कंप्यूटर मेमोरी क्या हैंं उपयोग एवं विशेषता

कंप्यूटर मेमोरी क्या है Memory in hindi language हम सभी लोग लगभग कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं कंप्यूटर मेमोरी यानी कि दिमाग किसे कहा जाता है.

जैसे हम लोग का मेमोरी पावर होता है उसी तरह से कंप्यूटर मेमोरी यानी कि उसका जो ब्रेन  मेमोरी होता हैं उसके बारे में विस्तृत जानकारी होना बहुत ही जरूरी है इस लेख में हम लोग कंप्यूटर मेमोरी के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे.

ताकि कंप्यूटर के Memory kya hai के बारे में पूरी जानकारी मिल सके कंप्यूटर का प्राइमरी Memory का क्या काम होता है सेकेंडरी Memory या सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस का क्या काम होता है कंप्यूटर Memory को किस तरह से मापा जाता है इन सभी के बारे में जानने के लिए इसको पूरा पढ़ना होगा.

What is Computer Memory in hindi

कंप्यूटर का मतलब संगणक होता है Memory का मतलब ब्रेन होता है Computer का ब्रेन को मेमोरी कहा जाता है जैसे हम लोग अपने ब्रेन में किसी बात को याद रखते हैं उसी तरह से Computer का जो मेमोरी होता है वह किसी डाटा या प्रोसेस को किस तरह से अपने पास रखता है उसके इस्तेमाल के लिए जो डिवाइस का उपयोग किया जाता है उसी को Memory कहते हैं.

कंप्यूटर एक मशीन है और Computer का कार्य करने का जो प्रक्रिया है वह पूरी तरह से हार्डवेयर सॉफ्टवेयर पूरा होता है. Computer के ब्रेन को सीपीयू कहा जाता है सीपीयू के अंदर Memory होता है Memory को प्राइमरी Memory के नाम से जाना जाता है.

प्राइमरी मेमोरी में रैम और रोम होता है Computer में किसी भी चीज को याद रखने के लिए स्टोर करने के लिए रैम और रोम का उपयोग किया जाता है उसी को Computer का मेमोरी कहा जाता है.

Memory in hindi language

कंप्यूटर मेमोरी दो प्रकार की होती है 

Primary memory :- (प्राथमिक मेमोरी) प्राथमिक मेमोरी कंप्यूटर का मुख्य मेमोरी होता है जो कि Computer के सीपीयू के साथ जुड़ा होता है Computer में जो भी कार्य प्रोसेसिंग किया जाता है उसको प्राइमरी मेमोरी के द्वारा ही प्रोसेस किया जाता है.

इस Memory को (volatile memory यानी कि परिवर्तनशील मेमोरी) कहा जाता है. प्राइमरी मेमोरी डाटा को परमानेंट के लिए स्टोर नहीं करता है इसलिए इसे परिवर्तनशील मेमोरी कहा जाता है जब Computer को बंद कर दिया जाता है उस समय प्राइमरी मेमोरी के पास डाटा मौजूद नहीं रहता है.

रैम क्या है 

RAM का फुल फॉर्म Random access memory होता है और यह परिवर्तनशील मेमोरी होता है जिसको भोला टाइल मेमोरी कहते हैं Computer में जब किसी भी प्रकार के डाटा को प्रोसेस किया जाता है उस समय रैम डाटा को प्रोसेस करता है और डाटा को अपने पास यह स्टोर नहीं करता है.

रैम का इस्तेमाल Computer में डाटा को प्रोसेस करने के लिए किया जाता है. रैम में जो भी डाटा को प्रोसेस किया जाता है उस डाटा को रैम अपने पास स्टोर नहीं करता है और जब Computer बंद हो जाता है तब वे डाटा नष्ट हो जाते हैं.

रोम क्या है 

रीड ओनली Memory को ROM कहते हैं इसका काम Computer के डाटा को रीड करना यानी कि पढ़ना होता है Computer Memory में रोम एक स्थाई मेमोरी होता है जिस को परमानेंट मेमोरी कहते हैं रोम में स्टोर किए गए डाटा Computer बंद हो जाने के बाद भी नष्ट नहीं होता है क्योंकि ROM एक (non volatile storage memory है इसको आप परिवर्तनशील मेमोरी) कहते हैं.

रोम  के कुछ प्रकार  

PROM:- programmable read only memory यह एक ऐसा मेमोरी है जिसको Computer के बंद हो जाने के बाद भी जो इसमें डाटा मौजूद रहता है उसे मिटाया नहीं जा सकता या उस में कुछ बदलाव नहीं किया जा सकता है जो डाटा एक बार इसमें संग्रहित कर दिया जाता है उसे मिटाया नहीं जा सकता है.

EPROM:- Erasable programmable read only memory ई प्रोम Memory में स्टोर किए गए डाटा को पराबैगनी किरणों के द्वारा मिटाया या हटाया जा सकता है और इसमें नए प्रोग्राम को स्टोर भी किए जा सकते हैं.

EEPROM:- electrical programmable read only memory फुल फॉर्म होता है इस मेमोरी में जो प्रोग्राम या डाटा होते हैं उसको विद्युतीय विधि से मिटाया हटाया जा सकता है.

सेकेंडरी मेमोरी क्या है  

रीड ओनली मेमोरी की तरह है सेकेंडरी Memory यानी कि सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस जो होता है वह नॉन वोलेटाइल Memory के नाम से जाना जाता है जिसको हिंदी में और परिवर्तनशील स्टोरेज डिवाइस के नाम से जानते हैं सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस में डाटा को परमानेंटली स्टोर कर सकते हैं.

इसमें डाटा को संग्रहित करना सुरक्षित होता है और इस डाटा को Computer के यूजर कभी भी एक्सेस कर सकते हैं सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस यानी कि सेकेंडरी Memory जो होता है वह Computer का मुख्य भाग नहीं होता हैसेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के रूप में हार्ड डिक्स सीडी डीवीडी पेन ड्राइव इत्यादि का उपयोग किया जाता है.

सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस की विशेषता  

  • इसका डाटा स्थाई रूप से Memory में स्टोर रहता है.
  • इसमें स्टोर किए गए डाटा हमेशा के लिए मौजूद रहता है.
  • सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस का स्टोरेज क्षमता बहुत ज्यादा होता है.
  • इसका स्टोरेज गति थोड़ा धीमा होता है.
  • Computer बंद हो जाने के बाद भी डाटा सुरक्षित रहता है.

कैचे मेमोरी क्या है  

कैचे मेमोरी एक मेमोरी होता है जो सीपीयू के साथ तेजी गति से डाटा को प्रोसेस करने के लिए काम करता है सीपीयू में जब किसी प्रकार के डाटा को प्रोसेस करने के लिए इनपुट दिया जाता है तो उसके लिए कैचे मेमोरी बहुत ही तेजी गति से डाटा को प्रोसेस करता है.

कैचे मेमोरी मेन मेमोरी के साथ जुड़ा रहता है और यह काम को बहुत ही तेज गति से करने में मदद करता है. कैचे मेमोरी में कार्य करने की क्षमता अधिक होता है और इसमें प्रोग्राम या डाटा को बार-बार साफ करना पड़ता है क्योंकि इसका स्टोरेज क्षमता जो होता है वह कम होता है.

कंप्यूटर मेमोरी यूनिट्स को कैसे मापते हैं  

कंप्यूटर पूर्ण रूप से बायनरी नंबर को ही है समझता है Computer में किसी भी लैंग्वेज में डाटा को प्रोसेस करते हैं तो वह डाटा Computer अपने भाषा यानी कि बायनरी नंबर में परिवर्तित कर लेता है जिसको Computer जीरो और एक के रूप में परिवर्तित कर के डाटा को प्रोसेस करता है.

Binary digits कोही bits मैं कैलकुलेट किया जाता है Computer का सबसे छोटी इकाई bit होता है. अलग-अलग प्रकार के मापने की प्रक्रिया अलग होती है उसी प्रकार Computer में Memory को मापने के लिए बाइट  के हिसाब से मापा जाता है.

कंप्यूटर के स्टोरेज क्षमता को नापने के लिए मात्रकों का निर्धारण किया गया है जिसे Computer के मेमोरी को नापा जाता है.Computer Memory को बाइनरी डिजिट का एक सेट बनाया जाता है जिसकी संख्या 8 डिजिट में होती है और यही 8 डिजिट्स यानी कि 8 bit बराबर एक Byte होता है.

Binary digit

बिट और बाइट को समझने के लिए अंग्रेजी के छोटे b से सबसे bits को कैलकुलेट किया जाता है और अंग्रेजी के बड़े B से Byte को कैलकुलेट किया जाता है जैसे 100 Mbps को 100 MBps के बराबर नहीं माना जाएगा क्योंकि 100Mbps का मतलब 100 Mega bits per second होता है जबकि 100 MBps का मतलब 100 Mega Byte per second होता हैं.

  • 1 Bit = 0, 1
  • 4 Bit = 1 Nibble
  • 8 Bit = 1 Byte
  • 1024 Byte = 1 KB (Kilo bytes)
  • 1024 KB = 1 MB (Mega bytes)
  • MB 1024  = 1 GB (Giga bytes)
  • GB1024  = 1 TB (Tera bytes)
  • TB 1024  = 1 PB (Penta bytes)
  • PB 1024  = 1 EB (Exa bytes)
  • EB 1024  = 1 ZB (Zetta bytes)
  • ZB 1024  = 1 YB (Yotta bytes)
  • YT 1024  = 1 BB (Bronto bytes)
  •  BB 1024 = 1 GB (Geop bytes)

सारांश 

इस लेख में कंप्यूटर मेमोरी के बारे में हम लोग पूरी जानकारी प्राप्त किये है जिसमें कंप्यूटर मेमोरी क्या है रैम क्या है रोम क्या है सेकेंडरी Memory क्या है और कंप्यूटर मेमोरी को कैसे मापा जाता है इन सभी के बारे में जानकारी प्राप्त किए हैं.

कंप्यूटर मेमोरी से संबंधित कोई सवाल हो तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें. कंप्यूटर मेमोरी के बारे में जानकारी कैसा लगा कृपया कमेंट करके अपना राय जरूर दें और अपने दोस्त मित्रों के साथ जानकारी को शेयर भी करें.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment