Computer introduction in Hindi कंप्यूटर का परिचय Computer ka Parichay

कंप्यूटर का परिचय computer introduction in Hindi किसी वस्तु व्यक्ति या किसी भी चीज के बारे में सबसे पहले उसका परिचय पूछा जाता है क्योंकि परिचय से ही उस व्यक्ति वस्तु के बारे में एक सामान्य जानकारी प्राप्त होता है.

इस लेख में Computer ka parichay के बारे में जानकारी दी गई है जिसमें कंप्यूटर का इंट्रोडक्शन क्या है. कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या होता है. कंप्यूटर क्या है. कंप्यूटर के जन्मदाता कौन थे. कंप्यूटर बनाने का उद्देश्य कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं. Computer के पार्ट्स कंप्यूटर का भविष्य के अलावा और भी कंप्यूटर के बारे में जानकारी नीचे विस्तार से इस लेख में दी गई है.

सामान्य रूप से कंप्यूटर का परिचय से सभी लोग परिचित होंगे क्योंकि Computer एक ऐसा शब्द है एक ऐसा मशीन है. जो अब घर घर में लोग यदि उपयोग नहीं करते होंगे तो भी इसका नाम जरूर सुने होंगे.

Computer introduction in Hindi

कंप्यूटर एक मशीन का नाम है एक ऐसा मशीन एक ऐसा टेक्नोलॉजी जिसके द्वारा गणितीय घटनाओं को आसानी से कर लिया जाता है या किसी भी प्रकार के डॉक्यूमेंट को तैयार करना हो या अन्य किसी भी प्रकार के काम हो तो उसके लिए भी कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है.

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिसका इस्तेमाल सरकारी कार्यालय हो या फिर किसी भी प्रकार के व्यवसाई काम हो पर्सनल काम हो या अन्‍य कामों के लिए भी कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा है.

Computer ka parichay

कंप्यूटर शब्द का मतलब संगणक होता है कंप्यूटर शब्द का निर्माण कंप्यूट शब्‍द से हुआ है जिसका अर्थ गणना करना होता है. वर्तमान समय में कंप्यूटर इंटरनेट की सहायता से अपने बिजनेस का प्रचार-प्रसार हो ईमेल करना हो वीडियो देखना हो ऑनलाइन गेम खेलना है. तथा इसके अलावा भी और ऑनलाइन कामों के लिए विशेष रुप से कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा है.

कंप्यूटर के जन्मदाता कौन थे

दुनिया में सबसे पहले जब किसी भी तरह के कैलकुलेशन या अन्य कामों के लिए जब किसी भी तरह का कोई मशीन नहीं था. उस समय महान गणितज्ञ एवं वैज्ञानिक चार्ल्स बेबेज के द्वारा पहली बार एक ऐसा मशीन बनाया गया जो कि संख्याओं को जोड़ सकता था.

कंप्यूटर को वर्ष 1833 में चार्ल्स बैबेज एवं उनके सहयोगियों के द्वारा बनाया गया था.

उसके बाद से कंप्यूटर में कुछ और टेक्नोलॉजी को जोड़ते हुए कंप्यूटर का अभी तक मुख्य रूप से 5 जेनरेशन के रूप में अविष्कार किया गया है.

Generation of Computer

First generation

Vacuum tubes

Second generation

Transistor

Third generation

integrated cricuit

4th generation

 Microprocessor

Fifth generation

Artificial intelligence

 

कंप्यूटर बनाने का उद्देश्य

सामान्य तौर पर किसी भी व्यक्ति या वस्तु का उद्देश्य क्या है इसके बारे में भी जानना चाहिए ठीक इसी प्रकार कंप्यूटर बनाने का उद्देश्य कंप्यूटर टेक्नोलॉजी से संबंधित मैथमेटिकल रिसर्च या ऑर्गेनाइजेशनल डाटा मैनेजमेंट ऑनलाइन फैसिलिटी के साथ-साथ कम समय में सही तरीकों से कामों को करना कंप्यूटर बनाने का मुख्य उद्देश्य था.

क्योंकि पहले जब कंप्यूटर नहीं था उस समय जब किसी प्रकार का डाटा के बारे में जानकारी करना होता था. या उसको कहीं रखना होता था तो उसके लिए बहीखाता रजिस्टर पर लिखना पड़ता था. और उसको बार-बार खोजना पड़ता था. जिसमें बहुत ज्यादा समय लगता था. लेकिन कंप्यूटर जब से बना उसके बाद से इन सभी कामों के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जाने लगा.

कंप्यूटर का फुल फॉर्म

अंग्रेजी में कंप्यूटर का फुल फॉर्म common operating machine particularly used for technological educational research.

कंप्यूटर का हिंदी में फुल फॉर्म – एक ऐसा मशीन जो साधारण रूप से शिक्षा अनुसंधान एवं गणना से संबंधित कामों के लिए किया जाता है वैसे मशीन का नाम कंप्यूटर है.

वैसे Computer का फुल फॉर्म और भी अलग-अलग तरह से बताया गया है लेकिन कंप्यूटर का जो प्रसिद्ध एवं मुख्य फुल फॉर्म है वह ऊपर में दिया गया है.

कंप्यूटर के पार्ट्स

सीपीयू – कंप्यूटर का मुख्य पार्ट्स जिसको सीपीयू के नाम से जाना जाता है सीपीयू Computer का ब्रेन होता है जिस का फुल फॉर्म सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट होता है.

मॉनिटर – कंप्यूटर का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण पार्ट्स मॉनिटर है जिसको आउटपुट डिवाइस के नाम से जाना जाता है मॉनिटर पर ही किसी भी प्रकार की input-output को देखा जा सकता है.

कीबोर्ड – कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है जिसके द्वारा कंप्यूटर में किसी भी प्रकार का इनपुट दिया जाता है जैसे कि अल्फाबेट नंबर यानी सिंबॉल को कीबोर्ड से टाइप किया जाता है.

माउस – माउस एक ऑप्टिकल डिवाइस है जिसका इस्तेमाल Computer के प्रोग्राम को चालू करने के लिए बंद करने के लिए कंप्यूटर सिस्टम को ऑपरेट करने के लिए किया जाता है.

यूपीएस –  अचानक कभी-कभी बिजली बंद हो जाने के बाद Computer को डायरेक्ट बंद होने से बचाने के लिए यूपीएस का उपयोग किया जाता है यूपीएस का फुल फॉर्म ऑफ क्रेडिट पावर सप्लाई होता है जिसका काम कंप्यूटर को निरंतर पावर सप्लाई करना होता है.

प्रोसेसर – सीपीयू के अंदर प्रोसेसर सीपीयू का मुख्य अंग है प्रोसेसर के साथ ही सीपीयू के जो और अन्य भाग होते हैं उसको भी जोड़ा जाता है.

प्रिंटर – किसी भी तरह के डॉक्यूमेंट को प्रिंट करने के लिए प्रिंटर का उपयोग किया जाता है प्रिंटर एक आउटपुट डिवाइस है जिसके द्वारा जब कंप्यूटर में किसी भी तरह का कोई डॉक्यूमेंट तैयार कर लिया जाता है और उसका हार्ड कॉपी करना होता है तो उसके लिए प्रिंटर से उस डॉक्यूमेंट को प्रिंट कर लिया जाता है.

स्‍कैनर – किसी हार्ड कॉपी डॉक्यूमेंट को Soft Copy Document बनाने के लिए स्केनर का उपयोग किया जाता है स्केनर से किसी पेज को कॉपी करके कंप्यूटर में डाला जाता है.

कंप्यूटर के बनावट के आधार पर मुख्य पार्ट्स

कंप्यूटर सिस्टम में कंप्यूटर का मुख्य भाग सीपीयू होता है सीपीयू के जो जरूरी पार्ट्स होते हैं उसका काम क्या होता है या लैपटॉप में जो लैपटॉप के मुख्य पार्ट्स होते हैं जिसके आधार पर एक लैपटॉप का निर्माण होता है आइए नीचे जानते हैं.

प्रोसेसर – लैपटॉप डेक्‍सटॉप कंप्यूटर में Computer का प्रोसेस सबसे महत्वपूर्ण अंग है क्योंकि प्रोसेसर ही कंप्यूटर के आकार का रूप प्रदान करता है जिस तरह से आदमी का दिमाग होता है.

ठीक उसी प्रकार से कंप्यूटर का दिमाग सीपीयू और सीपीयू के अंदर प्रोसेसर होता है प्रोसेसर में ही जो और कंप्यूटर के पार्ट्स होते हैं उसको जोड़ा जाता है और जोड़ करके एक कंप्यूटर का निर्माण होता है.

रैम – रैम का फुल फॉर्म रेंडम एक्सेस मेमोरी होता है Computer को निर्बाध रूप से चलाने के लिए कंप्यूटर के कार्य क्षमता को गति प्रदान करने के लिए रैम कंप्यूटर सिस्टम को तीव्र गति से काम करने के लिए शक्ति प्रदान करता है.

जब किसी भी प्रोग्राम को या किसी भी तरह के कामों को कंप्यूटर में किया जाता है उस समय कंप्यूटर की स्पीड को कार्यप्रणाली को तेज गति से करने में रैम सहायक होता है.

हार्ड डिस्क – File फोल्डर डॉक्यूमेंट फोटो वीडियो ऑडियो प्रोग्राम फाइल को कंप्यूटर में रखने के लिए स्टोरेज की आवश्यकता होता है जिसको हार्ड डिस्‍क के नाम से जाना जाता है. 

ग्रैफिक्स – कंप्यूटर में ग्रैफिक्स का उपयोग वीडियो एडिटिंग गेमिंग फोटोशॉप से संबंधित कामों के लिए किया जाता है एक लैपटॉप में ग्रैफिक्स कार्ड का उपयोग तब महत्वपूर्ण हो जाता है जब उस कंप्यूटर में किसी भी तरह का कोई गेम खेलना हो या फिर वीडियो एडिटिंग से संबंधित काम करना हो फोटो एडिटिंग इत्यादि.

कंप्यूटर का काम करने का तरीका

कंप्यूटर काम तभी करता है जब उसको यूजर के द्वारा किसी भी प्रकार का इनपुट दिया जाता है उदाहरण के लिए कंप्यूटर का काम करने का तरीका इस प्रकार है.

Input→ processing→ output

Input – User के द्वारा किसी भी प्रकार का भी इनपुट दिया जाता है तब वह आपने भाषा में उसको परिवर्तित करता है उसके बाद उस पर काम करना शुरू करता है.

Processing – जैसे कि ऊपर इनपुट के बारे में बताया गया है जब Computer के पास इनपुट चला जाता है तब उसको कंप्यूटर प्रोसेस करता है जिस तरह का भी इनपुट दिया गया है उसको कंप्यूटर अपने अंदर पूरा प्रोसेस कर लेता है उसके बाद उस पर आगे का काम शुरू करता है.

Output – इनपुट के बाद प्रोसेसिंग कर लेने के बाद कंप्यूटर उसका जो भी रिजल्ट होता है उसको आउटपुट के माध्यम से कंप्यूटर स्क्रीन पर प्रदर्शित करता है.

कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं

कंप्यूटर हिंदी में गणना करने वाला मशीन भी कहा जाता है कंप्यूटर को संगणक के नाम से भी जाना जाता है कंप्यूटर को एक कैलकुलेशन करने वाला टेक्नोलॉजी डिवाइस के नाम से भी जाना जाता है.

कंप्यूटर का भविष्य

वर्तमान समय में टेक्नोलॉजी इंटरनेट का उपयोग दुनिया के लगभग 50 परसेंट से ज्यादा लोग कर रहे हैं लेकिन आने वाला समय कंप्यूटर इंटरनेट टेक्नोलॉजी का ही होने वाला है क्योंकि दुनिया में अब सब कुछ घर बैठे ऑनलाइन करना ही लोग पसंद कर रहे हैं.

इसलिए कंप्यूटर का भविष्य दुनिया में और ज्यादा उपयोगी होने वाला है तथा इसका उपयोग हर घर में हर व्यक्ति के द्वारा आने वाला समय में किया जाएगा. क्योंकि कंप्यूटर के बिना किसी भी तरह के कामों को करना संभव नहीं है.

ये भी पढ़े

सारांश

इस लेख में कंप्यूटर इंट्रोडक्शन इन हिंदी कंप्यूटर का परिचय हिंदी में बताया गया है. जिसमें कंप्यूटर के बारे में उसके जन्मदाता के साथ-साथ कंप्यूटर के परिचय के बारे में पूरी जानकारी दी गई है.

फिर भी यदि कंप्यूटर परिचय से संबंधित किसी भी तरह का कोई सवाल या कंप्यूटर computer introduction से संबंधित किसी प्रकार का कोई सवाल हो तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें तथा इस जानकारी के बारे में भी अपना सुझाव कमेंट के माध्यम से जरूर दें.

Leave a Comment