एमपिन क्या होता हैं एमपिन का उपयोग,लाभ एवं महत्‍व

Mpin kya hota hai. MPin क्या है, MPin का उपयोग क्या है, इस का फुल फॉर्म क्या होता है, MPin क्यों आवश्यक है इस तरह का सवाल आज के समय में लगभग कई लोगों के मन में जरूर आ रहा होगा, क्योंकि वर्तमान समय में पैसों का लेनदेन कुछ ही समय में घर बैठे अपने मोबाइल के द्वारा कर लिया जाता है यह सुविधा नेट बैंकिंग मोबाइल बैंकिंग के द्वारा संभव हो पाया है. 

तो जो व्यक्ति मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं ऑनलाइन ट्रांजैक्शन मोबाइल के द्वारा ही करते हैं तो उन्हें MPin की आवश्यकता जरूर पड़ती है. यह एक सिक्योरिटी कोड होता है जिससे किसी भी समय या किसी को भी मोबाइल से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने में सुविधा प्राप्त होता है. वर्तमान समय में कई ऐसे साइबर क्राइम के मामले सुनाई पड़ते हैं जो कि कई लोगों के मोबाइल का लैपटॉप का डाटा हैक कर लेते हैं. 

फ्रॉड कॉल करके या एसएमएस के द्वारा लोगों से कोड के बारे में पूछ कर बैंक के अकाउंट से गलत तरीके से जो भी अकाउंट में पैसे रहते हैं उसे निकाल लेते हैं. इसी को सिक्योर करने के लिए बैंक के द्वारा बैंक खाताधारकों को MPin की सुविधा दी जाती है.Password Ko Hindi Mein Kya Kahate Hain

MPin kya hota hai

जिस तरह एटीएम कार्ड से पैसे निकालने के लिए एक सुरक्षित कोड होता है उसी तरह मोबाइल से ऑनलाइन किसी को मनी ट्रांजैक्शन करने के लिए बैंक के द्वारा MPin दिया जाता है. MPin एक 4 अंकों का सिक्योरिटी कोड होता है. किसी किसी बैंक में यह कोड 6 अंकों का भी होता है. 

MPin उसी व्यक्ति को मिलता है जिसका अकाउंट बैंक में है और उस अकाउंट से जो मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड है. उसी मोबाइल नंबर से किसी का पैसों का लेनदेन आसानी से कर सकते हैं. यह कोड सरकार के द्वारा एक ऐसा सुरक्षित कोड के रूप में जारी किया गया है जो कि मोबाइल बैंकिंग को दोतरफा प्रमाणीकरण किया जाता है. 

Mpin kya hota hai

जब कोई ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन के लिए बैंक से अथॉरिटी लेता है परमिशन लेता है तो उस आवेदक का जो रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर होता है उसका बैंक के द्वारा authentication किया जाता है.Debit Card Kya Hota Hai

MPin का फुल फॉर्म क्या होता है

मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से किसी को पैसे का लेनदेन करने के लिए Mpin का जो 4 अंकों का कोड होता है उसको डालना पड़ता है. बैंक के अकाउंट में जो मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड होता है उसी मोबाइल से पैसों का लेनदेन किया जा सकता है.

MPin का फुल फॉर्म mobile banking personal identification number होता है. इसको हिंदी में मोबाइल बैंकिंग व्यक्तिगत पहचान संख्या कहा जाता है.

मोबाइल में यूएसएसडी बैंकिंग, यूपीआई ऐप, भीम ऐप आदि के द्वारा ही पैसों का लेनदेन कर सकते हैं और जब भी पैसों का लेन देन करेंगे तो पहले MPin कोड डालना पड़ता है उसके बाद ही पैसे सुरक्षित ट्रांसफर हो सकते हैं.Bank Job Ke Liye Kya Karen

MPin का क्या उपयोग है

पहले के समय में अगर किसी को पैसे का लेनदेन करना होता था, तो बैंक में जाकर घंटों लाइन में लगना पड़ता था. अगर किसी व्यक्ति के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करना होता था तो चेक अकाउंट में डाल कर पैसे ट्रांसफर किया जा सकता था. उसमें भी 1 दिन 2 दिन का समय लगता था. लेकिन आज के समय में मोबाइल से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन घर बैठे सेकंड में या मिनटों में कर लेते हैं. 

तो Mpin एक ऐसा गुप्त कोड होता है एक ऐसा सुरक्षित पासवर्ड होता है जिसके माध्यम से अपने मोबाइल से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन घर बैठे आसानी से कर सकते हैं. यह नंबर बैंक से मिलता है.

जब बैंक में मोबाइल बैंकिंग की सुविधा के लिए रजिस्ट्रेशन कराया जाता है, उसी समय बैंक के द्वारा अपने ग्राहकों को यह कोड मिलता है. MPin का उपयोग उसी मोबाइल से किया जा सकता है जो मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट से अटैच होगा.

जिसका बैंक में अकाउंट है उसके लिए Mpin कोड बहुत आवश्यक है. यह कोड जितना ही सुरक्षित है, जितना ही उपयोगी है, उतना भी ही सेंसिटीव भी है. क्योंकि अगर किसी को यह कोड मिल गया तो आपके बैंक के अकाउंट से गलत तरीके से पैसे भी निकाल सकता है. इसलिए उपयोगकर्ता का एक जिम्मेदारी होता है कि इस कोड को बहुत ही सुरक्षित तरीके से रखें.Upi Id Kya Hai

MPin क्यों जरूरी है

कई बार टीवी में न्यूज़पेपर में अक्सर साइबर क्राइम के बारे में देखा या सुना जाता हैं. कई लोगों के मोबाइल पर फ्रॉड कॉल आता है और कोड को शेयर करने से बैंक के खाता धारक के अकाउंट से गलत तरीके से पैसे निकाल लेते हैं.

इसीलिए बैंक अकाउंट से पैसे सुरक्षित रखने के लिए साइबर क्राइम को कम करने के लिए बैंक के द्वारा MPin सिक्योरिटी कोड जारी किया गया है. अगर कोई व्यक्ति किसी के बैंक के अकाउंट से पैसे निकालना भी चाहेगा तो पहले अपने मोबाइल में MPin डालना पड़ेगा, तभी पैसे सुरक्षित ट्रांजैक्शन हो सकता है.

तो जो भी व्यक्ति मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्राप्त करते हैं उन्हें अपने Mpin को सुरक्षित रखना चाहिए. किसी दूसरे व्यक्ति को कभी भी बताना नहीं चाहिए, क्योंकि इनके द्वारा मोबाइल से बहुत ही सुरक्षित तरीके से और बहुत ही आसानी से पैसों का लेनदेन संभव हो जाता है.Google App Ka Naam Kya Hai

MPin का महत्व

Mpin का सबसे बड़ा महत्व यह है कि यह नंबर बैंक खाते का सुरक्षा कवच की तरह होता है. MPin नंबर नहीं रहेगा तो कोई भी व्यक्ति किसी के भी बैंक के अकाउंट से अपने मोबाइल के माध्यम से पैसे निकाल सकता है. जिसके पास मोबाइल बैंकिंग है उसके लिए Mpin कोड बहुत ही महत्वपूर्ण है और सबसे महत्वपूर्ण है कि इस नंबर को गुप्त रखा जाए. 

अगर इस सुरक्षा कवच का जानकारी किसी दूसरे व्यक्ति को लग जाएगा तो आपके बैंक खाते में जितने भी पैसे हैं, किसी के द्वारा निकाला भी जा सकता है. आपका बैंक खाता असुरक्षित हो सकता है.

जिससे आपको बहुत ही ज्यादा आर्थिक नुकसान भी हो सकता है. MPin बैंक के द्वारा इसीलिए दिया जाता है जिससे यह पता चल सके कि जो भी बैंक खाते से पैसे का लेन देन हो रहा है वह सही व्यक्ति के द्वारा हो रहा है.Recharge Kaise Karte Hain

MPin का उपयोग कहां है

वैसे तो आप लोग जान ही चुके हैं कि MPin का उपयोग मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से पैसों के लेनदेन के लिए किया जाता है. लेकिन यह भी जानना आवश्यक है कि Mpin का उपयोग कहां कहां किया जा सकता है.

मोबाइल में कौन कौन सा ऐसा सुविधा है जिससे पैसों का लेनदेन कर सकते हैं. तो MPin का उपयोग अपने मोबाइल में मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन के लिए किया जाता है या कई ऐसे मनी ट्रांजैक्शन करने वाले ऐप है उसके लिए भी किया जाता है.

  • भीम एप
  • यूपीआई पेमेंट
  • यूएसएसडी बैंकिंग
  • SMS बैंकिंग
  • आइMPinएस
  • आईवीआर
  • मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन

MPin कैसे प्राप्त करें

इस सुरक्षित कोड को प्राप्त करने के लिए सबसे पहले बैंक में अकाउंट होना जरूरी है. जब बैंक में खाता रहेगा और उस खाता से जो भी मोबाइल नंबर अटैच रहेगा उसी नंबर पर मोबाइल बैंकिंग की सुविधा ले सकते हैं. MPin बैंक के द्वारा प्राप्त होता है. 

जिस व्यक्ति को मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्राप्त करना है वह बैंक में अपना मोबाइल नंबर रजिस्टर करते हैं और मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्राप्त करने के लिए बैंक से रिक्वेस्ट करते हैं.

जिसके बाद बैंक के द्वारा एक यूजर आईडी मिलता है और साथ ही एक 4 अंकों का या 6 अंको का MPin भी दिया जाता है. जिससे खाताधारक अपने घर से ही अपने मोबाइल से ऑनलाइन मनी ट्रांसफर कर सकते हैं.

एमपिन प्राप्त करने का दूसरा तरीका अपने घर से भी है. अपने मोबाइल में यूएसएसडी बैंकिंग या यूपीआई एप के माध्यम से भी इस कोड को प्राप्त किया जा सकता है.

अगर कभी इस कोड को बदलने की भी जरूरत है तो बहुत ही आसानी से अपने मोबाइल से ही कर सकते हैं. यूपीआई एप को प्ले स्टोर से डाउनलोड करके अपना यूजर आईडी बनाकर जब लॉगिन करते हैं तो MPin बनाने का ऑप्शन मिलता है.Pan Card Kya Hai

MPin से क्या लाभ है

मोबाइल बैंकिंग से सुरक्षित मनी ट्रांजैक्शन के लिए कोड का शुरुआत किया गया है. जिसको कई मनी ट्रांजैक्शन ऐप है उसको अपने मोबाइल में डाउनलोड करके सुरक्षित तरीके से पैसों का लेनदेन कर सकते हैं.इस कोड से हर व्यक्ति को बहुत ही ज्यादा फायदा हो गया है.

  • सबसे पहले MPin के माध्यम से बहुत ही सुरक्षित तरीके से कुछ ही सेकंड या मिनट में पैसों का लेनदेन हो जाता है.
  • यह कोड बैंक अकाउंट के लिए एक सुरक्षा कवच है.
  • इस सुरक्षा कवच के रहते हुए कोई भी व्यक्ति आपके बैंक अकाउंट को हैक नहीं कर सकता है. किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा सकता है.
  • अगर आपका मोबाइल कहीं गुम भी हो जाता है तो आपके अकाउंट से कोई पैसे बिना Mpin के सुविधा के नहीं निकाल सकते है.
  • एमपिन कोड 4 या 6 अंक का होता है जिससे बहुत ही आसानी से याद हो जाता है.
  • एमपिन अपने बैंक से आवेदक बहुत ही आसानी से प्राप्त कर सकता है या खुद से भी यूएसएसडी या यूपीआई एप से बना सकता है.
  • एमपिन का उपयोग मोबाइल बैंकिंग को सिक्योर बनाता है.
  • बैंक के द्वारा Mpin जाने जारी करने से कई तरह के साइबर क्राइम भी कम हो गए हैं.

एमपिन से नुकसान

वैसे तो यह 4 या 6 अंकों वाला कोड किसी भी मोबाइल बैंकिंग के लिए एक सुरक्षा कवच है सिक्योरिटी कोड है लेकिन कभी-कभी इससे नुकसान भी हो सकता है.अगर अपना एमपिन कोड किसी दूसरे व्यक्ति को बताते हैं तो वह आपके बैंक अकाउंट से पैसे भी ट्रांसफर कर सकता है.

कभी-कभी ऐसा भी होता है कि कोई व्यक्ति अपना एमपिन कोड भूल जाता है तो ऐसे समय में अगर किसी को पैसे ट्रांसफर करना जरूरी है तो बिना MPin का नहीं हो सकता है. Signature Kya Hai

एमपिन के बारे में कुछ जरूरी सवाल जवाब

एमपिन क्या है

MPin एक सुरक्षित कोड है जिसका इस्तेमाल मोबाइल बैंकिंग में किया जाता है.

एमपिन का फुल फॉर्म

मोबाइल बैंकिंग पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर

एमपिन को हिंदी में क्या कहते हैं

मोबाइल बैंकिंग व्यक्तिगत पहचान संख्या.

कुछ जरूरी बातें

Mpin kya hota hai – एमपिन कोड को जितना ही सुरक्षित रखेंगे उतना ही फायदेमंद होगा.आज के समय में हर रोज नए नए तरीकों का उपयोग करके हैकर ऑनलाइन धोखाधड़ी कर रहे हैं. कई साइबर क्राइम की घटनाएं सुनी जाती है. इसलिए आप अपने एमपिन यूपीआई कोड एटीएम कोड आदि को जितना ही गुप्त रखेंगे, उतना ही आपके लिए आपके बैंक अकाउंट के लिए सुरक्षित रहेगा. 

जहां तक हो सके अपने एक ही मोबाइल नंबर से मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्राप्त करें. किसी दूसरे व्यक्ति को या किसी फ्रॉड कॉल आता है या मैसेज आता है तो उन्हें अपने बैंक के अकाउंट के बारे में अपने एमपिन यूपीआई आदि नंबर को शेयर नहीं करना चाहिए.

आपके अकाउंट में कितना पैसा है उसे समय-समय से वेरीफाई करते रहें तो ज्यादा फायदा होता है. इस कोड को सिर्फ पैसों के लेनदेन करते समय ही अपने मोबाइल में ध्यान पूर्वक डालें.

ravi
नमस्कार रवि शंकर तिवारी ज्ञानीटेक रविजी ब्लॉग वेबसाईट के Founder हैं। वह एक Professional blogger भी हैंं। जो कंप्‍यूटर ,टेक्‍नोलॉजी, इन्‍टरनेट ,ब्‍लॉगिेग, SEO, एमएस Word, MS Excel, Make Money एवं अन्‍य तकनीकी जानकारी के बारे में विशेष रूचि रखते हैंं। इस विषय से जुड़े किसी प्रकार का सवाल हो तो कृपया जरूर पूछे। क्‍योकि इस ब्‍लॉग का मकसद लोगो बेहतर जानकारी उपलब्‍ध कराना हैंं।

1 COMMENT

  1. Enjoyed reading your post keep sharing such amazing post will come back to read more. Here I have written about Lord Shri Hanuman Chalisa, please have a look. hanumanchalisalyrics

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here