डाटा इंट्री कैसे करते हैं – Data Entry Operator की जानकारी

वर्तमान समय डिजिटल दुनिया का है। इसलिए अब डाटा इंट्री का काम भी कंप्यूटर पर हो रहा है। जिसके लिए अक्सर डाटा इंट्री ऑनलाइन कैसे करते हैं, लोग सर्च करते होंगे। उन लोगों के लिए इस पोस्ट में हम पूरी इनफार्मेशन लेकर आए हैं। जिसमें ऑनलाइन डाटा इंट्री मोबाइल से कैसे करें की जानकारी भी उपलब्ध कराएंगे।

लोगों के मन में डाटा इंट्री ऑपरेटर कैसे बने को लेकर भी सवाल होता है। क्योंकि कई लोग सरकारी या प्राइवेट संस्थान में डाटा इंट्री ऑपरेटर के रूप में भी नौकरी करना चाहते हैं। उन लोगों के लिए जरूरी क्या-क्या चीज हैं। जिनको सीखना चाहिए। उन सभी पॉइंट्स को भी हम लोग नीचे विस्तार से डिस्कस करेंगे।

यह पोस्ट पूरी तरह से डाटा इंट्री के ऊपर बनाया गया है। जिसमें सभी सवालों का जवाब दिया जाएगा। सैलरी, कोर्स, समय, सॉफ्टवेयर, टाइपिंग इत्यादि कुछ प्रमुख क्वेश्चन लोगों के मन में होगा। जिसका जवाब नीचे मिलेगा।

डाटा इंट्री क्या होता है

डाटा और इंट्री मिल करके, डाटा इंट्री शब्द का निर्माण होता है। डाटा का मतलब होता है एक ऐसी सूचनाओं की सामग्री जिसमें नाम एड्रेस मोबाइल नंबर उम्र सैलरी ईमेल आईडी इत्यादि की सूचनाएं होती हैं. यह सभी चीज मिलकर एक आंकड़े बनता है। जिसको जब किसी कंप्यूटर में किसी सॉफ्टवेयर द्वारा कंप्यूटर में डाला जाता है। उसको डाटा इंट्री कहते हैं।

अब ऐसे ही घर, कार्यालय, गवर्नमेंट, ऑफिस हर जगह पर आंकड़े मौजूद रहता है। उस डाटा को कंप्यूटर में डालने की प्रक्रिया को ही डाटा इंट्री कहते हैं।

Data Entry Kaise Karte Hai - डाटा इंट्री कैसे करते हैं

डाटा इंट्री कैसे करते हैं

छोटे-छोटे शॉपिंग सेंटर, बड़े-बड़े मॉल, दुकान, ऑफिस, ऑर्गेनाइजेशन, कंपनी हर जगह पर डाटा इंट्री का काम बहुत ही महत्वपूर्ण हो गया है। आजकल सुझाव और इनफॉर्मेशन सब कुछ एक कंप्यूटर में डाला जा रहा है। जिसके लिए किसी ऑपरेटर को रखा जाता है। उनके द्वारा डाटा इंट्री का काम पूरा किया जाता है। अब डाटा इंट्री ऑनलाइन या ऑफलाइन कैसे करते हैं। उसके लिए कुछ निम्न प्रक्रिया को लागू करना होगा।

डाटा इंट्री का अर्थ

इसके अर्थ को समझना जरूरी है। जैसे भारत में जितने भी राज्य हैं। उन सभी राज्यों की राजधानी के साथ पूरे सूचनाओं को किसी कंप्यूटर में डालना एक प्रकार का आंकड़े हो सकता है। जिसमें न्यूमेरिकल या अल्फा न्यूमेरिकल शब्दों को भी टाइप किया जाता है। जिसका मूल उद्देश्य व्यवसाय का व्यक्तिगत या राजकीय जानकारी आसानी से कंप्यूटर में उपलब्ध कराना होता है। अब यह कई प्रकार का हो सकता हैं। हमने यहां पर उदाहरण के लिए आपको राज्य जिला या देश के कुछ नाम का उच्चारण किया है। इस तरह से अलग-अलग संस्थान में कई प्रकार का डाटा हो सकता हैं।

महत्वपूर्ण डिवाइस

डाटा इंट्री करने के लिए कुछ डिवाइस की भी जरूरत होगी। तभी उस पर काम को किया जा सकेगा। इसके लिए एक अच्छा कंप्यूटर, माउस, कीबोर्ड, प्रिंटर, स्कैनर इत्यादि की आवश्यकता होगी। यह सब कुछ हो जाने के बाद आपको एक अच्छा सॉफ्टवेयर का भी उपयोग करना होगा। जिसके लिए माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल, गूगल शीट या अन्य डेटाबेस सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है।

कीबोर्ड शॉर्टकट की

डाटा इंट्री को बहुत ही तेज गति से पूरा करने के लिए कीबोर्ड के शॉर्टकट की का ज्ञान बहुत ही जरूरी है। जिससे आप अपने काम को तेज गति से आगे बढ़ा पाएंगे। जिसके लिए आपको कंप्यूटर के जितने भी बेसिक शॉर्टकट की है, उसको सिखना चाहिए। उदाहरण के लिए Ctrl+C = Copy, Ctrl +V = Paste, पेस्ट, Ctrl+X = Cut करने के लिए सिस्टम में उपयोग किया जाता है।

डाटा इंट्री के प्रकार

अब आपको डाटा इंट्री कई तरह से करने का अनुभव प्राप्त होता है। आजकल ऑनलाइन भी सूचनाओं को अपडेट किया जाता है। जिसके लिए वेबसाइट, टैबलेट सॉफ्टवेयर उपयोग किए जाते हैं। ऑफलाइन आंकड़े में आपको किसी फिजिकल डॉक्यूमेंट से आंकड़े को डालना पड़ता है। जबकि ऑनलाइन डाटा इंट्री में वेबसाइट पर फॉर्म्स या उसके जो भी डायनेमिक बनावट है। उसके आधार पर वहां पर डाटा को इंटर करना होता है। दोनों तरह का काम आजकल बहुत ही ज्यादा हो रहा है। इसलिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों को आपको सिखना होगा।

सटीकता का महत्व

सकारात्मक एवं बेहतर रिजल्ट पाने के लिए डाटा एक्यूरेसी होना जरूरी है। क्योंकि सार्थक एवं सही परिणाम तभी प्राप्त होता है। जब शब्द, अंक, आंकड़े को बिना किसी गलती के टाइप किया जाता है।

टाइपिंग स्पीड का महत्व

स्पीड हमारे काम को बहुत ही जल्द पूरा करने में मदद करता है। इसलिए आपको अपने दोनों हाथ के दसों उंगलियों का उपयोग करके टाइपिंग करना चाहिए। जितनी तेज गति से आप शब्दों को लिखेंगे। उतना ही कम समय में आप काम को पूरा कर पाएंगे। टाइपिंग स्पीड बढ़ाने के लिए ऑनलाइन टूल का भी उपयोग कर पाएंगे या फिर अपने कंप्यूटर पर आप उसको डाउनलोड करके इंस्टॉल कर सकते हैं। जिसके बाद नियमित अभ्यास करके टाइपिंग को बेहतर कर पाएंगे।

सुरक्षा सुनिश्‍चित करें

कई बार बड़े-बड़े आंकड़े लीक हो जाते हैं। जिससे कई प्रकार के नुकसान होते हैं। इसीलिए अपने सभी आंकड़ों को सुरक्षित रखना भी जरूरी है। जब आप कंप्यूटर में सूचनाओं को डालते हैं। उस समय उसको अच्छे से व्यवस्थित करके रखना चाहिए। कोई भी ऐसा व्यक्ति जो आपके सूचनाओं को गलत तरीके से प्रयोग कर सकता है। उससे अपनी सारी सूचनाएं दूर रखना चाहिए। इसका ख्याल रखना महत्वपूर्ण है।

ऑनलाइन पोर्टल का उपयोग

बिना इंटरनेट कनेक्शन के भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को यूज कर पाएंगे। जिससे आप अपने डाटा इंट्री का काम ऑनलाइन पोर्टल पर करेंगे। उसके लिए आपको उस पोर्टल पर रजिस्टर करना होगा। जिसके बाद ऑनलाइन डाटा इंट्री के कार्यों का भी आप लुफ्त उठा सकेंगे। जिसके लिए गूगल शीट प्रमुख रूप से उपलब्ध है।

सर्टिफिकेशन कोर्स

किसी काम में महारत हासिल करना चाहिए। एक्सपर्ट की रिस्पेक्ट हर जगह होती है। डाटा इंट्री फील्ड में भी आप एक अनुभवी के रूप में काम करना चाहते हैं। तब उसके लिए आपको सर्टिफिकेशन कोर्स करना चाहिए। जिसमें डाटा इंट्री के सभी गुण को भी सिखाया जाता है। जिससे कार्य कुशलता में मदद मिलता है। जिससे आपके करियर में एक नई प्रगति की भी संभावना हर समय होती है।

ऊपर बताए गए 10 पॉइंट काफी महत्वपूर्ण है। जिससे डाटा इंट्री करने के तरीके सीखे होंगे।

डाटा इंट्री ऑपरेटर कैसे बने

शिक्षा

कोई भी व्यक्ति जो 12वीं पास हो चुका है या 10वीं पास कर चुके हैं। वे डाटा इंट्री ऑपरेटर के लिए योग्य हैं। आगे उनको कुछ कंप्यूटर संबंधित ज्ञान की आवश्यकता होगी। इसके लिए किसी कंप्यूटर इंस्टिट्यूट में डाटा इंट्री ऑपरेटर के लिए कोर्स करेंगे। जहां से उनको सर्टिफिकेशन या डिप्लोमा कोर्स प्राप्त करने का मौका मिलेगा।

कंप्यूटर स्किल

फंडामेंटल कंप्यूटर का कंप्लीट ज्ञान होना चाहिए। जैसे कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर, ऑपरेटिंग सिस्टम, शॉर्टकट की, फाइल, फोल्डर, कॉपी, पेस्ट, कट कुछ महत्वपूर्ण नॉलेज है। इसके अलावा भी कुछ सॉफ्टवेयर की जानकारी होनी चाहिए। जैसे माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, एक्सेल, पावर पॉइंट इत्यादि। एक्सेल में मुख्य रूप से फार्मूला, चार्ट्स, ग्राफ्स, सेल, कलम व वर्कशीट सीखना होगा।

इंटरनेट पर काम करना सीखे। जिसमें ईमेल बनाना, ईमेल पढ़ना, भेजना, आंकड़े को अटैच करना यह कुछ सबसे महत्वपूर्ण इनफॉर्मेशन है। जिसको जानना होगा।

टाइपिंग स्पीड बढ़ाएं

हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में टाइपिंग एक्सपर्ट बनना होगा। 1 मिनट में कम से कम 30 से अधिक शब्दों को टाइप करना आना चाहिए। दोनों भाषाओं में शुद्ध शुद्ध शब्दों को टाइप करना होगा। जिसके लिए आपको नियमित अभ्यास की जरूरत होगी। घर पर रहकर भी आप अपने कंप्यूटर से सोन्मा टाइपिंग ट्विटर की सहायता से अपने टाइपिंग स्पीड को बेहतर कर सकेंगे।

सही शब्दों को लिखना

डाटा इंट्री ऑपरेटर के रूप में काम करने वाले लोगों को लेटर, एप्लीकेशन लिखना होता है। जिसमें शब्दों को शुद्ध लिखना चाहिए। जिसके लिए भाषा के साथ-साथ ग्रामर की भी जानकारी होनी चाहिए। जिससे शब्द, वाक्य को अच्छे से लिखेंगे। शुद्धता पर फोकस करें।

ऑनलाइन जॉब पोर्टल पर जुड़े

वर्तमान में कई ऐसी वेबसाइट है। जो कि डाटा इंट्री ऑपरेटर को ऑनलाइन काम देती हैं। वहां पर अपने आप को रजिस्टर कर पाएंगे। लेकिन एक चीज का ध्यान रखना है, कि कई गलत साइट भी इंटरनेट पर उपलब्ध है। जो फ्रॉड का भी काम करती हैं, तो आपको अच्छे वेबसाइट पर जाना होगा। जिसके लिए ऑपवर्क, फ्रीलांसर कुछ अच्छी साइट हैं। जहां पर रजिस्टर करेंगे। उसके बाद वहां से काम प्राप्त कर पाएंगे।

इंटर्नशिप एंड ट्रेनिंग

अनुभव हमें अपने काम को आगे बढ़ाने में मदद करता है। जिससे किसी कंपनी में हम बहुत जल्द नौकरी भी प्राप्त कर लेते हैं। इसलिए किसी भी कंपनी में इंटर्नशिप या जॉब ट्रेनिंग सबसे पहले करना चाहिए। जिससे हमें प्रैक्टिकल एक्सपीरियंस होता है। हम काम को सही तरीके से करने की प्रक्रिया को सिखते हैं, तो सबसे पहले आपको इस पर भी ध्यान देना होगा और ऑन जॉब ट्रेनिंग करना होगा।

नेटवर्किंग

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, लिंकडइन पर अपना अकाउंट बनाएं। जहां से जितना अधिक से अधिक नेटवर्क बढ़ाएंगे उतना ही काम मिलने में आसानी होगा। जो लोग ऑर्गेनाइजेशन में काम करते हैं। उनके पास डाटा इंट्री से संबंधित जॉब की सूचनाओं होती हैं। वे लोग आपको डाटा इंट्री ऑपरेटर का काम दिलवाने में मदद करेंगे। इसलिए अपने नेटवर्किंग को आगे बढ़ाएं।

फ्रीलांसिंग

अब तो फ्रीलांसिंग प्लेटफार्म भी सक्रिय रूप में काम कर रहा हैं। जहां पर हर दिन लाखों की संख्या में लोग रोजगार प्राप्त कर रहे हैं। आप भी उनमें से एक हो सकते हैं। लेकिन उसके लिए ऊपर बताए गए जरूरी चीजों का ध्यान रखना होगा। किसी भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर वर्क तभी आसानी से मिल पाता है। जब आप उस फील्ड में अनुभव रखते हैं। अपने काम के बारे में आप जानकारी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर देते हैं। जिससे कंपनी आपसे प्रभावित होती हैं और आपको काम तुरंत देती है। इन सभी चीजों का भी ध्यान रखें।

नियमित सीखना चालू रखें

चाहे हम किसी भी क्षेत्र में काम पाना चाहते हो। उसके लिए हमें नियमित रूप से कुछ नई चीजों को सीखना चाहिए। हमें अपने जीवन में हर दिन कुछ नया जानने पहचानने का प्रयास करना चाहिए। जिससे हमारे अंदर गुण का भंडार बढ़ता है। हम अपने नॉलेज को इंक्रीस करते हैं। यह हमारे जीवन में जिस क्षेत्र में हम आगे बढ़ना चाहते हैं। उस क्षेत्र में अगली पंक्ति में हमें खड़ा करने पर मजबूती प्रदान करता है। इसलिए डाटा इंट्री ऑपरेटर बनने के लिए भी आप अपने सीखने की जो ललक है उसको बना कर रखें।

डाटा इंट्री मोबाइल से कैसे करते हैं

एक स्मार्टफोन खरीदें। जिसमें माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस ऐप को डाउनलोड एंड इंस्टॉल करें। उसके बाद एमएस एक्‍सेल को अपने स्मार्टफोन में ओपन करें। अब उसमें जो भी आंकड़े आपको इंटर करना है। उसको टाइप करना शुरू करें। इस तरह आप अपने मोबाइल में डाटा इंट्री कर पाएंगे।

डाटा इंट्री कोर्स कितने दिन का होता है

यह कोर्स कम से कम 3 महीना से लेकर के 6 महीना, 1 साल तक का होता है। जिसमें फंडामेंटल कंप्यूटर की जानकारी दी जाती है। एमएस एक्सेल, पावर पॉइंट, इंटरनेट, ईमेल, शॉर्टकट की, टाइपिंग इत्यादि को सिखाया जाता है।

सारांश

आशा करते हैं कि डाटा इंट्री ऑफिस में कैसे करते हैं, की जानकारी आपको जरूर पसंद आया होगा। क्योंकि इस लेख में हम डाटा इंट्री ऑपरेटर बनने के लिए भी कंप्लीट इनफॉर्मेशन दिए हैं। जिसे जो लोग डाटा प्रविष्टि करना तथा ऑपरेटर बनना चाहते हैं। उन लोगों के लिए यह सूचना बहुत ही लाभकारी होगा। जिससे उनके करियर में एक नया मुकाम हासिल करने में आसानी होगा। यहॉं ऑपरेटर इंट्री कैसे करते हैं का आपको जरूर मिल होगा।

अभ्‍यास, प्रतीक्षा, निरंतर सीखने की कला के साथ जीवन में आगे बढ़ते हुए हम किसी भी काम को हासिल कर सकते हैं। इसीलिए धैर्य के साथ निरंतर कुछ नई चीज़ सीखने का प्रयास करते रहें।

सवाल जवाब

Q1. डाटा इंट्री कोर्स फी

Ans. अलग-अलग इंस्टिट्यूट में इसका फी अलग हो सकता है। वैसे सामान्य तौर पर 10 से 20000 फी लगता है। लेकिन बिना खर्च के भी आप यूट्यूब से ऑनलाइन इसे सीख पाएंगे।

Q2. डाटा इंट्री ऑपरेटर सैलेरी

Ans. समान्य तौर पर शुरुआत में कम से कम 10000 सैलरी शुरू हो सकता है। यह एक सामान्य आंकड़ा है। आप इससे ज्यादा भी कमा पाएंगे।

Q3. एक्सेल में डाटा इंट्री कैसे करें

Ans. माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल ओपन करें। उसमें रो और कलम में जो भी अंक, डिजि,ट नंबर डालना है उसको टाइप करें।

Q4. डाटा इंट्री से पैसे कैसे कमाए

Ans. अपवर्क, फ्रीलांसिंग वेबसाइट पर जाएं। वहां पर अपना खाता बनाएं। अपने स्किल की इनफॉर्मेशन शेयर करें। इसके बाद फ्रीलांसिंग वर्क प्राप्त करके घर बैठे डाटा इंट्री से पैसे कमाए।

Q5. डाटा इंट्री सीखने में कितना समय लगता है

Ans. इसे कम से कम 3 महीना में सीखा जा सकता है। लेकिन इसके बारे में आप डिटेल्स इनफार्मेशन चाहते हैं, तो उसके लिए कम से कम 6 महीना समय देना होगा।

Leave a Comment