जेईई का फुल फॉर्म, जेईई क्‍या हैं

हमारे भारत में हर साल कई ऐसे अभ्यर्थी होते हैं. जो कि JEE का परीक्षा देकर इंजीनियरिंग के लिए एडमिशन लेते हैं. लेकिन Jee ka full form in hindi क्या होता हैं. इसके बारे में जानकारी कम ही लोगों को पता होगा तो हम लोग इस लेख में क्या होता हैं JEE का परीक्षा कितने प्रकार के होते हैं. इसके बारे में जानते हैं.

हर किसी का अपना एक सपना होता हैं कि वह कोई बड़ा आदमी बने. डॉक्टर इंजीनियर ऑफिसर कोई बड़ा अधिकारी कोई टीचर बनना चाहता हैं तो उसके लिए बहुत ही कड़ा मेहनत करना पड़ता हैं. कोई न कोई परीक्षा देना पड़ता हैं. तभी वह व्यक्ति कोई अच्छे पदों पर कार्य कर सकता हैं

वैसे ही इंजीनियरिंग करने के लिए JEE का परीक्षा पास करना पड़ता हैं तो आइए हम लोग इस लेख में क्या होता हैं JEE क्या हैं. यह कितने प्रकार का होता हैं  के बारे में पूरी जानकारी नीचे प्राप्त करते हैं.

Jee ka full form kya hota hai 

हर साल हम लोग कई लोगों को सुनते हैं कि इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षा दिया गया हैं अपने लक्ष्य के अनुसार अपने सपनों के अनुसार हर कोई किसी ना किसी बड़े पद पर नौकरी करने के लिए बड़ा आदमी बनने के लिए कई तरह के परीक्षाएं देता हैं तो JEE एक एंट्रेंस एग्जाम होता हैं.

JEE का एंट्रेंस एग्जाम आईआईटी एनआईटी में प्रवेश पाने के लिए दिया जाता हैं और इसमें अच्छी रैंक लाने के बाद ही किसी बड़े कॉलेज यूनिवर्सिटी में एडमिशन हो सकता हैं.जिस अभ्‍यार्थी को इंजीनियर बनना हैं उनके लिए JEE का एंट्रेंस एग्जाम बहुत ही महत्वपूर्ण परीक्षा होता हैं.

इसीलिए सबसे पहले इसमें सफलता पाना आवश्यक हो जाता हैं. उसके साथ ही इस एग्जाम में रैंक भी अच्छा लाना पड़ता हैं. क्योंकि किसी भी अभ्यर्थी के रैंक के अनुसार हैं. उन्हें किसी कॉलेज में एडमिशन मिलता हैं. Jee ka full form – joint entrance examination होता हैं. जिसको पास करने के बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर सकते हैं.

jee ka full form in hindi

Jee full form in Hindi

कई छात्र ऐसे होते हैं जो कि इंजीनियरिंग में प्रवेश परीक्षा के लिए JEE का एग्जाम देते हैं. और वह पास करके अपनी इच्छा अनुसार किसी भी कॉलेज में या जिस सब्जेक्ट से इंजीनियरिंग करना चाहते हैं वह कर सकते हैं. Jee ka full form इंग्लिश में जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम होता हैं Jee ka full form में संयुक्त प्रवेश परीक्षा के नाम से जानते हैं.

Jee kya hai 

जेईई जिसे की ज्वाइंट एंटरेंस एग्जामिनेशन कहा जाता हैं. जिसे हिंदी में संयुक्त प्रवेश परीक्षा के नाम से हम लोग जानते हैं. तो इसके नाम से ही यह निष्कर्ष निकालता हैं पता चलता हैं कि यह एक प्रवेश परीक्षा हैं तो यह किस चीज का प्रवेश परीक्षा हैं इसके बारे में भी जानकारी रखना जरूरी हैं.

भारत में कई ऐसे छात्र हैं जो कि 10th ट्वेल्थ करने के बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं. किसी अच्छे इंजीनियरिंग कॉलेज यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेना चाहते हैं तो उनके लिए सबसे पहले जेईई का एंट्रेंस एग्जाम पास करना पड़ता हैं. उसके बाद ही किसी भी कॉलेज में एडमिशन मिल सकता हैं.

भारत में किसी भी कॉलेज में अगर किसी छात्र को इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना हैं तो उसके लिए पहले जेईई का एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता हैं. उसके बाद भारत के किसी भी टॉप कॉलेज यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया जा सकता हैं. जेईई एंट्रेंस एग्जाम एक नेशनल लेवल का प्रवेश परीक्षा होता हैं.

जिसको देने के बाद देश के किसी भी स्टेट में गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज या सेंट्रल इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लिया जा सकता हैं.

जेईई के कितने भाग होते हैं

जेईई एंट्रेंस एग्जाम क्या हैं जेई का फुल फॉर्म क्या हैं. इसके बारे में तो ऊपर हमने जानकारी प्राप्त कर लिया कि इंजीनियरिंग की परीक्षा देने के लिए पहले JEE का एंट्रेंस एग्जाम देना महत्वपूर्ण होता हैं. लेकिन एग्जाम कितने भाग में होता हैं इसके बारे में भी जानकारी रखना आवश्यक हैं.

तो JEE को मुख्य रूप से दो भागों में विभाजित किया गया हैं पहले JEE Mains का परीक्षा होता हैं और उसके बाद JEE  का परीक्षा आयोजित किया जाता हैं.

  • JEE mains
  • JEE advanced

JEE mains

जेईई मेंस नेशनल लेवल का परीक्षा होता हैं जो कि हर साल दो बार आयोजित किया जाता हैं. 6 महीने पर एक परीक्षा हर साल आयोजन होता हैं. अगर किसी अभ्यर्थी को किसी स्टेट लेवल के गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज या सेंटर इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश पाना हैं तो उन्हें पाहले JEE का मेंस एग्जाम पास करना पड़ता हैं.

जिसमें कि आईआईटी एनआईटी से इंजीनियरिंग किया जा सकता हैं और इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के लिए किसी कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए JEE का मेंस परीक्षा पास करना और अच्छा रैंक लाना जरूरी हैं.

जेईई मेंस के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए 

जैसा कि हम लोगों ने ऊपर इस बारे में जानकारी हासिल किया हैं कि JEE का परीक्षा किसी भी इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लेने से पहले पास करना पड़ता हैं तो उसके लिए क्या योग्यता होनी चाहिए इसके बारे में भी कुछ जानकारी हासिल कर लेते हैं.

जब कोई भी छात्र इंटर में पढ़ाई कर रहा हो या ट्वेल्थ पास कर चुका हैं और वह फिजिक्स केमिस्ट्री मैथ  सब्जेक्ट से ट्वेल्थ पास किया हो तो वह जेईई मेंस का एग्जाम दे सकता हैं.

जेईई मेंस का एंट्रेंस एग्जाम सीबीएसई बोर्ड द्वारा कराया जाता हैं इसमें जिस अभ्यार्थी को अच्छे अंक प्राप्त होते हैं उन्हें आईआईटी एनआईटी सीएफटीआई या अन्य कोई भी इंजीनियरिंग कॉलेज में बहुत ही आसानी से एडमिशन मिल सकता हैं.

JEE advanced

जेईई एडवांस का परीक्षा किसी भी इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लेने से पहले एक बहुत ही महत्वपूर्ण और बहुत ही प्रसिद्ध माध्यम हैं जिसे बिना पास किए हुए भारत के किसी भी अच्छे इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन नहीं मिल सकता हैं JEE एडवांस का परीक्षा आईआईटी के द्वारा आयोजित किया जाता हैं.

JEE एडवांस का परीक्षा तभी दिया जा सकता हैं जबकि पहले जेईई मेंस की परीक्षा पास कर लिए हो अगर जेईई मेंस का परीक्षा पास नहीं किए हो और जेईई एडवांस का परीक्षा देना चाहते हैं.

तो वह अभ्यर्थी नहीं दे सकते हैं JEE एडवांस के परीक्षा भारत में इंजीनियरिंग के लिए दी जाने वाली परीक्षाओं में सबसे ज्यादा कठिन परीक्षा माना जाता हैं क्योंकि इसमें पहले जेईई मेंस का पास होना जरूरी हैं JEE एडवांस पास करने के बाद भारत के किसी भी प्रसिद्ध इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन मिल सकता हैं.

जेईई एडवांस के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए

इस परीक्षा के लिए हर साल अलग-अलग आईआईटी कॉलेज में कठिन से कठिन प्रश्न पत्र तैयार किए जाते हैं जेईई एडवांस का परीक्षा देने के लिए ट्वेल्थ में 75 परसेंट मार्क्स होना जरूरी हैं इसके साथ ही जो आरक्षण कोटे वाले हैं उनके लिए कुछ छूट भी होता हैं.

JEE एडवांस का परीक्षा अभ्यार्थियों के क्षमता का परीक्षण करने के लिए किया जाता हैं इसमें ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन रहते हैं जिससे कि उम्मीदवार की समझदारी और तर्क को मापा जाता हैं कि वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए सही हैं या नहीं इसलिए इस परीक्षा में बहुत ही समझदारी से सूझबूझ से हर क्वेश्चन का आंसर देना पड़ता हैं.

क्योंकि इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी होता हैं. सबसे जो आईआईटी में एडमिशन कराना चाहते हैं उनके लिए JEE एडवांस पास करना बहुत ही महत्वपूर्ण हैं.

जेईई परीक्षा देने के फायदे

कई बार ऐसा होता होता हैं कि कई बच्चे इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते हैं इंजीनियर बन कर अपने माता-पिता का घर परिवार का नाम रोशन करना चाहते हैं अपना सपना पूरा करना चाहते हैं अपना फ्यूचर सही बनाना चाहते हैं लेकिन उनका एडमिशन नहीं हो पाता हैं लेकिन जो बच्चे का जेईई एंट्रेंस एग्जाम देते हैं उनका यह सपना बहुत ही आसानी से पूरा हो जाता हैं.

उन्हें अपने सपने को पूरा करने का एक माध्यम JEE का एंट्रेंस एग्जाम होता हैं. कभी-कभी अच्छे नंबर आने पर किसी गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन मिलता हैं जिसमें कि कम पैसों में ही इंजीनियरिंग का पढ़ाई हो जाता हैं और वह छात्र इंजीनियरिंग का पढ़ाई करके अपना भविष्य अच्छा बना सकता हैं.

ये भी पढे़

सारांश

आजकल जो भी छात्र टेंथ ट्वेल्थ पास करते हैं उनको आगे चलकर ज्यादातर इंजीनियरिंग की पढ़ाई में ही रुचि हो रहा हैं ज्यादातर बच्चे इंजीनियर बन के अपने देश का नाम रोशन करना चाहते हैं इसलिए उनके लिए सबसे बेहतर सबसे महत्वपूर्ण जेईई का एंट्रेंस एग्जाम देना जरूरी होता हैं तभी किसी भी इंजीनियरिंग कॉलेज में अपने इच्छा अनुसार रुचि अनुसार पढ़ाई कर सकते हैं

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment