प्रीपेड मीटर क्या होता हैं उपयोग फायदा एवं नुकसान

आजकल बिजली का मीटर भी प्रीपेड हो गया है Prepaid meter in hindi क्या होता है इसके बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है हर किसी के घर में प्रीपेड मीटर लगाया जा रहा है या सरकार के तरफ से एक योजना चला है.

लेकिन जब किसी को पता ही नहीं रहेगा उसके बारे में कि प्रीपेड मीटर क्या है प्रीपेड मीटर रिचार्ज कैसे किया जाता है तब तक कोई अपने घर में लगाने के लिए उत्सुक भी नहीं होगा सबके घरों में पहले जो नॉर्मल मीटर होता था उसको हटा करके सरकार के तरफ से एक योजना के तहत स्मार्ट मीटर लगाए जाने का निर्देश मिला है.

तो प्रीपेड स्मार्ट मीटर क्या होता है प्रीपेड मीटर को रिचार्ज कैसे किया जाता है Prepaid meter kya hai का फायदा क्या है प्रीपेड मीटर से क्या नुकसान है प्रिपेड मिटर के बारे में आइए नीचे विस्तार से जानते हैं प्रीपेड मीटर के बारे में जानने के बाद ही कोई भी व्यक्ति अपने घर में लगा सकता है तो इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें.

What is Prepaid Meter in hindi 

प्रीपेड नाम से ही अनुमान लगाया जा सकता है कि यह प्रीपेड यानी कि पेड करने वाला मीटर है रिचार्ज करने वाला मीटर है. यह एक ऐसा मीटर लगाया जा रहा है जिसमें कि मोबाइल टीवी आदि की तरह इस को रिचार्ज किया जाएगा जितना इसमें रिचार्ज किया गया जाएगा उतना ही दिन हम लोग अपने घर में बिजली इस्तेमाल कर पाएंगे.

Prepaid meter in hindi

जिस दिन यह स्मार्ट मीटर का पैसा यानि के रिचार्ज खत्म हो जाएगा उसी दिन घर में बिजली कट जाएगी और फिर से जब रिचार्ज किया जाएगा उसके बाद ही किसी के भी घर में बिजली आ पाएगी तो अब नए योजना के अनुसार कोई भी अपने घर में रिचार्ज खत्म होने के बाद भी बिजली का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा.

बिजली हमारे घर का एक अहम हिस्सा है सारे काम आजकल बिजली के जरिए ही हो रहा है तो बिजली का कनेक्शन लगा रहता है उसमें 1 मीटर आता है वही मीटर अब नॉर्मल नहीं हो करके प्रीपेड हो जाएगा.पहले कभी कभी क्या होता था कि मीटर खराब होने की वजह से बिजली बिल ज्यादा उठ जाता था.

लेकिन अब जितना यूनिट बिजली उठेगी उतना ही अमाउंट प्रीपेड मीटर से कट जाएगा और अपनी इच्छा के अनुसार जितना रुपए का हो सकेगा रिचार्ज किया जा सकेगा कई लोग ऐसे होते थे कि कितने कितने दिनों तक बिजली बिल नहीं भरते थे जिससे कि सरकार को नुकसान उठाना पड़ता था इसी चीज से बचने के लिए भारत सरकार ने Prepaid meter बदलने की योजना तैयार की है इस मीटर से कोई भी बिजली चोरी नहीं कर सकता है.

प्रीपेड  मीटर रिचार्ज कैसे करें 

 प्रीपेड मीटर को रिचार्ज करने के लिए जिस तरह हम लोग अपने मोबाइल फोन का रिचार्ज करने के लिए कई ऐप का उपयोग करते हैं अपने टीवी रिचार्ज करने के लिए मोबाइल में नेट पैक डलवाने के लिए कई ऐसे ऐप है जिससे कि हम लोग आसानी से घर बैठे रिचार्ज कर लेते हैं उसी तरह प्रीपेड मीटर का भी ऑनलाइन रिचार्ज कर सकते हैं या फिर बिजली विभाग में जाकर के रिचार्ज कूपन ले करके भी रिचार्ज कर सकते हैं.

अब इसके लिए अपने इच्छा अनुसार आप जिस ऐप से चाहे फोन पे या पेटीएम किसी भी ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करके आसानी से Prepaid meter को रिचार्ज किया जा सकता है इसके साथ ही मीटर की निगरानी अपने मोबाइल के माध्यम से ही कर पाएंगे अब पहले की तरह कोई भी बिजली बिल हमारे घर नहीं आएगा जो जितना का रिचार्ज करेगा जितने दिनों के लिए रिचार्ज करेगा उतने दिन ही बिजली का इस्तेमाल कर पाएगा.

अगर कोई अपने मीटर में किसी भी तरह का चेंज करना चाहेगा बिजली विभाग इस फॉल्ट बिजली चोरी पर आसानी से नजर रख पाएंगे और वही से पता चल पाएगा कि मीटर तेज चल रहा है या धीमा चल रहा है.

प्रीपेड मीटर से क्या फायदा है

Prepaid Meter लगाने के फायदे बिजली विभाग को भी है और उपभोक्ता को भी है क्योंकि उपभोक्ता बिजली का कनेक्शन लेने के लिए अपने पसंद के अनुसार किसी भी कंपनी का चुनाव कर सकता हैं जो भी बिजली सुविधा होगी वह लेने के लिए उपभोक्ता स्वतंत्र रहेगा. तो प्रीपेड मीटर लगवाने के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं इसके बारे में आइए विस्तृत रूप से जानते हैं.

पहले कई लोग ऐसे होते थे कि कई महीनों तक बिजली का बिल नहीं भरते थे लेकिन अब ऐसा कोई नहीं कर सकता है जितना पैसों का रिचार्ज  मीटर कराया जाएगा उतने ही दिनों तक बिजली का इस्तेमाल किया जा सकता है जिस दिन रिचार्ज खत्म हो जाएगा उसी दिन बिजली कट जाएगी.

पहले कई बार ऐसा होता था कि बिजली बिल भरने के लिए बिजली विभाग में जाना पड़ता था लेकिन अब घर बैठे अपने मोबाइल से लैपटॉप कंप्यूटर से आसानी से रिचार्ज किया जा सकता है.

प्रीपेड मीटर से  बिजली कर्मचारियों को भी फायदा हो गया है कि पहले किसी के भी घर के बिजली मीटर का रीडिंग लेने के लिए  जाना पड़ता था लेकिन अब मीटर रीडिंग कर्मचारी बिजली विभाग से सॉफ्टवेयर के माध्यम से कर पाएंगे और किसके घर में कितनी बिजली खपत हो रही है उसके बारे में भी जानकारी रख पाएंगे. 

Prepaid Meter ke benefits

कभी-कभी ऐसा होता है कि कोई घर से कहीं कुछ दिनों के लिए दूसरे जगह चला जाता है फिर भी बिजली बिल बढ़ता ही रहता है लेकिन अब ऐसा नहीं होगा अगर कहीं जाना है तो उतने दिनों के लिए मीटर रिचार्ज नहीं किया जाएगा जिससे कि पैसों का बचत होगा.

कई बार ऐसा हो जाता है कि बिजली विभाग से  बिल बढ़ा करके किसी के घर भेज दिया जाता था या कई लोग ऐसे होते हैं कि बिजली का चोरी तारों पर कटिया चढ़ा कर के कर लेते थे जिससे की बिजली बिल कम आए लेकिन अब यह सब नहीं हो पाएगा.

कई गरीब लोगों को भी Prepaid meter से फायदा है क्योंकि ज्यादा बिजली बिल आ जाने की वजह से वह लोग जमा नहीं कर पाते थे अब वह अपनी इच्छा अनुसार जितने दिनों का मन करेगा मीटर रिचार्ज करके बिजली का इस्तेमाल कर लेंगे. इस मीटर का यह भी फायदा है कि इसको प्रीपेड और पोस्टपेड दोनों तरह से करवा के रिचार्ज किया जा सकता है.

प्रीपेड मीटर से नुकसान क्या है

किसी भी चीज का अगर कोई फायदा होता है तो उससे नुकसान भी कुछ ना कुछ जरूर होता है ऐसी कोई चीज नहीं है कि जिससे सिर्फ फायदा ही फायदा हो और उससे हानि न हो तो प्रीपेड स्मार्ट मीटर से भी सिर्फ फायदा ही लोगों को नहीं मिल पाएगा बल्कि कुछ तो हानि जरूर होगा.

पहले जब बिजली बिल आता था तो महीने का बिजली बिल नहीं भरने के बाद भी बिजली घर में रहता था लेकिन स्मार्ट मीटर लगाने की वजह से रिचार्ज कराया जाएगा जितने दिनों का रिचार्ज किया जाएगा उतने ही दिनों तक  घर में बिजली रह पाएगी इसके बाद 1 दिन भी बिजली नहीं रहेगा रिचार्ज खत्म होते ही बिजली काट दिया जाएगा.

अगर किसी भी तरह मोबाइल में नेटवर्क ना हो या किसी के पास पैसा ना हो और वह अपना मीटर रिचार्ज नहीं कर पाए तो उस व्यक्ति के घर बिजली नहीं रहेगा अंधेरे में ही उस व्यक्ति को गुजर-बसर करना पड़ेगा.

प्रीपेड मीटर कैसे कार्य करता है  

आजकल  लगभग सारे कार्य है जो कि मोबाइल लैपटॉप कंप्यूटर से हो रहे हैं चाहे घर कोई भी छोटा बड़ा उपकरण के माध्यम से कोई भी कार्य हो फ्रिज कूलर एसी वाशिंग मशीन हर चीज बिजली के माध्यम से ही चलता है.

छोटे से छोटे और बड़े से बड़े कार्य बिना बिजली के अधूरे रह सकते हैं स्मार्ट मीटर भी नए युग के अनुसार रिचार्ज करने वाला मीटर भारत सरकार के तरफ से हर घर में लगने लगा है इस मीटर में एक ऐसा डिवाइस लगा रहता है जोकि मोबाइल टावर के माध्यम से कार्य करता है.

यह बिजली विभाग में एक रिसीवर लगा रहता है तो मोबाइल टॉवर्स के माध्यम से यह सिग्नल बिजली विभाग में पहुंचता है और उसी के माध्यम से बिजली कंपनी में बिजली कर्मचारी हर घर के मीटर की रीडिंग निगरानी कर पाएंगे.

अगर किसी भी तरह का कोई भी व्यक्ति अपने घर में मीटर से छेड़छाड़ करेगा तो वह बिजली विभाग में एक अलर्ट मैसेज चला जाएगा और बिजली विभाग के अधिकारी को उस उपभोक्ता के घर में मीटर से की गई छेड़छाड़ या मीटर रीडिंग के बारे में वही से पता चल जाएगा. 

ये भी पढ़ें

सारांश 

प्रीपेड मीटर लगाने से कोई भी व्यक्ति अपनी इच्छा अनुसार अपने मन मुताबिक रिचार्ज करके बिजली इस्तेमाल कर पाएगा.भारत सरकार की तरफ से यह यह घोषणा हुआ है अगले 3 साल में हर जगह स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य पूरा हो जाएगा इससे यह अनुमान लगाया जा रहा है की बिजली के क्षेत्र में इससे एक अलग ही क्रांति उत्पन्न हो पाएगा.

इस लेख में प्रीपेड मीटर क्या होता है प्रीपेड मीटर से क्या फायदा है Prepaid meter रिचार्ज कैसे किया जाता है प्रीपेड मीटर से क्या नुकसान है Prepaid meter in hindi के बारे में पूरी जानकारी दी गई है अगर इस लेख से जुड़े कोई सवाल है.

तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें इस जानकारी को अपने दोस्त मित्रों को शेयर जरूर करें ताकि जो कोई भी प्रीपेड मीटर नहीं लगा रहा है उसे इस मीटर से हानि लाभ और प्रीपेड मीटर क्या है के बारे में पूरी जानकारी मिल सके.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment