SIM full form in Hindi सिम कार्ड का फुल फॉर्म क्या होता हैं

हेलो दोस्तों सिम कार्ड का फुल फॉर्म क्या होता है SIM Full Form in hindi सिम कार्ड क्या है अक्सर इंटरनेट पर सिम कार्ड क्या है के बारे में लोग जानकारी सर्च करते हैं यदि आप भी सिम कार्ड बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख में पूरी जानकारी नीचे विस्तार से दी गई है.

जिसमें SIM ka full form in Hindi सिम कार्ड क्या होता है सिम कार्ड की विशेषता क्या है सिम कार्ड का उपयोग क्‍या है सिम कार्ड कितने प्रकार का होता है सिम कार्ड कैसे खरीद सकते हैं सिम कार्ड खरीदने के लिए जरूरी दस्तावेज क्या है एक कंपनी के सिम को दूसरे कंपनी के साथ ट्रांसफर कैसे करते हैं तथा और भी सिम कार्ड से संबंधित पूरी जानकारी आप नीचे प्राप्त करेंगे.

सिम कार्ड एक तरह का एक छोटा कार्ड होता है जिसको आप अपने स्मार्टफोन या मोबाइल में लगा कर के उपयोग करते हैं लेकिन इस छोटे से सिम कार्ड से ही आपका एक मोबाइल नंबर प्राप्त होता है जिसका उपयोग आप किसी से बात करने के लिए या वर्तमान के तकनीकी दुनिया में कई कामों के लिए अपने मोबाइल नंबर का उपयोग करते हैं.

SIM ka full form in Hindi

सिम कार्ड का फुल फॉर्म सब्सक्राइबर आईडेंटिटी माड्यूल होता है जिस का हिंदी में मतलब एक ऐसा यूजर जो किसी मोबाइल कंपनी से एक सिम खरीदता है उस सिम का पहचान नंबर को ही सब्सक्राइबर आईडेंटिटी माड्यूल कहा जाता है जिसका शुद्ध हिंदी में और ग्राहक पहचान माड्यूल होता है.

सिम शब्द का निर्माण 3 शब्दों को मिलाकर के हुआ है एस आई एम जिसको सिम आईडेंटिटी माड्यूल के नाम से जाना जाता है.

SIM full form in Hindi

SIM full form in Hindi

जैसा कि ऊपर हम लोग सिम का फुल फॉर्म के बारे में जानकारी प्राप्त किए हैं लेकिन आइए नीचे सिम का फुल फॉर्म हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में एक टेबल के प्रारूप के माध्यम से जानते हैं.

SIM Full Form in Hindi
S Subscriber ग्राहक
I Identity पहचान
M Module माडयूल

What is SIM in Hindi

जैसा कि ऊपर हम लोग सिम कार्ड का फुल फॉर्म के बारे में जानकारी प्राप्त किए हैं अब सिम कार्ड क्या होता है आइए जानते हैं सिम कार्ड एक छोटा सा प्लास्टिक के द्वारा तैयार किया गया कार्ड होता है जिसमें एक इंटीग्रेटेड चीप लगाया हुआ रहता है जिसके द्वारा जब उस सिम को मोबाइल में डाला जाता है तो सिम कार्ड के द्वारा उस मोबाइल को नेटवर्क प्रदान किया जाता है.

क्योंकि एक मोबाइल में जब तक सिम कार्ड को नहीं डाला जाता है तब तक उस मोबाइल का कोई मतलब नहीं होता है.

क्योंकि मोबाइल में जब तक सिम कार्ड न डाला जाए तब तक मोबाइल का कोई उपयोग ही नहीं है इसलिए मोबाइल में सिम कार्ड का भूमिका बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है जब मोबाइल में सिम कार्ड को डाला जाता है तब सिम में लगे चिप के द्वारा मोबाइल में नेटवर्क की सुविधा उपलब्ध हो जाती है जिसके बाद आसानी से किसी भी यूजर को कॉल कर पाते हैं.

सिम के आकार के आधार पर सिम के अलग-अलग नाम भी है जैसे पहले एक सिम का आकार थोड़ा बड़ा होता था जिसको सिम कार्ड के नाम से जाना जाता था

लेकिन उसके बाद उस सिम का आकार को और थोड़ा छोटा कर दिया गया जिसका नाम माइक्रो सिम के नाम से जाना जाता हैं. उसके बाद फिर उस सिम का आकार थोड़ा और छोटा हुआ जिसको नैनो सिम के नाम से जाना जाता हैं

पहले के जो मोबाइल फोन आते थे उसमें सिम का जो पूरा आकार होता था उसको डाला जाता था लेकिन अब सिम के तीन टुकड़े हो जाते हैं जिसमें उसका आकार अलग अलग तरह का हो जाता है.

Prepaid SIM card kya hota hai

प्रीपेड सिम कार्ड एक ऐसा SIM कार्ड होता है जिसमें आप अपने हिसाब से जब आपको जरूरत हो तब पैसा डाल कर के उपयोग कर सकते हैं कभी-कभी ऐसा होता है कि मोबाइल का रिचार्ज खत्म हो जाता है तब अपने हिसाब से उस नंबर को रिचार्ज करते हैं.

प्रीपेड सिम कार्ड का मतलब होता है कि एक ऐसा सिम कार्ड जिसको उपयोग करने से पहले रिचार्ज करते हैं वैसे सिम कार्ड को प्रीपेड सिम कार्ड कहा जाता है जिसका मतलब यदि किसी को कॉल करना है या मोबाइल पर किसी व्यक्ति का फोन प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए वर्तमान समय में सबसे जरूरी है कि सबसे पहले सिम कार्ड को रिचार्ज करें तभी सिम कार्ड से किसी को कॉल पर पाएंगे या किसी का कॉल रिसीव कर पाएंगे.

Postpaid sim card kya hota hai

पोस्टपेड सिम कार्ड एक ऐसा SIM कार्ड होता है जिसका उपयोग तो पहले कर लेते हैं लेकिन उसका पैसा बाद में देना पड़ता है जिसका मतलब होता है कि एक ऐसा सिम कार्ड जिसको रिचार्ज करने से पहले ही उसका इस्तेमाल कर लेते हैं उससे किसी भी व्यक्ति से बात कर सकते हैं या इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकते हैं सभी तरह की सुविधाओं का उपयोग कर सकते हैं उस सिम कार्ड का जो बिल आता है उसको एक महीना पर उस कंपनी में जमा करते हैं. वैसे सिम कार्ड को पोस्टपेड सिम के नाम से जाना जाता है.

सिम कार्ड कितने प्रकार का होता है

सिम कार्ड दो प्रकार का होता है

  • GSM sim card
  • CDMA sim card

GSM sim card क्या होता है

GSM sim card ka full form global system for multiple network होता है.

जीएसएम सिम कार्ड एक ऐसा SIM कार्ड होता है जिसको अपने हिसाब से किसी भी हैंडसेट किसी भी स्मार्टफोन मोबाइल में उपयोग आसानी से कर पाते हैं जीएसएम सिम कार्ड एक ऐसा SIM कार्ड होता है जिसको जब कभी भी आपको जरूरत हो तो आप एक मोबाइल से दूसरे मोबाइल में भी उस सिम कार्ड का उपयोग कर सकते हैं.

आईए एक उदाहरण से समझते हैं

कभी-कभी ऐसा होता है कि मोबाइल फोन में किसी तरह के समस्या या दिक्कत के चलते SIM कार्ड को निकाल कर के किसी दूसरे सिम कार्ड में लगा लेते हैं और फिर उस सिम कार्ड का उपयोग आसानी से कर पाते हैं इस तरह का काम तभी कर पाएंगे जब आपका सिम GSM सिम होगा.

CDMA sim card क्या होता है

CDMA ka full form code division multiple access होता है जिसका मतलब होता है एक ऐसा SIM कार्ड जिसका कोड या कार्ड एक ही मोबाइल के लिए बना हो वैसे इस सिम कार्ड को सीडीएमए सिम कार्ड कहा जाता है.

जिसका मतलब यह होता है की एक मोबाइल के साथ जो SIM कार्ड आता है जो कि उस मोबाइल के साथ ही फिक्स रहता है उसको निकालकर कि किसी दूसरे फोन में नहीं लगाया जा सकता है वैसे सिम कार्ड को सीडीएमए सिम कार्ड के नाम से जाना जाता है.

उदाहरण के लिए रिलायंस जिओ का जो आजकल मोबाइल आ रहा है उस मोबाइल में जो सिम कार्ड लगा हुआ रहता है वह  सीडीएमए सिम होता है जिसको निकाल कर के किसी दूसरे मोबाइल में नहीं लगा सकते हैं तथा उसका उपयोग नहीं कर सकते हैं.

सिम कार्ड का इतिहास

सिम कार्ड का इतिहास बहुत ज्यादा पुराना नहीं है क्योंकि जब दुनिया में सबसे पहले टेलीफोन का आगमन हुआ था उस समय सिम कार्ड का कोई नामोनिशान नहीं था लेकिन धीरे-धीरे टेक्नोलॉजी जैसे जैसे आगे बढ़ते गया वैसे ही वर्ष 1991 में सिम कार्ड का अविष्कार किया गया.

जर्मन की एक कंपनी के द्वारा सिम कार्ड का अविष्कार किया गया जिसको बनाने का श्रेय जर्मन के 2 वैज्ञानिक जिसेक और डेविएन्ट का है. सबसे पहली बार जब सिम का अविष्कार किया गया था उस समय जीएसएम सिम का अविष्कार किया गया था

सिम कार्ड की विशेषता

  • SIM कार्ड एक छोटा सा प्लास्टिक का कार्ड होता है जिसके द्वारा मोबाइल में नेटवर्क सुविधा प्रदान की जाती है.
  • एक SIM कार्ड को एक मोबाइल से निकाल कर के दूसरे मोबाइल में भी लगाया जा सकता है
  • एक कंपनी की सिम कार्ड के नंबर को दूसरे कंपनी में बदल सकते हैं लेकिन जो पुराना नंबर है वह नंबर नए कंपनी में भी प्रदान किया जाता है.
  • यदि सिम खराब हो जाता है तो भी उस सिम को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं
  • यदि वर्तमान किसी कंपनी के सिम में सहज महसूस नहीं कर रहे हैं तो उस कंपनी को छोड़कर के दूसरे कंपनी में भी सिम बदल सकते हैं.
  • एक बार जब सिम खरीद लेते हैं तो उसी सिम के नंबर को पूरे जीवन लगातार उपयोग कर सकते हैं
  • सिम कार्ड का उपयोग इंटरनेट चलाने के लिए किसी modem में भी इस्तेमाल कर सकते हैं

सिम कार्ड कैसे खरीदें

यदि सिम कार्ड खरीदना चाहते हैं तो उसके लिए नजदीकी SIM कार्ड कंपनी के रिटेलर शॉप पर जा सकते हैं सबसे पहले यह चयन कर ले कि किस कंपनी का सिम खरीदना है उसके हिसाब से उस कंपनी के नजदीकी रिटेलर या जो नजदीकी सिम विक्रेता है उनके पास जा कर के सिम खरीद सकते हैं. वर्तमान समय में भारत में प्रमुख सिम उपलब्ध करवाने वाली कंपनी एयरटेल, वीआई, बीएसएनएल, रिलायंस जिओ इत्यादि है.

सिम कार्ड खरीदने के लिए जरूरी कागजात

यदि SIM कार्ड खरीदना चाहते हैं तो उसके लिए ज्यादा पेपर की आवश्यकता नहीं है एक आधार कार्ड होना चाहिए और उसको ले जा कर के आसानी से एक सिम कार्ड को खरीद सकते हैं.

एक सिम कार्ड को एक कंपनी से दूसरे कंपनी में कैसे बदलें

  • यदि किसी भी कंपनी का कोई सिम है और उस सिम कार्ड को दूसरे कंपनी में बदलना चाहते हैं तो उसको आसानी से बदल सकते हैं
  • उसके लिए अपने मोबाइल नंबर से अंग्रेजी में PORT लिखना है उसके बाद स्पेस देना है फिर अपने उस सिम का नंबर डालेंगे और उसको 1900 पर भेज देंगे.
  • उसके बाद मोबाइल पर एक मैसेज प्राप्त होगा जिसमें मोबाइल पोर्टेबिलिटी नंबर होगा.
  • उसी नंबर को दूसरे कंपनी, के रिटेलर के पास जाकर के वह मोबाइल नंबर के प्रोटेबिलिटी नम्‍बर दे करके आप आसानी से दूसरे कंपनी में अपने नंबर को पोर्ट कर सकते हैं.

सिम कार्ड के बारे में एक नजर

  • पहले के जो सिम कार्ड होता था वह बहुत ही बड़ा होते हैं जैसे कि उसका साइज एक एटीएम कार्ड की तरह होता था
  • सबसे पहले GSM सिम को बनाया गया था
  • GSM सिम से पहली बार वर्ष 1991 में कॉल किया गया था
  • सिम के छोटे साइज नैनो सिम को सर्वप्रथम 2012 में लॉन्च किया गया

Sim ICCID नंबर क्या होता है

हर एक सिम का अपना उसका आईडी नंबर होता है उसी आईडी नंबर से उस सिम को एक्टिवेट करके उसका मोबाइल नंबर को सक्रिय किया जाता है उदाहरण के लिए जब एक SIM को दूसरे कंपनी में बदलते हैं तब एक नया सिम दिया जाता है लेकिन उसका नंबर पुराना ही रहता है.

ये भी पढ़े

सारांश

इस लेख में SIM full form in Hindi सिम कार्ड का फुल फॉर्म क्या होता है सिम कार्ड क्या होता है के साथ-साथ SIM कार्ड के बारे में पूरी जानकारी दी गई है यदि सिम कार्ड के फुल फॉर्म से संबंधित या सिम कार्ड से संबंधित किसी भी प्रकार का कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें.

आशा है कि सिम की फुल फॉर्म के बारे में दी गई जानकारी आपको जरूर रोचक एवं जानकारियों से भरा हुआ लगा होगा. सिम का फूल फॉर्म के बारे में दी गई जानकारी को सोशल मीडिया पर अपने दोस्त मित्रों के साथ भी शेयर जरूर करें और ऐसे ही जानकारी पाने के लिए इस वेबसाइट को निरंतर विजिट करते रहें.कंप्‍यूटर एमएस वर्ड एवं टेकनोलोजी के बारे में अंग्रेजी में पढ़ने के लिए Gyanitechinfo को विजिट  करें

Leave a Comment