माइक्रोसॉफ्ट एक्सेस क्‍या हैं उपयोग एवं विशेषता

Ms Access क्या है MS Access kya hai in hindi वैसे एमएस ऑफिस का नाम लगभग हम सभी लोग जरूर सुने होंगे और एमएस ऑफिस का ही एक डाटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर के रूप में MS Access का उपयोग किया जाता है यदि MS Access के बारे में आप थोड़ा बहुत जानकारी रखते हैं तो आपको पता होगा कि MS Access एक डाटा बेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर है.

इस लेख में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस क्या है और उसका उपयोग क्या है इसको कैसे इस्तेमाल करते हैं MS Access को कैसे इंस्टॉल करते हैं इसको कहां से खरीदें और भी MS Access के बारे में इस लेख में पूरी जानकारी विस्तार से नीचे दी गई है.

MS Access को कैसे सीखे MS Access in hindi में काम कैसे करते हैं तथा MS Access डाटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर से कैसे अलग है डाटा को मैनेजमेंट के लिए MS Access का ही उपयोग क्यों करें.इस तरह का सवाल कभी ना कभी जरूर पूछा जाता है या लोग इसके बारे में जानना चाहते हैं. तो आइए MS Access के बारे में जानते हैं. एमएस एक्‍सेल क्‍या हैं

MS Access kya hai 

MS Access डाटा बेस प्रबंधन के लिए उपयोग किया जाता है यह एक डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के लिए इस्तेमाल किया जाता है Microsoft Access डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली है जिसमें डाटाबेस से संबंधित कार्य मुख्य रूप से किया जाता है.

जैसे रचना वितरण या डाटा से संबंधित जितने भी काम होते हैं उन सभी कामों को मैनेज के लिए मैनेजमेंट करने के लिए डाटाबेस तैयार करने के लिए Microsoft Access का इस्तेमाल किया जाता है.

MS Access kya hai in hindi

आईए एक उदाहरण से समझते हैं जैसे यदि किसी कंपनी में 50 लोग काम करते हैं उन सभी लोगों का यदि डाटा तैयार करना है Daily का अटेंडेंस शीट बनाना है सैलरी सीट बनाना है या उनका पूरा डाटा तैयार करना है जिसमें उनका नाम पिता का नाम Age उनका जॉइनिंग की तारीख उनका मोबाइल नंबर उनके गांव का पता इन सभी चीजों का एक यदि डाटा तैयार करना है.

और उसको किसी भी इंटरनेट टेक्नोलॉजी के माध्यम से ऑनलाइन उपयोग करना है ऑनलाइन उसको अपडेट करना है तो उसके लिए Microsoft Access में इस पूरे डाटा को तैयार किया जाता है डाटाबेस को मैनेज किया जाता है मैनेजमेंट किया जाता है डाटाबेस को तैयार किया जाता है.

MS Access में डाटाबेस तैयार करना और जो डाटाबेस बनाने के लिए सॉफ्टवेयर होते हैं उनके तुलना में बहुत ही आसान है क्योंकि इसमें किसी भी तरह का कोई प्रोग्रामिंग करने की जरूरत नहीं होता है.

इसमें आसानी से डाटाबेस को तैयार किया जा सकता है यह पूरी तरह से ग्राफिकल यूजर इंटरफेस पर काम करता है और इसमें काम करने के लिए कोई भी व्यक्ति जो थोड़ा बहुत जानकारी रखता है वह आसानी से Microsoft Access में डाटाबेस बना सकता है.

What is MS Access in hindi

MS Access एक एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर हैं. जिस में डाटा को store या रिट्रीव किया जाता हैं. माइक्रोसॉफ्ट कॉरपोरेशन ने डाटा को स्‍टोर या  व्यवस्थित करने के लिए एमएस एक्सेस को तैयार किया था. किसी भी सॉफ्टवेयर या वेवसाइट में जो भी डाटा को फील किया जाता हैं.

उस डाटा को किसी डेटाबेस सॉफ्टवेयर में रखा जाता हैं. जैसे कि MS Access, माइक्रोसॉफ्ट एसक्यूएल सर्वर, या माई एसक्यूएल Microsoft Access एप्लीकेशन भी डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम के लिए तैयार किया गया हैं.

MS Access का इतिहास

माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा वर्ष 1996 में माइक्रोसॉफ्ट ने एमएस एक्सेस जिसको Microsoft Access के नाम से जानते हैं उसका पहला वर्जन विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में लॉन्च किया गया था.

माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा Microsoft Access को समय-समय पर अपडेट करते हुए नए वर्जन में लांच किया जाता रहा है जिसका परफॉर्मेंस भी काफी ज्यादा बेहतर होता है माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा माइक्रोसॉफ्ट एक्‍सेस अलग-अलग वर्जन इंप्रूव करके आते रहते हैं.

जो वर्तमान समय में MS Access के 2007 वर्जन 2010 2013 2016 में कुछ अलग फीचर्स को जोड़ते हुए यूजर्स के लिए लांच किया गया है.

वर्तमान समय में माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा Microsoft Access का एक नया वर्जन ग्राफिकल यूजर इंटरफेस के तहत काम करता है अब तो MS Access का 2019 वर्जन भी डाटाबेस मैनेजमेंट के लिए बहुत ही ज्यादा बेहतर एवं आकर्षक है जिसका लोग उपयोग कर रहे हैं.

एमएस एक्सेस  के मेनू बार 

  • होम
  • क्रिएट
  • एक्सटर्नल डाटा
  • डेटाबेस टूल
  • डाटासीट

Home :- इसमें व्‍यूज ब्लॉक होता हैं. फॅान्‍ट ब्लॉक होता हैं. रिच टेक्स्ट ब्लॉक होता हैं. रिकॉर्ड्स ब्लॉक होता हैं सॉर्ट एंड फिल्टर ब्लॉक होता हैं. फाइंड ब्लॉक होता हैं. इस टैब की सहायता से डाटा को फॅान्‍ट में सेट किया जाता हैं और भी जरूरी ऑप्शन इसमें दीया रहता हैं.

Create Tab :- इसमें टेबल ब्लॉक होते हैं. फॅन्‍ट ब्लॉक होता हैं. रिपोर्ट ब्लॉक होता हैं. other ब्लॉक होता हैं! इस टैब की सहायता से डेटाबेस को tabular form  में सेट किया जा सकता हैं.

External Data Tab :- इस टैब में इंपोर्ट ब्लॉक होता हैं. एक्सपोर्ट ब्लॉक होता हैं. कलेक्ट डाटा ब्लॉक होता हैं. शेरप्वाइंट लिस्ट ब्लॉक होता हैं. यदि हम किसी बाहरी डाटा को एक्सेस में इनपुट करना चाहें तो इस टैब में दिए गए ऑप्शन की सहायता से कर सकते हैं. इस टैब की सहायता से डेटाबेस को एक्सपोर्ट भी कर सकते हैं.

Database Tool Tab :- इस टैब में माइक्रो ब्लॉक होता हैं. सो हाइट ब्लॉक होता हैं. एनालाइज ब्लॉक होता हैं. मुंव डाटा ब्लॉक होता हैं. इस टैब में दिए गए टूल की सहायता से हम लोग माइक्रो को रन करा कर डाटा को आसानी से मैनेज कर सकते हैं. डाटा को छुपा भी सकते हैं.

Data Sheet Tab :- इस टैब में views  ब्लॉक होता हैं. फील्ड एंड कॉलम ब्लॉक होता हैं. डाटा टाइप एंड फॉर्मेटिंग ब्लॉक होता हैं. रिलेशनशिप ब्लॉक होता हैं. इस टैब की सहायता से डाटा को व्‍यू  ऑप्शन की सहायता से देख सकते हैं. डाटा टाइप फॉर्मेटिंग कर सकते हैं. डाटा टाइप टूल की सहायता से डाटा टाइप को डिफरेंस फॉर्मेट में बदल सकते हैं.

एमएस एक्सेस का उपयोग

Microsoft Access का उपयोग किसी प्रकार के डाटा बेस बनाने के लिए किया जा सकता हैं. जैसे कि किसी स्कूल के सारे छात्रों का रिकॉर्ड रजिस्टर में न रखकर ऑनलाइन किसी डेटाबेस में रखा जा सकता हैं. और जब उस डाटा को देखने की जरूरत हो तो उसको बहुत ही आसानी से और कम समय में उस डेटाबेस को देखा जा सकता हैं.

  • किसी भी तरह का डाटाबेस तैयार कर सकते हैं
  • MS Access को Front End या Back End दोनो के लिए उपयोग कर सकते हैं
  • MS Access का उपयोग चाहे छोटे से छोटे डाटाबेस तैयार करना हो या बड़े से बड़े डाटाबेस तैयार करना होता है दोनों के लिए कर सकते हैं
  • Microsoft Access डाटाबेस को किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के थ्रू कोलैबोरेट कर सकते हैं
  • सी शार्प प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ डाटाबेस बनाने के लिए MS Access को कनेक्ट कर सकते हैं.
  • MS Access एक नॉर्मल एवं बेहतरीन डाटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर है जिसके तहत आसानी से डाटा तैयार किया जा सकता है.

एमएस एक्सेस का लाभ

Microsoft Access को किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज एप्लीकेशन से जोड़ा जा सकता हैं. जैसे कि डॉट नेट J# या सी प्लस प्लस एमएस एक्सेस एक यूजर फ्रेंडली डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम हैं. जिसको किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ जोड़कर के डाटा को स्टोर किया जा सकता हैं.

  • यह एक यूजर फ्रेंडली डाटाबेस एप्लीकेशन हैं.
  • यह एक अनसिक्‍योर डाटाबेस एप्लीकेशन हैं.
  • किसी भी प्रोग्राम में लैंग्वेज के साथ सपोर्ट करता हैं.
  • MS Access सिर्फ आपके फॉर्म का ही व्यवस्था देता हैं.
  • एक्सेस का उपयोग बिजनेस स्कूल कॉलेज तथा अन्य क्षेत्रों में डाटा स्टोर करने के लिए किया जाता हैं.
  • एमएस एक्सेस डाटाबेस फाइल को इंक्रिप्ट और पासवर्ड को प्रोटेक्ट करने में मदद करता हैं.

MS Access को किसने बनाया

Microsoft Access को माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा बनाया गया है जिसका मालिक बिल गेट्स हैं माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का ही एक प्रोडक्ट MS Access है जिसमें डाटाबेस तैयार किया जाता है.

एमएस एक्सेस से नुकसान

यह अन्य डेटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर के मुकाबले इसका सुरक्षा थोड़ा कम होता हैं. MS Access in hindi के डाटा ऑन सिक्योर रहता हैं. डेटा सुरक्षा के मामले में एमएस एसक्यूएल सर्वर स्क्वेयर सॉफ्टवेयर सबसे अच्छा डेटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर हैं.

एमएस एक्सेस को सुरक्षा की दृष्टि से सही नहीं कहा जा सकता हैं. इसलिए इस डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम को सीखने के लिए या ऑन सिक्योर डाटा को रखने के लिए प्रयोग किया जा सकता हैं.

  • यह एक सिंपल डाटाबेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर है
  • एमएस एक्सेस डाटाबेस में कोई भी व्यक्ति आसानी से डाटाबेस बना सकता है
  • MS Access में डाटाबेस बनाने के लिए किसी भी तरह का कोई प्रोग्रामिंग की जानकारी नहीं करना पड़ता है
  • यह एक साधारण डाटाबेस बनाने वाला सॉफ्टवेयर है
  • एमएस एक्सेस डाटाबेस को इस्तेमाल करने के लिए आपको माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का पूरा पैकेज खरीदना पड़ता है
  • MS Access में डाटा को एक लिमिटेड सीमा के तहत ही रख सकते हैं
  • MS Access में जितने भी डाटास्टोर होते हैं सभी एक ही जगह पर स्टोर होते हैं

साराशं

Microsoft Access का लाभ एवं नुकसान तथा इतिहास MS Access के बारे में जानकारी दी गई है माइक्रोसॉफ्ट एक्‍सेस को किसने बनाया एवं अन्य जानकारी भी दी गई है.

एमएस एक्‍सेस के बारे में दी गई जानकारी कैसा लगा कृपया कमेंट करके अपना राय जरूर दें तथा इस जानकारी को अपने दोस्त मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर जरूर क

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment