयर 3 से 4 महीनों में सीख सकते हैं।

टैली कोर्स में कैरियर

यदि आप एक छात्र हैं और जानना चाहते हैं कि इसे कोर्स में आपका कैरियर भविष्य में कैसा हो सकता है तो उसके लिए आपको बताना जरूरी है कि यदि आप इस कोर्स को करते हैं तो आप किसी भी छोटी या बड़ी कंपनी में एकाउंटिंग का काम कर सकते हैं। जिसमें का शुरुआत का सैलरी कम से कम छोटे शहर में भी आज के समय में 10000 मिल सकता है। धीरे-धीरे जब इस काम में आप और भी अनुभव प्राप्त करेंगे तो आपका सैलरी इसमें बेहतर हो सकता है और आप 50 से 60000 महीना भी टैली करके कमा सकते हैं।

टैली कोर्स ड्यूरेशन

यदि किसी भी मान्यता प्राप्त इंस्टिट्यूट संस्थान से इसे सीखना चाहते हैं तो उसके लिए आप किसी संस्थान में नामांकन करा सकते हैं इस कोर्स का ड्यूरेशन 3 से 4 महीने या ज्‍यादा से ज्‍यादा 6 महीने का होता है। यदि आप इस कोर्स को करना चाहते हैं तो आप अधिक से अधिक 6 महीने में इस कोर्स को सीख सकते हैं और इससे आप नौकरी भी प्राप्त कर सकते हैं।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment