आईपीएस ऑफिसर कैसे बनें योग्यता सैलरी कार्य

IPS officer kaise bane भारत सरकार की तीन अखिल सेवाएं हैं जिनमें आईपीएस, आईएएस और आईएफएस है। आईपीएस का फुल फॉर्म Indian Police Service होता है। जिसका गठन 1948 में भारत में सही तरीके से कानून व्यवस्था को बनाए रखने और देखरेख करने के लिए किया गया। 

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए बहुत ही कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। यूपीएससी एग्जाम क्लियर करने के बाद एक आईपीएस ऑफिसर के पद पर नियुक्त हो सकते हैं। आईपीएस ऑफिसर का पद एक बहुत ही सम्माननीय पद होता है जिसको प्राप्त करने का सपना लगभग हर युवा का होता है। 

अगर IPS officer कैसे बनें जानना चाहते हैं तो नीचे पूरी जानकारी मिलेगी। इस परीक्षा को क्लियर करने के लिए दसवीं पास करने के बाद से ही कड़ी मेहनत और पूरे लगन के साथ पढ़ाई करनी पड़ती है तभी यूपीएससी एग्जाम पास करके एक IPS officer बन सकते हैं।आईपीएस बनने के लिए क्‍या योग्‍यता चाहिए,इसका तैयारी कैसे करें,सैलरी  कितना हैं आपीएस अधिकारी को मिलने वाली सुविधा के बारे में जानते हैं।

Contents

आईपीएस ऑफिसर कैसे बनें IPS officer kaise bane

आईपीएस का फुल फॉर्म इंडियन पुलिस सर्विस होता है इसे हिंदी में भारतीय पुलिस सेवा कहा जाता है। आईपीएस के लिए कैडर कंट्रोलिंग केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय के द्वारा की जाती है। यूपीएससी एग्जाम क्लियर करते हैं तो आपकी रैंक के अनुसार आईपीएस ऑफिसर के अलग-अलग पद प्राप्त होते हैं। आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए 10th के बाद प्रोसेस शुरू हो जाता है।

अगर IPS officer बनना चाहते हैं तो उसकी तैयारी 1 साल या 2 साल में नहीं हो सकती है, बल्कि 10th पास करने के बाद से ही कठिन परिश्रम के साथ एक लक्ष्य निर्धारित करके तैयारी करते हैं तो जरूर यूपीएससी एग्जाम क्लियर कर सकते हैं।

IPS officer kaise bane

1. 12वीं पास करें

टेंथ करने के बाद सबसे पहले किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से 12वीं की परीक्षा पास करें। किसी भी सब्जेक्ट के साथ 12वीं कर सकते हैं।

2. ग्रेजुएशन पास करें

12वीं पास करने के बाद किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन कोर्स पूरा करें। क्योंकि यूपीएससी एग्जाम बिना ग्रेजुएशन पास किए नहीं दिया जा सकता है। या किसी भी सिविल सर्विस सेवा के लिए आवेदन करने के लिए ग्रेजुएट होना जरूरी है। स्नातक में कॉमर्स साइंस आर्ट्स किसी भी स्‍ट्रीम के साथ पास किए हैं तो यूपीएससी का एग्जाम दे सकते हैं।

3. यूपीएससी का फॉर्म भरे

अगर ग्रेजुएशन पास कर लिए हैं या थर्ड ईयर में भी है तो यूपीएससी एग्जाम का फॉर्म भर सकते हैं। यूपीएससी का फॉर्म भरने के लिए इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। यूपीएससी के द्वारा 3 चरणों में एग्जाम आयोजित किया जाता है। यूपीएससी का एग्जाम हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषा में आयोजित किया जाता है। अपने रूचि के अनुसार किसी भी एक भाषा को चुन सकते हैं।

4. यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा

प्रारंभिक परीक्षा जिसे Preliminary Exam भी कहा जाता है। प्रारंभिक परीक्षा  में दो पेपर होते हैं। हर एक पेपर 200 नंबर का होता है। प्रारंभिक परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी होता है। अगर कोई एक प्रश्न गलत हो गया तो उसमें एक नंबर कम हो जाता है। अगर प्रारंभिक परीक्षा को पास कर लेते हैं तभी दूसरे चरण का परीक्षा दे सकते हैं।

5. मुख्य परीक्षा

यूपीएससी मुख्य परीक्षा जिसे Main Exam कहा जाता है। यह यूपीएससी परीक्षा का दूसरा चरण होता है। इस एग्जाम में 9 पेपर होते हैं। प्रारंभिक परीक्षा पास करने के बाद ही मुख्य परीक्षा दिया जाता है।

6. इंटरव्यू

आईपीएस बनने के लिए सबसे अंतिम और फाइनल एग्जाम इंटरव्‍यू होता है। जब यूपीएससी के दोनों चरण का परीक्षा पास कर जाते हैं तब इंटरव्यू एग्जाम होता है। इसमें यूपीएससी के जितने भी प्रतिष्ठित अधिकारी होते हैं उनके द्वारा आमंत्रित कैंडिडेट का इंटरव्यू होता है। यह परीक्षा 275 अंकों का होता है। 

जिसमें लगभग 30 मिनट से 45 मिनट का समय दिया जाता है। इंटरव्यू परीक्षा लेने का मुख्य उद्देश्य आईपीएस अधिकारी बनने के लिए जो व्यक्ति नियुक्त हुए हैं, उनके आत्मविश्वास उनका रवैया व्यक्तित्व विचार क्षमता आदि को अच्छे से जांचा और परखा जाता है। इस परीक्षा को पास करने के बाद मेरिट लिस्ट आता है और कैंडिडेट को ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है।

7. ट्रेनिंग

जब यूपीएससी के तीनों चरण का एग्जाम क्लियर कर लेते हैं, तो उम्मीदवार को IPS officer के रूप में कार्य करने के लिए ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है। आईपीएस ऑफिसर के लिए जो ट्रेनिंग होता है उसकी अवधि 3 साल की होती है। इस ट्रेनिंग में एक पुलिस अधिकारी के हर तरह के कार्य और कर्तव्य को बताया जाता है।

प्रशासन और पुलिस के हर एक छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी बातों को सिखाया जाता है। उसके लिए ट्रेंड किया जाता है। ट्रेनिंग में फील्ड वर्क ऑफिशियल वर्क दोनों के बारे में बताया जाता है। पुलिस विभाग से जुड़े हर तरह के कार्य का अच्छे से ट्रेनिंग दिया जाता है। 3 साल के बाद जब ट्रेनिंग पूरा होता है तो जिस पद के लिए नियुक्त हुए हैं उनके संबंधित पद पर कहीं भी नियुक्त किया जाता है। वकील कैसे बनें

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए योग्यता

भारतीय पुलिस सेवा में ऑफिसर बनने के लिए खास योग्यता की जरूरत होती है।

  1. यूपीएससी की परीक्षा देने के लिए सबसे पहले किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन पास होना जरूरी है।
  2. आवेदक को भारत का नागरिक होना आवश्यक है।
  3. उम्र सीमा कम से कम 21 वर्ष और ज्यादा से ज्यादा 32 वर्ष होना जरूरी है।
  4. ओबीसी और एससी एसटी के लिए 3 साल और 5 साल की छूट दी जाता है।
  5. पुरुष अगर आईपीएस अफसर बनना चाहते हैं तो उनकी लंबाई 165 सेंटीमीटर होनी चाहिए।
  6. महिलाओं के लिए लंबाई 150 सेंटीमीटर जरूरी है।
  7. पुरुष के लिए छाती 84 सेंटीमीटर और महिला के लिए 79 सेंटीमीटर आवश्यक है।
  8. फिजिकल एग्जाम में आवेदक के आंख का जांच स्वास्थ्य का जांच होता हैं। हर तरह के हेल्थ के बारे में जांच किया जाता है।

IPS officer kaise bane1

आईपीएस ऑफिसर के लिए तैयारी कैसे करें

एसपी, डीएसपी, डीआईजी, आईजी, डीजीपी आदि पद प्राप्त करने के लिए यूपीएससी का परीक्षा दिया जाता है। यह परीक्षा अंग्रेजों के राज्य से ही हो रही है ताकि देश में रहने वाली जो भी जनता है उन्हें कानून का पालन करना उनका देख अच्छे से किया जा सके। 

एक IPS ऑफिसर बनने के लिए कई प्रोसेस को पूरा करना पड़ता है। जैसे प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा, इंटरव्यू, फिजिकल टेस्ट आदि करने के बाद 3 साल की ट्रेनिंग होती है, उसके बाद ही आईपीएस ऑफिसर बनने का मौका मिलता है। हर साल यूपीएससी जिसे यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन कहा जाता है के द्वारा एग्जाम आयोजित किया जाता है। इस एग्जाम में लाखों लोग आवेदन करते हैं लेकिन उनमें से कुछ ही लोग सफल हो पाते हैं। 

असफलता आने की सबसे मुख्य बात यह है कि लोग मेहनत तो करते हैं लेकिन किस तरह से तैयारी किया जाता है कौन-कौन सी जानकारी प्राप्त करनी है यह पता नहीं होता है। आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए क्वालिफिकेशन शारीरिक योग्यता के साथ-साथ अच्छी तरह से एग्जाम की तैयारी भी प्रमुख होती है।

1. करंट अफेयर की जानकारी रखें

यूपीएससी की परीक्षा पास करने के लिए करंट अफेयर की जानकारी रखना सबसे जरूरी है। करंट अफेयर्स की जानकारी रखने के लिए डेली न्यूज़पेपर, हर रोज टीवी न्यूज़, इंटरनेट, यूट्यूब, लैपटॉप, मोबाइल आदि प्रमुख माध्यम है।

2. एक्जाम पेटर्न और सिलेबस की जानकारी

किसी भी एग्जाम को क्लियर करने के लिए सबसे जरूरी है कि उसके पैटर्न और सिलेबस के बारे में अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त हो। तभी उस एग्जाम को पास किया जा सकता है। हर विषय के बारे में अच्छे से रिवाइज कर सकते हैं। समझ सकते हैं और व्यवस्थित तरीके से उस विषय के हर एक प्रश्न को सॉल्व कर पाते हैं। क्योंकि हर एक एग्जाम का सिलेबस और पैटर्न अलग होता है।

3. पुराने प्रश्न पत्रों को हल करें

जब भी यूपीएससी की परीक्षा देते हैं तो पिछले साल का जो क्वेश्चन पेपर है उसको देखकर अपने आप से सॉल्व करें। इससे हर एक क्वेश्चन के बारे में आइडिया मिल जाता है कि किस तरह का क्वेश्चन एग्जाम में आ सकता है।

4. क्लास ज्वाइन करें

हर छोटे या बड़े शहरों में यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी कोचिंग क्लासेज में कराई जाती है। अगर आप भी यूपीएससी एग्जाम का तैयारी कर रहे हैं तो किसी कोचिंग क्लास को ज्वाइन करें। उसमें एक से बढ़कर एक अनुभवी टीचर के साथ पढ़कर हर एक विषय के बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। कोचिंग में प्रतियोगी परीक्षा को पास करने के लिए हर तरह के अनुभव शिक्षकों के द्वारा तैयारी कराया जाता है।

5. Mock टेस्ट लगाए

लैपटॉप कंप्यूटर पर मोक टेस्ट के द्वारा अपने हर एक क्वेश्चन का आंसर सॉल्‍व कर सकते हैं। मोक टेस्‍ट के माध्यम से आप कितने समय में कौन सा क्वेश्चन सॉल्व करते हैं पता चल जाता है। साथ ही सोचने और समझने लिखने की स्पीड का भी जानकारी हो सकता है।

6. टाइम टेबल बनाएं

किसी भी एग्जाम को देने के लिए एक टाइम टेबल बनाना आवश्यक है। टाइम टेबल निश्चित करके अगर पढ़ाई किया जाए तो अच्छे तरीके से हर एक एग्जाम की तैयारी हो जाती हैं।

7. हर सब्जेक्ट का रिवाइज करें

जो भी सब्जेक्ट सिलेबस या पैटर्न एग्जाम के लिए आवश्यक है उसका हर रोज रिवाइज जरूर करें। इससे हर एक टॉपिक या क्वेश्चन आंसर आसानी से याद हो जाता है।

8. हर सब्जेक्ट का किताब पढ़ें

एग्जाम में जो भी सब्जेक्ट है उसका अलग-अलग किताब खरीद कर पढ़ें। क्योंकि अगर आप चाहेंगे कि एक ही किताब से यूपीएससी के हर सिलेबस का तैयारी कर ले तो यह संभव नहीं है। अलग-अलग सब्जेक्ट के बुक रहेंगे तो पढ़ाई करने में भी आसानी होगा और परीक्षा का तैयारी भी अच्छे से हो पाएगा।

9. ऑनलाइन तैयारी करें

इंटरनेट पर आज के समय में हर एक एग्जाम की तैयारी करने के लिए एक से बढ़कर एक प्लेटफार्म मौजूद है। तो ऑनलाइन पर अपने घर बैठे ही बिना पैसे खर्च किए ही फ्री में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। ऑनलाइन तैयारी करने के लिए सबसे बेहतर प्लेटफार्म यूट्यूब है। यूट्यूब पर कई अनुभवी टीचर क्लास भी चलाते हैं या कई लोगों के द्वारा प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कराने के लिए वीडियो बनाकर भी अपलोड किया जाता है, तो उस के माध्यम से तैयारी कर सकते हैं।

10. एक ही लक्ष्य रखें

अगर आप IPS officer बनना चाहते हैं तो आपका सिर्फ एक ही लक्ष्य होना चाहिए कि मुझे आईपीएस ऑफिसर ही बनना है। अगर उसके साथ दूसरा कोई लक्ष्य अपने साथ लेकर चलेंगे तो किसी में भी सफलता हासिल नहीं हो सकता है। एक लक्ष्य पर केंद्रित रहेंगे तो उसका अच्छे से तैयारी भी हो पाएगा और सफलता प्राप्त करने की संभावना बहुत ही ज्यादा बढ़ भी जाती है।

11. नोट्स बनाएं

अगर परीक्षा की तैयारी अच्छे से करना चाहते हैं हर एक क्वेश्चन के आंसर को अच्छे से याद करना चाहते हैं तो उसका नोट्स बना कर अपने पास जरूर रखें। क्योंकि अगर नोट्स बनाकर तैयारी करेंगे तो हर एक क्वेश्चन का आंसर आसानी से याद रहेगा। हर एक सब्जेक्ट का अलग-अलग नोट्स की बनाने से हर एक सब्जेक्ट का रिवाइज भी होता रहेगा।

12. एनसीईआरटी की बुक पढ़े

यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी करने के लिए एनसीईआरटी की कक्षा 6 से लेकर 12वीं तक के किताबों का अध्ययन करना जरूरी है। क्योंकि इसमें सभी बेसिक नॉलेज प्राप्त हो जाते हैं। 6 से लेकर 12 तक के जब सभी एनसीईआरटी बुक पढ़ेंगे तो आपके परीक्षा को क्लियर करना आसान हो जाता है।

13. जनरल नॉलेज की जानकारी

भूगोल, इतिहास, मैथ, सामान्य ज्ञान, इंडियन पॉलिटिक्स, इंडियन आर्ट कल्चर से संबंधित हर तरह के किताब पढ़ना आवश्यक है। इससे UPSC का पेपर सॉल्व करना आसान हो जाएगा।

आईपीएस ऑफिसर का कार्य

भारत देश में आम जनता अपने घरों में सुरक्षित रहते हैं उसका सबसे ज्यादा श्रेय पुलिस विभाग के हर एक ऑफिसर को दिया जाता है। आईपीएस अफसर बनने के बाद देश में कानून व्यवस्था का देखरेख करना हर एक पुलिस अफसर का कार्य होता है। साथ ही इनका कई बड़ी जिम्मेदारी और कई अन्य कार्य भी होते हैं।

  1. लोगों को किसी भी तरह की दुर्घटना से बचाने के लिए लोगों को हर तरह से सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी एक पुलिस ऑफिसर पर होती है।
  2. किसी भी जगह अगर क्राइम होता है तो क्राइम करने वाले क्रिमिनल को पकड़ना उन्हें सजा देना आईपीएस ऑफिसर का कार्य है।
  3. कुख्यात अपराधियों के द्वारा होने वाले अपराध को रोकना उन्हें सजा देना आईपीएस अधिकारी का काम होता है।
  4. देश में मानव तस्करी, नशीली दवाओं की तस्करी आदि को एक आईपीएस अधिकारी रोक सकते हैं।
  5. साइबर अपराधियों पर निरीक्षण करना।
  6. आतंकवाद को रोकना सीमा की सुरक्षा करना।
  7. देश में इंटेलिजेंस ब्यूरो सीबीआई अर्धसैनिक बल के जवानों का नेतृत्व करना।

आईपीएस अधिकारी की सैलरी

यूपीएससी की परीक्षा पास करने के बाद डीएसपी, एसपी के पद से लेकर डीजीपी तक के पद तक जा सकते हैं। पुलिस विभाग में एक से बढ़कर एक प्रतिष्ठित पद प्राप्त होता है। इसीलिए इसमें अलग-अलग पद के अलग-अलग सैलरी निश्चित है। पे कमीशन के अनुसार जो भी पद शुरू में मिलता है उसमें लगभग 56,100 मिलता है। आगे जैसे-जैसे प्रमोशन होता जाएगा वैसे-वैसे सैलरी भी बढ़ाई जाती है।

आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए सब्जेक्ट

Subject Name
Geography Math
Psychology Sociology
Economics Medical science
Management Agriculture
Physics Political science and international relations
Chemistry Animal husbandry and veterinary science
Civil engineering Electrical engineering
Public administration Anthropology
Philosophy Mechanical engineering
statics Hindi /English

 

आईपीएस ऑफिसर का प्रशिक्षण कैसे कराया जाता है

  • यूपीएससी की परीक्षा पास करने के बाद 3 साल की ट्रेनिंग के लिए आईपीएस ऑफिसर को लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकैडमी मसूरी में भेजा जाता है। यहां पर उन्हें 16 सप्ताह तक प्रशिक्षित किया जाता है।
  • उसके बाद लगभग 1 साल के प्रशिक्षण के लिए सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकैडमी हैदराबाद में भेज दिया जाता है।
  • भारतीय दंड संहिता भारतीय साक्ष्य अधिनियम और अपराध शास्त्र के बारे में सूक्ष्म में जानकारी प्रतियोगियों को दिया जाता है।
  • इस प्रशिक्षण में शारीरिक व्यायाम और हथियार चलाने का प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • एक पुलिस अधिकारी को हर तरह के हथियार चलाना और उसे इस्तेमाल करना बखूबी आना चाहिए। इसीलिए इस प्रशिक्षण में हर छोटे से छोटे और बड़े से बड़े हथियारों को साफ करना खोलना आदि बताया जाता है।
  • किसी भी अपराधिक मामले की जांच के लिए घात लगाकर जांच करना खोजना नक्शा पढ़ना रात में घूम कर कानूनी कार्यवाही करना पुलिस अधिकारी को जानकारी होना चाहिए। इसलिए इस प्रशिक्षण में भी ट्रेंड किया जाता है।
  • अगर किसी जगह ज्यादा भीड़ उपस्थित है किसी तरह का भगदड़ है तो उसे नियंत्रित करने की भी कला आनी चाहिए। इसीलिए इस प्रशिक्षण में भीड़ को नियंत्रित करना, घुड़सवारी करना, तैराकी, फोटोग्राफी, अग्निशमन, सांप्रदायिक दंगों को नियंत्रित करना, गाड़ी चलाना, आतंकवाद को नियंत्रित करना आदि सिखाया जाता है ‌।
  • पहले चरण के ट्रेनिंग के बाद 1 साल के लिए प्रतियोगियों को पुलिस अधीक्षक, उपाधीक्षक और थाना अधिकारी के साथ रखकर ट्रेनिंग दिया जाता है।
  • इसके बाद यूपीएससी के द्वारा प्रसारित होने वाला एक और परीक्षा पास करना होता है। इस परीक्षा को पास करने के बाद सहायक पुलिस अधीक्षक के रूप में नियुक्त कर दिया जाता है।
  • जब ट्रेनिंग खत्म हो जाता है, तब हर एक अधिकारी को उनके निश्चित कैडर में भेजा जाता है।

आईपीएस अफसर को मिलने वाली सुविधाएं

किसी भी गवर्नमेंट जॉब में गवर्नमेंट की तरफ से कई तरह की सुविधाएं मिलती हैं। वैसे पुलिस विभाग में टॉप रैंक के जो अधिकारी होते हैं उन्हें और भी कई तरह की सुविधाएं प्राप्त होती है। किसी भी आईपीएस अधिकारी को लगभग गाड़ी की सुविधा, सरकारी बंगला, सुरक्षा गार्ड, फ्री बिजली बिल, फ्री टेलिफोन बिल के साथ-साथ कई तरह के घरेलू सुविधाएं भी मिलती है।

FAQ

आईपीएस का फुल फॉर्म

इंडियन पब्लिक सर्विस

आईपीएस कैसे बने

आईपीएस बनने के लिए ग्रेजुएशन सबसे जरूरी है। ग्रेजुएशन के बाद यूपीएससी का एग्जाम क्लियर करने के बाद 3 साल का ट्रेनिंग किया जाता है उसके बाद एक आईपीएस ऑफिसर बन सकते हैं।

आईपीएस की ट्रेनिंग कितने साल की होती है

एग्जाम क्लियर करने के बाद 3 साल की ट्रेनिंग करना पड़ता है।

निष्कर्ष

IPS officer kaise bane आईपीएस अधिकारी बनना हर किसी के लिए एक बहुत ही सम्मानीय बात होती हैं। लेकिन इस परीक्षा को क्लियर करने के लिए बहुत ही ज्यादा परिश्रम करना पड़ता है। शुरू से ही एक लक्ष्य को ध्यान केंद्रित करके पढ़ाई करना पड़ता है। हर एक सब्जेक्ट के हर एक क्वेश्चन आंसर को याद करना पड़ता है, तभी जाकर कोई एक आईपीएस ऑफिसर बन सकता है।

इस लेख में ऊपर आईपीएस अधिकारी बनने के लिए योग्यता आईपीएस अधिकारी का कार्य और आईपीएस बनने के लिए तैयारी कैसे किया जा सकता है के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। अगर इस लेख से संबंधित किसी भी तरह का सवाल है या सुझाव है तो कृपया कमेंट के माध्यम से जरूर पूछें.

ravi
नमस्कार रवि शंकर तिवारी ज्ञानीटेक रविजी ब्लॉग वेबसाईट के Founder हैं। वह एक Professional blogger भी हैंं। जो कंप्‍यूटर ,टेक्‍नोलॉजी, इन्‍टरनेट ,ब्‍लॉगिेग, SEO, एमएस Word, MS Excel, Make Money एवं अन्‍य तकनीकी जानकारी के बारे में विशेष रूचि रखते हैंं। इस विषय से जुड़े किसी प्रकार का सवाल हो तो कृपया जरूर पूछे। क्‍योकि इस ब्‍लॉग का मकसद लोगो बेहतर जानकारी उपलब्‍ध कराना हैंं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here