पढ़ाई में मन कैसे लगाएं। सुपर टिप्‍स हिन्‍दी में सीखें

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं Padhai mein man kaise lagaen अक्सर इस तरह का सवाल लोग इंटरनेट पर सर्च करते हैं लेकिन पढ़ाई में मन कैसे लगाएं इसका सही उपाय या सही जवाब क्या हो सकता हैं

यदि आप इस तरह के सवालों से परेशान हैं आपका पढ़ाई में मन नहीं लग रहा हैं आपके बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लग रहा हैं तो उसको कैसे पढ़ाई के प्रति जिम्मेदार बनाया जाए.

पढ़ाई में मन लगाना हो या और अन्य किसी भी तरह का काम हो बच्चों का मन लगाना हैं तो सबसे जरूरी हैं कि उस क्षेत्र में काम किया जाए उस पर नियमित प्रयास किया जाए अब सवाल यह हैं कि किस तरह से प्रयास किया जाए क्या किया जाए तो आप बिल्कुल परेशान ना हो क्योंकि इन सभी सवालों का जवाब भी आपको इस लेख में ही मिल जाएगा.

Padhai mein man kaise lagaen

Padhai जितना आसान हैं उतना ही कठिन काम भी हैं क्योंकि जितना मेहनत किसी काम को करने में लगता हैं उससे कहीं 10 गुना ज्यादा पढ़ाई में लगता हैं क्योंकि शारीरिक काम में केवल शरीर से मेहनत करना होता हैं.

जबकि पढ़ाई करने के लिए दिमाग से मेहनत करना पड़ता हैं लोग कहते हैं कि पढ़ाई करना आसान हैं बात सही हैं लेकिन पढ़ाई करना उतना ही कठिन भी हैं. इसलिए पढ़ाई को आप किस नजर से देखते हैं पढ़ाई को आप आसान समझते हैं या पढ़ाई को आप कठिन समझते हैं यह आपकी सोच पर निर्भर करता हैं.

अब इस सोच को बदलने के लिए क्या करना चाहिए. जिस तरह से बच्चे खेलने में आनंदित महसूस करते हैं ठीक उसी प्रकार पढ़ाई में भी उसको आनंद तब आएगा.

जब उसको खेल खेल में पढ़ाई को पढ़ाया जाए या खेल खेल में पढ़ाई को सिखाया जाए उसके लिए एक माहौल की जरूरत होता हैं पढ़ाई में मन लगाने के लिए कुछ नीचे हम स्टेप्स भी बताएंगे जिसको करके आप पढ़ाई में मन लगा सकते हैं.

padhai mein man kaise lagaen

पढ़ाई में मन क्यों नहीं लगता हैं

सबसे बड़ा सवाल लिया हैं कि पढ़ाई में मन क्यों नहीं लगता हैं इस पर विचार करने की जरूरत हैं सोचने की जरूरत हैं समझने की जरूरत हैं पढ़ाई क्या हैं पढ़ना क्यों जरूरी हैं पढ़ाई नहीं करेंगे तो क्या हो सकता हैं पढ़ाई करेंगे तो क्या हो सकता हैं पढ़ाई करना क्या जरूरी हैं.

जब तक इस तरह का सवाल आपके मन में नहीं आएगा या आप अपने बच्चों को नहीं बताएंगे तब तक पढ़ाई में मन नहीं लगेगा क्योंकि जब तक किसी भी चीज के बारे में कुछ लाभ ना हो उसको कुछ ऐसा चीज नहीं पता हो कि इससे क्या हो सकता हैं तब तक पढ़ाई में बच्चों को मन नहीं लगता हैं.

क्योंकि पढ़ाई को एक कठिन काम समझते हैं जो की मजबूरी में करना होता हैं इसलिए बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लगता हैं सबसे जरूरी हैं कि पढ़ाई से संबंधित जो सवाल हैं उस सवाल का जवाब अपने बच्चों को समझाने का प्रयास करें बताने का प्रयास करें तब बच्चे को समझ आएगा कि पढ़ाई क्यों करना चाहिए पढ़ाई में मन क्यों लगाना चाहिए.

Padhai

पढ़ाई में मन लगाने का पहला तरीका

पढ़ाई में मन लगाने का सबसे प्रथम पहला तरीका हैं कि पढ़ाई को आप पढ़ाई समझ कर नहीं करें पढ़ाई को आप एक खेल की तरह आप एक गेम की तरह ले एक मनोरंजन की तरह पढ़ाई को समझें जब आप पढ़ाई को एक मनोरंजन एक खेल की तरह समझेंगे तो आप पढ़ाई के प्रति आपका रुचि बढ़ेगा आकर्षण बढ़ेगा और मन भी लगेगा.

इसलिए सबसे जरूरी हैं कि पढ़ाई में आपका मन नहीं लग रहा हैं तो सबसे पहले उस तरह का पढ़ाई को आप काना शुरू करें जिसमें आपको रुचि हो आपका मन लगता हो खुशी महसूस होता हैं.

उस तरह का आप किताब पढ़ना शुरू करें या आप समाचार देखना शुरू करें या आप वीडियो देखना शुरू करें जिसमें आपको ज्यादा मन लगता हो धीरे-धीरे जब आप अपने पसंद का पढ़ाई शुरू करेंगे तब आपका मन जो आपके लिए कठिन चीज लगता हैं उसमें भी धीरे-धीरे आपका मन लगने लगेगा और पढ़ाई से आपका मनोबल बढ़ने लगेगा और आपका रुचि भी पढ़ाई में बढ़ेगा.

पढ़ाई में मन लगाने का दूसरा तरीका 

यदि आप एक माता-पिता हैं और अपने बच्चों को पढ़ाई में मन लगवाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले अपने बच्चों को यह समझाने की जरूरत हैं कि पढ़ाई करने से क्या फायदा हैं जब आप उसको पढ़ाई के फायदा बतलाएंगे समझाएंगे तब धीरे-धीरे उसके दिमाग में यह बात आएगा कि हमें पढ़ाई करना चाहिए पढ़ाई में मन लगाने के लिए आप दूसरे सफल लोगों का उदाहरण दे सकते हैं.

जैसे बच्चे को यदि किसी तरह का टीवी का शो देखने में मन लगता हैं तो उस टीवी के शो का उदाहरण देकर के आप बच्चे को समझा सकते हैं कि देखो आप ही के जैसा बच्चा टीवी में इस तरह से काम कर रहा हैं तो आप भी पढ़ोगे तो आप भी इसी तरह से काम कर सकते हो या और भी अलग-अलग तरह के उदाहरण देकर कि आप बच्चों को प्रेरित कर सकते हैं और पढ़ाई में मन लगवा सकते हैं.

पढ़ाई में मन लगाने का तीसरा तरीका  

यदि आप एक छात्र हैं और आप का भी पढ़ाई में मन नहीं लग रहा हैं आप पढ़ाई से इधर-उधर भटक रहे हैं लेकिन आपके मित्र माता-पिता आपको पढ़ने के लिए कहीं बाहर भेजे हुए हैं या फिर आप अपने घर से या स्कूल जा करके पढ़ाई कर रहे लेकिन आपका पढ़ाई में मन नहीं लग रहा हैं.

तो सबसे जरूरी हैं कि पहले आप अपने आप से पूछिए कि हम पढ़ाई क्यों कर रहे हैं और जब इस सवाल को आप स्वयं अपने आपसे पूछेंगे तब आपको पता चलेगा कि हमें पढ़ाई करना चाहिए या नहीं करना चाहिए.

पढ़ाई करना किसी दूसरे के लिए कोई जरूरी नहीं हैं पढ़ाई करना स्वयं का अपना काम हैं आप पढ़ाई करेंगे तभी आपको जानकारी मिलेगा आप समाज देश लोग के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे समाज में जीने के लिए प्रतिष्ठा पाने के लिए सम्मान पाने के लिए आपको पढ़ना जरूरी हैं

आपके पास आपके घर में चाहे कितना भी धन हो लेकिन जब तक आप पढ़ेंगे नहीं तब तक आप उस धन का भी उपयोग नहीं कर पाएंगे समाज में मान सम्मान प्रतिष्ठा अपने धर्म अपने पद प्रतिष्ठा अपने माता-पिता का सम्मान को आगे बढ़ाने के लिए अपने नाम को दुनिया में रोशन करने के लिए आपको पढ़ना हैं न की किसी दूसरे के कहने से या जबरदस्ती करने से पढ़ाई करना हैं.

यदि आप थोड़े बहुत समझदार हैं तो आप किसी भी सफल व्यक्ति का जीवनी पढ़ कर के देखिए कि लोग कितना कठिन परिश्रम करके अपने आप को आगे बढ़ाया हैं तब आपको समझ जाएगा कि पढ़ाई क्यों करना चाहिए.

पढ़ाई एक ऐसा जरिया हैं जिससे आप दुनिया के किसी भी चीज को हासिल कर सकते हैं इसलिए पढ़ाई पूरी ईमानदारी के साथ पूरी उत्सुकता के साथ पूरी जिम्मेदारी के साथ लगन के साथ करें.

पढ़ाई में मन लगाने का चौथा तरीका 

ऊपर बताया गया इन सभी तरीकों के बाद भी आपका पढ़ाई में मन लग रहा हैं तो ठीक हैं यदि आपका पढ़ाई में मन नहीं लग रहा हैं तो आपको पढ़ाई में मन लगाने का एक और तरीका हैं वह तरीका हैं कि आपके यहां जो भी बड़े या बुजुर्ग लोग हैं या श्रेष्ठ जन हैं उनके पास आप बैठना शुरू करें.

उनसे बातचीत करना शुरू करें धीरे-धीरे जब आपको वहां बात करने की शुरुआत करेंगे और उनसे कुछ आप सीखेंगे आपके मन के विचार में कुछ बदलाव होगा.

और आप वैसे बड़ों के साथ बैठे जो कि समझदार और ज्ञानवान हैं वैसे लोगों के पास आप बैठे जो आपको उचित मार्गदर्शन दें क्योंकि पढ़ाई में मन लगाने के लिए आपको मार्गदर्शन की जरूरत हैं आपको नेक सलाह की जरूरत हैं इस पोस्ट में हमने हर एक पहलू के बारे में आपको बताया हैं कि आप पढ़ाई में मन कैसे लगा सकते हैं.

फिर भी आपका पढ़ाई में मन नहीं लग रहा हैं तो आप घर के अपने बुजुर्ग माता-पिता या और भी जो वरिष्ठ जन हैं उनके पास बैठे और उनसे आप मार्गदर्शन ले धीरे-धीरे उनसे कुछ सीखने का प्रयास करें.

इस तरह से जैसे आप किसी से ऐसे ही बात बात में कुछ सीख लेते हैं न कि आप पढ़ाई के उद्देश्य और इस तरह से आप उन लोगों के साथ बात करना शुरू करेंगे तो आपको बात बात में ही कुछ सीखने को मिलेगा जानने को मिलेगा और आपका रुझान धीरे-धीरे कुछ नई चीजें सीखने की तरफ बढ़ेगा जिससे आपका धीरे-धीरे इस तरह से अभ्यास करेंगे तो पढ़ाई में मन लगना भी शुरू हो सकता हैं.

पढ़ाई में मन लगाने का पांचवा तरीका 

यदि आप पढ़ाई में मन लगाना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे जरूरी हैं कि आपका दिनचर्या भी अच्छा होना चाहिए सुबह में आप 4:00 या 5:00 बजे हर रोज जग जाए.

उसके बाद अपने बिस्तर पर जहां आप सोए हुए हैं उठ करके भगवान का प्रार्थना करें भगवान का नाम ले या जो भी आपके आराध्य हैं उनका स्मरण करें उनके नामों का उच्चारण करें और उसके बाद आप सुबह फ्रेश होकर के स्नान कर ले.

क्योंकि पढ़ाई करने के लिए सबसे जरूरी हैं आपका मानसिक शुद्धि जब तक नहीं होगा आपका विचार शुद्ध नहीं होगा आपका वाणी शुद्ध नहीं होगा तब तक पढ़ाई में मन नहीं लग सकता हैं.

पढ़ाई में मन लगाना भी एक कठिन तपस्या हैं त्याग हैं समर्पण हैं और इसको करने के लिए आपको कुछ इस तरह से अपने जीवन यापन को बनाना पड़ेगा जिससे आपका मन विचार शुद्ध हो आपको शांति महसूस हो उसके लिए जरूरी हैं कि सुबह जगकर के स्नान करके आप अपने आराध्य देव का स्मरण जरूर करें इससे भी आप का मन पढ़ाई में लगना शुरू हो जाएगा.

पढ़ाई में मन लगाने का छठवां तरीका

यदि आप एक छात्र हैं या आप एक छात्र के माता-पिता हैं तो दोनों के लिए सबसे जरूरी बातें हैं जिसको आप जरूर पालन करें पढ़ाई एक शांति का विषय हैं स्थिरता का विषय हैं मन लगाने का विषय हैं इसलिए पढ़ाई वैसे स्थान पर करना चाहिए जहां बिल्कुल भी शोर-शराबा नहीं होता हो.

शांति जहां मिलती हो वैसे स्थान पर बच्चों को पढ़ाई करना चाहिए या स्वयं पढ़ना चाहिए जहां पर ज्यादातर लोगों का आना जाना न हो और वहां पर किसी तरह का टीवी मोबाइल या अन्‍य हलचल न हो पढ़ाई करते समय अपना ध्यान किसी दूसरे चीजों में नहीं भटकाना चाहिए या माता-पिता को भी बच्चों को पढ़ते समय किसी भी काम में नहीं लगाना चाहिए.

जब आप पढ़ाई करते हो उस समय आप सारे कामों के जिम्मेदारियों को भूल कर के अपना ध्यान केवल पढ़ाई में ही लगाना चाहिए क्योंकि पढ़ाई करते समय यदि कोई आ जाता हैं या फिर आप मोबाइल या टीवी से आपका ध्यान बटता हैं या फिर माता-पिता के द्वारा किसी भी तरह के काम बता दिया जाता हैं तो इससे बच्चों का पढ़ाई से मन भटकने लगता हैं तथा पढ़ाई में मन नहीं लगता हैं.

इसलिए पढ़ाई के लिए आप एक स्टडी रूम बनाएं और वहां पर बैठ कर के आप चाहे जितना ही देर पढ़े आप शांति से मन लगाकर के ही पढ़ाई करें आपका  पढ़ाई में मन लगेगा और आप जितना पढ़ेंगे उतना आप अच्छे से समझ पाएंगे इसलिए इस बातों को भी समझना और उसको लागू करना बहुत ही जरूरी हैं. 

पढ़ाई में मन लगाने का सातवां तरीका

मन शांत तो आपका दिमाग भी शांत रहेगा मन शांत कब होगा जब आप अपने शरीर से अपने मन से फिट महसूस करेंगे अच्छा महसूस करेंगे शरीर को और मन को शांत रखने के लिए फिट रखने के लिए सबसे जरूरी हैं कि आप भरपूर नींद लें एक विद्यार्थी के लिए सबसे जरूरी हैं कि आप अपना पूरा नींद जरूर लें.

यदि आप एक छात्र हैं तो आपको रात में 8:30 से 9:00 बजे तक खाना खाकर 9:30 तक आपको सो जाना चाहिए और सुबह में आपको 4:00 बजे जगना चाहिए इस तरह से यदि रात में नींद लेते हैं तो आपको शारीरिक रूप से शांति दिमागी स्थिरता एवं आपका मन पूरी तरह से तरोताजा रहेगा और आपका पढ़ाई में भी मन लगेगा.

पढ़ाई में मन लगाने का आठवां तरीका

पढ़ाई में मन लगाना चाहते हैं तो कभी भी आप रात में पढ़ने का प्रयास ना करें या रात में ना पढ़ें क्योंकि रात में आप जब पढ़ेंगे तो आपका मन हो सकता हैं कि पढ़ाई में न लगे और आपको किसी न किसी तरह का मन में भटकाव आए तथा आप नींद भी लेना शुरू कर दें आलस्य महसूस हो सकता हैं.

क्योंकि रात सोने के लिए बनाया गया हैं और ज्यादातर लोग रात में ही पढ़ने लगते हैं कि उनको शांति महसूस होता हैं लेकिन रात में आप जितना भी पढ़ेगे आपको उतना ज्यादा लाभ नहीं होगा.

जितना आप दिन में पढ़ेगे आपको इन बातों को करके देखना हैं आप  दिन में पढ़ करके देखें और आप रात में आराम करे जब आप रात में आराम करेंगे और दिन में पढ़ेगे इस दिनचर्या में आपको स्वयं महसूस करने की जरूरत हैं इसलिए आप रात में आराम करें और दिन में पढ़ें आपका पढ़ाई में मन भी लगेगा और पढ़ाई को आप अच्छी तरह से समझ भी पाएंगे.

ये भी पढ़े

सारांश  

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं के बारे में इस लेख में 8 तरीके बताया गया हैं जिससे आप का मन पढ़ाई में जरूर लगेगा इस लेख में जो भी जानकारी दी गई हैं उस जानकारी को यदि आप अपने जीवन में लागू करते हैं तो आपके बच्चे का या आप एक छात्र हैं तो आपका भी पढ़ाई में मन लगना शुरू हो जाएगा.

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं से संबंधित से अगर कोई सवाल आपके मन में हैं तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें तथा इस जानकारी को आप अपने दोस्त मित्रों के साथ भी शेयर जरूर करें ताकि और लोगों को भी यदि पढ़ाई से संबंधित कोई परेशानी हो या पढ़ाई में मन नहीं लगता हैं तो वह भी इस जानकारी को प्राप्त करके लाभान्वित महसूस करें.

Leave a Comment