कोड क्या है, प्रकार, उपयोग व लाभ पूरी जानकारी

कोड क्या है? Code Kya hai? कोड एक प्रकार का ऐसा समूह होता है, जिसमें शब्द, अक्षर, नंबर, सिंबल का उपयोग करके तैयार किया जाता है। कोड शब्‍द से कोडिंग का निर्माण हुआ है। जिसका उपयोग अधिकतर प्रोग्रामिंग इत्यादि को करने के लिए किया जाता है। कोड का मतलब एक प्रकार का ग्रुप है, ऐसा कोई पासवर्ड भी हो सकता है, जिसको सिक्योरिटी पर्पस के लिए उपयोग किया जाता है।

कभी-कभी ऐसा हम लोग बात करते हैं कि मुझे उसका कोड पता नहीं है। जिसका मतलब होता है, किसी भी प्रकार का कोई ऐसा स्पेशल कोड जो कि सीक्रेट है। जिसको वही जानता है जो उसके लिए ऑथराइज है। वैसे किसी भी संख्या अक्षर, नंबर इत्यादि को ही कोड कहा जाता है।

वैसे सम्मान्‍यत: कोड को कंप्यूटर में उपयोग किया जाता है। जिसके माध्यम से कंप्यूटर को किसी भी तरह के किसी लॉजिक को समझा जाता है। या कंप्यूटर में अलग-अलग प्रकार के प्रोग्रामिंग के लिए कोडिंग किया जाता है। जिसे कोड के नाम से जाना जाता है।

कोड क्या है What is code in hindi

कोड एक स्क्रिप्ट है। जिसके आधार पर किसी काम को पूरा किया जाता है। उदाहरण के लिए जब कंप्यूटर में किसी प्रकार का कोई प्रोग्रामिंग इत्यादि को करना है, उसके लिए एक कोडिंग स्क्रिप्ट बनाया जाता है। जिसके बाद कंप्यूटर को निर्देश दिया जाता है कि इस कोडिंग के आधार पर उस काम को किस तरह से प्रोसेस किया जाए। 

Code कई प्रकार के हो सकता है। अलग-अलग तरह के कामों के लिए कंप्यूटर में अलग-अलग प्रकार का कोडिंग किया जा सकता है। जिसके आधार पर प्रोग्रामिंग, सॉफ्टवेयर इत्यादि का निर्माण किया जा सकता है।

Code Kya hai

वर्तमान समय में कोड का बहुत ही ज्यादा महत्व है। क्योंकि आज के समय में कोड और कोडिंग का बहुत ही ज्यादा क्रेज बढ़ गया है। क्योंकि आजकल हर कोई कोडिंग सीखना चाहता है और कंप्यूटर में कुछ ऐसा बनाना चाहता है, जिससे टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में एक नये तकनीक को तैयार किया जाए।

दुनिया में आज कई तरह के कंप्यूटर टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में अविष्कार किए जा रहे हैं। यह सब कुछ कोड और कोडिंग के आधार पर ही बनाया जाता है।

कंप्यूटर कोडिंग प्रोग्रामिंग के आधार पर ही काम करता है। क्योंकि कंप्यूटर को इस तरह से तैयार किया गया है, जिससे कि जब कुछ भी इनपुट देते हैं तो अपने भाषा बायनरी में कन्वर्ट करता है। जिसके लिए वह अपना बायनरी कोडिंग सिस्टम का उपयोग करता है। जिसके आधार पर दिए गई इनपुट को समझता है और उसके बाद उसको प्रोसेस करके उसका आउटपुट भी दे देता है।

कोड का मतलब क्या होता है

Code एक प्रकार के गोपनीय कोड होता है जिसको नंबर, अल्फाबेट, सिंबल इत्यादि का उपयोग करके बनाया जाता है। उदाहरण के लिए स्मार्टफोन को ओपन करने के लिए भी एक सिक्‍यूरिटी कोड डालते हैं। इसी तरह से ऑनलाइन अपने बैंकिंग अकाउंट का उपयोग करते हैं, तो उसमें भी एक कोड के रूप में पासवर्ड डालते हैं या और भी कई तरह के कोड होते हैं। 

जैसे अपने एटीएम कार्ड से जब पैसा निकालते हैं, तो उसके लिए भी एक कोड होता है। प्रोग्रामिंग के लिए भी कोड होता है। जिसमें तरह-तरह के प्रोग्रामिंग तकनीक का उपयोग करने के लिए कोडिंग किया जाता है। इस तरह से एक ऐसा शब्द है जिसका मतलब अलग-अलग क्षेत्रों में अलग होता है। कोड का शाब्दिक अर्थ मल्टीपल रूप में हो सकता है।

कोड के प्रकार

कंप्यूटर में कोडिंग करने के लिए कई अलग-अलग कोडिंग लैंग्वेज का उपयोग किया जाता है। जिसके द्वारा कई तरह के प्रोग्रामिंग किया जाता है। प्रमुख रूप से उपयोग किया जाने वाला कुछ सॉफ्टवेयर लैंग्वेजेज के बारे में नीचे बताया गया है।

जावास्क्रिप्ट

वेबसाइट डेवलपमेंट के लिए कोडिंग किया जाता है। जिसमें जावास्क्रिप्ट भी एक प्रमुख कोडिंग होता है। जावास्क्रिप्ट से वेब पेजेस या उसके लिए जो जरूरी आवश्यक tools हैं उसको तैयार किया जाता है।

सी लैंग्वेज

कोडिंग के क्षेत्र में सबसे बेसिक सी लैंग्वेज होता है। जिससे कोडिंग का शुरुआत होता है। यदि कोई भी कोडिंग सीखना चाहता है, तो वह सबसे पहले सी लैंग्वेज को सीखता है। सी लैंग्वेज एक बेसिक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। जिससे प्रोग्रामिंग के फंडामेंटल के बारे में जानकारी प्राप्त किया जाता है।

सी प्लस प्लस

सी का ही एडवांस लैंग्वेज सी प्लस प्लस है जिसको ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज भी कहते हैं। सी प्लस प्लस में कुछ एडवांस लेवल का कोडिंग भी किया जा सकता है। सी प्लस प्लस से सॉफ्टवेयर भी बनाया जा सकता है। सी प्लस प्लस कोडिंग के लिए उपयोग किया जाता है। जिसमें कुछ लिखकर के प्रोग्रामिंग किया जाता है।

पाइथन

वर्तमान में वेबसाइट प्रोग्रामिंग इत्यादि के लिए एक बहुत ही बेहतर एवं प्रसिद्ध प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसका नाम पाइथन है। इसका उपयोग डेटा विश्लेषण, प्रोग्रामिंग, वेब पेज डिजाइन करने के लिए, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के लिए किया जाता है। जिसके माध्यम से कोडिंग करके ही सभी तरह के प्रोग्रामिंग को बनाया जाता है।

जावा

जवा भी एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। यह बहुत ही पुराना लैंग्वेज है। जावा से कोडिंग के द्वारा वेबसाइट, सॉफ्टवेयर, टेक्नोलॉजी इत्यादि का निर्माण किया जा सकता है। यह एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। यह एक हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज भी है। जिससे प्रोग्राम और कई प्रकार के बेहतर सॉफ्टवेयर तकनीक का कोडिंग के माध्यम से निर्माण करते हैं।

डॉट नेट

डॉट नेट का फुल फॉर्म नेटवर्क इनेबल टेक्नोलॉजी होता है। यह भी एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। जिसके द्वारा वेब एप्लीकेशन, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, वेबसाइट डेवलपमेंट, मोबाइल एप्लीकेशन डेवलपमेंट इत्यादि कोडिंग के माध्यम से किया जाता है।

कोडिंग से ही किसी भी प्रकार का ऐप, सॉफ्टवेयर, वेबसाइट इत्यादि का निर्माण किया जाता है। डॉट नेट में कई प्रोग्रामिंग प्लेटफार्म है जैसे C#,| j# इत्यादि।

कोड का उपयोग

Code का उपयोग अलग-अलग कामों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। यदि किसी सामान्य सिक्योरिटी के लिए कोड का उपयोग करते हैं, तो वहां पर कोड का बहुत ही ज्यादा महत्‍व है। जिससे जिस तरह का भी सुरक्षा के लिए कोड बनाया है, उससे अपने सेवा को सुरक्षित कर पाते हैं। कोडिंग के माध्यम से किसी भी प्रकार का एप्लीकेशन तैयार करते हैं, तो वहां भी कोड का बहुत ही ज्यादा महत्व है 

क्योंकि जो भी प्रोग्रामिंग के द्वारा एप्लीकेशन तैयार किए जाते हैं, उसमें कोडिंग का ही मुख्य भूमिका होता है। कोड़ एक एसा सिंटेक्स का समूह होता है जिससे कंप्यूटर आसानी से उस कोड को समझ पाता है। कंप्यूटर सामान्य भाषा को नहीं समझता है।

जो भी चीज हम लोग कंप्यूटर में लिखते हैं उसको वह अपने भाषा में समझता है। कंप्यूटर का भाषा बाइनरी है। चाहे हम कुछ भी लिखे उसको जीरो एंड वन के फॉर्मेट में कन्वर्ट कर लेता है और उसके बाद कंप्यूटर उसको समझता है।

  • Code एक सिंटेक्स के रूप में भी होता है जो पूरा सिंटेक्स एक प्रोग्रामिंग का आकार होता है।
  • कोडिंग का उपयोग कई प्रकार से किया जाता है। 
  • जैसे कि यदि किसी एप्लीकेशन या वेबसाइट को सुंदर बनाना है, तो उसके लिए सीएसएस कोडिंग किया जाता है। 
  • किसी वेबसाइट को यदि एचटीएमएल के द्वारा बनाना है, तो उसके लिए एचटीएमएल फॉर्मेट में कोडिंग किया जाता है। 
  • वेबसाइट में भी कुछ एक्स्ट्रा फीचर्स को जोड़ना है तो उसके लिए जावास्क्रिप्ट इत्यादि का उपयोग किया जाता है।

कोडिंग का उपयोग एक सॉफ्टवेयर डिवेलप करने के लिए भी किया जाता है। जिसके लिए अलग-अलग कोडिंग सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है। जिसमें डॉट नेट, सी प्लस प्लस, पीएचपी, पाइथन इत्यादि प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर से एक बेहतर एप्लीकेशन इत्यादि को बनाया जाता है।

कोड का लाभ

  • कोड सुरक्षा के हिसाब से भी बहुत ही महत्वपूर्ण है
  • कंप्यूटर केवल Code को ही समझता है
  • कोडिंग से कई प्रकार के एप्लीकेशन बनाया जाता है
  • कोड से ही पूरे टेक्नोलॉजी का निर्माण होता है
  • कोड एक ऐसा जाल है जिससे टेक्नोलॉजी का एक महाजाल बनाया जा सकता है।
  • टेक्नोलॉजी में Code और कोडिंग टेक्नोलॉजी का आधार है।

ये भी पढ़ें

सारांश

इस लेख में Code को हम लोग अलग-अलग तरह से समझे हैं। जिसमें Code का उपयोग सिक्योरिटी पर्पस में भी किया जाता है तथा कोड से कंप्यूटर का भी पूरा सिस्टम जुड़ा हुआ है। Code किसी भी रूप में हो सकता है। एक चित्र के रूप में भी कोड हो सकता है 

Code एक सिंटेक्स के रूप में भी हो सकता है। आशा है कि कोड के बारे में दी गई जानकारी आप लोगों को जरूर अच्छा लगा होगा। कोड इन हिंदी Code meaning इत्यादि का अर्थ आप लोगों को जरूर पसंद आया होगा।

Leave a Comment