कंप्यूटर एवं केलकुलेटर में क्या अंतर हैं?

Computer Aur Calculator Mein Antar कंप्यूटर एवं कैलकुलेटर में क्या अंतर है. इस तरह का सवाल लोगों के मन में अक्सर आता है. क्योंकि कंप्यूटर एवं कैलकुलेटर दोनों ही एक मशीन है. लेकिन इन दोनों में समान रूप से क्या अंतर है इसके बारे में अगर पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें.

दुनिया में रोज तकनीक के क्षेत्र में नया-नया टेक्नोलॉजी मशीन का आविष्कार किया जा रहा है. सबसे पहले जब दुनिया में कंप्यूटर नहीं था उस समय किसी भी प्रकार के कैलकुलेशन के लिए कैलकुलेटर का ही उपयोग किया जाता था. किसी भी प्रकार की कैलकुलेशन के लिए सबसे पहले कैलकुलेटर का अविष्कार हुआ.

जिससे आसानी से किसी भी प्रकार के अंकों की गणना किया जाता था. आज भी कैलकुलेटर हर एक आदमी के जीवन में कैलकुलेशन करने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. वर्तमान समय में तो कैलकुलेटर स्मार्टफोन मोबाइल कंप्यूटर टेबलेट इत्यादि में भी मौजूद रहता है. जिसके द्वारा अंको का कैलकुलेशन आसानी से किया जा  सकता है.

Computer Aur Calculator Mein Antar कंप्यूटर एवं कैलकुलेटर में क्या अंतर है

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि Computer एवं कैलकुलेटर दोनों एक मशीन है लेकिन दोनों में समान रूप से अंतर समझने से पहले सबसे जरूरी है की कंप्यूटर क्या है और कैलकुलेटर क्या है इनको सबसे पहले समझा जाए.

Computer Aur Calculator Mein Antar

कैलकुलेटर क्या है

Calculator एक छोटा सा मशीन है जिसके द्वारा जोड़ घटाव गुणा भाग परसेंटेज औसत के अलावा भी अन्य कई प्रकार की घटनाओं को आसानी से किया जा सकता है.

दुनिया में जब कंप्यूटर नहीं था उस समय सबसे पहले वैज्ञानिकों के द्वारा एक छोटा सा सरिया को सामान्य रूप से रख कर उस पर उनको जोड़ने घटाने के लिए एक्सपेरिमेंट किया गया. जिसके बाद धीरे-धीरे उसको विकसित करके एक मशीन के रूप में कैलकुलेटर का निर्माण किया गया.

कैलकुलेटर के बाद और कई भी तकनीक का आविष्कार किया गया है जो कि आज सामान्य जीवन में उपयोग किया जा रहा है जैसे कि कंप्यूटर इत्यादि.

कंप्यूटर क्या है

Computer एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है. कंप्यूटर एक मशीन भी है. जिसके द्वारा कैलकुलेटर में किए जाने वाले सभी प्रकार की कैलकुलेशन भी किया जा सकता है. जिसके अलावा कंप्यूटर से अन्य कई प्रकार के कामों को भी किया जा सकता है.

कंप्यूटर एक ऐसा तकनीक से बना डिवाइस है जो अपने पास डाटा को सपोर्ट कर सकता है. डाटा को आसानी से कैलकुलेट कर सकता है. डाटा को प्रोसेस कर सकता है. किसी भी प्रकार का कैलकुलेशन कर सकता है.

किसी भी प्रकार के गणना को बहुत ही तेज गति से कर सकता है. एक साथ कई प्रकार के कैलकुलेशन कर सकता है. इसके अलावा भी कंप्यूटर सब कुछ कर सकता है जोकि टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में संभव है.

कंप्यूटर का आविष्कार 1833 में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गणितीय वैज्ञानिक चार्ल्स बैबेज के द्वारा किया गया था. जिसके बाद कंप्यूटर में और भी कई तरह के नए टेक्नोलॉजी को विकसित करते हुए आज कंप्यूटर के पांचवा जनरेसन के रूप में हम लोग उपयोग कर रहे हैं.

कंप्यूटर से पहले ही कैलकुलेटर का अविष्कार हो चुका था. जिसके बाद दुनिया के वैज्ञानिकों में एक ऐसा मशीन बनाने की प्रेरणा हुई जिसके द्वारा कैलकुलेटर में किए जा रहे कामों के अलावा भी और अन्य प्रकार के कामों को भी किया जा सके.

जिसके बाद एक कंप्यूटर के रूप में मशीन का अविष्कार किया गया. जिससे जोड़ घटाव गुणा भाग तो किया ही जा सकता था, इसके अलावा भी डाटा को उस समय कंप्यूटर में स्टोर भी किया जा सकता था तथा और भी कई तरह के कामों को कंप्यूटर के द्वारा किया जा सकता था.

उसके बाद कंप्यूटर में और भी सुधार करते हुए उसको और मॉडर्न तरीके से समय-समय से उसको विकसित किया गया. जिसके फलस्वरुप वर्तमान समय में कंप्यूटर से मौसम के पूर्वानुमान लगाया जा सकता है तथा कंप्यूटर से आज कई प्रकार के रिसर्च भी किया जा रहा है.

अनुसंधान रक्षा सुरक्षा के क्षेत्र में भी आज Computer का भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण हो गया है. आज दुनिया सुपर कंप्यूटर का उपयोग कर रही है जो कि एक बहुत ही दुनिया का सबसे शक्तिशाली कंप्यूटर है.

जिसके द्वारा दुनिया में हो रही गतिविधियों एवं आने वाले दिनों के बारे में भी जानकारी प्राप्त किया जा रहा है. सुपर कंप्यूटर बहुत ही पावरफुल कंप्यूटर होता है. जिसके द्वारा सरकार अपने देश का सुरक्षा व्यवस्था भी मजबूत कर रही है.

दुनिया में सबसे पहले सुपर कंप्यूटर का उपयोग अमेरिका के द्वारा किया गया. जिसके बाद आज सुपर कंप्यूटर दुनिया के कई देशों के पास मौजूद है. एक कैलकुलेटर के अविष्कार से लेकर के आज दुनिया सुपर कंप्यूटर के अविष्कार तक का उपयोग कर रही है.

कंप्यूटर एवं कैलकुलेटर में अंतर

  • कैलकुलेटर से केवल जोड़ घटाव गुणा भाग परसेंटेज औसत एवं सामान्य तरह के कैलकुलेशन कर सकते हैं.
  • जबकि Computer से छोटे से छोटे कैलकुलेशन से लेकर के बड़े से बड़े कैलकुलेशन को आसानी से कर सकते हैं.
  • कैलकुलेटर में सामान्य रूप से बहुत ही छोटा मेमोरी होता है. जिसके कारण किसी प्रकार के कैलकुलेशन करने के बाद उसका डाटा अपने आप डिलीट हो जाता है.
  • जबकि कंप्यूटर में मेमोरी ज्यादा होता है जिससे किसी प्रकार के कैलकुलेशन को कंप्यूटर में स्टोर भी कर सकते हैं.
  • कैलकुलेटर का स्क्रीन साइज बहुत ही छोटा होता है.
  • जबकि कंप्यूटर का स्‍क्रीन बहुत ही बड़ा होता है.
  • Calculator एक बहुत ही सामान्य डिवाइस है.
  • जबकि कंप्यूटर एक बहुत ही बड़ा एवं पावरफुल डिवाइस है.
  • कैलकुलेटर में डाटा स्टोर नहीं कर सकते.
  • जबकि कंप्यूटर में डाटा स्टोर कर सकते हैं.
  • कैलकुलेटर से इंटरनेट का उपयोग नहीं कर सकते हैं.
  • जबकि कंप्यूटर के द्वारा इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं.
  • कैलकुलेटर का दाम बहुत ही कम होता है.
  • कंप्यूटर का दाम कैलकुलेटर के तुलना में कई गुना ज्यादा होता है.
  • कैलकुलेटर को आसानी से अपने पॉकेट में भी रख सकते हैं.
  • जबकि कंप्यूटर को अपने पॉकेट में नहीं रखा जा सकता है. एक बड़ा डिवाइस है.
  • कैलकुलेटर छोटा मशीन के रूप में होता है. जिसमें सामान्य उपकरण का उपयोग किया जाता है.
  • Computer एक बड़ा मशीन होता है जिसमें कई सारे पार्ट्स जुड़े होते हैं. जैसे प्रोसेसर, रैम, हार्ड डिक्स, ग्रैफिक्स, रोम इत्यादि.
  • कैलकुलेटर को आसानी से साथ में लंकर करके ट्रैवल कर सकते हैं. जिसको रखने के लिए किसी भी प्रकार की कैरी बैग की आवश्यकता नहीं है.
  • जबकि एक कंप्यूटर को लेकर ट्रैवल करने के लिए साथ में कैरी बैग की आवश्यकता है क्योंकि उसका आकार बड़ा होता है.
  • कंप्यूटर के द्वारा गाना सुन सकते हैं.
  • वीडियो एडिट कर सकते हैं.
  • वीडियो रिकॉर्डिंग कर सकते हैं.
  • डाटा एंट्री कर सकते हैं.
  • प्रोग्रामिंग कर सकते हैं.
  • सॉफ्टवेयर डेवलप कर सकते हैं.
  • वेबसाइट बना सकते हैं.
  • मौसम के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.
  • इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं.
  • एमएस वर्ड में एप्लीकेशन तैयार कर सकते हैं.
  • फोटोशॉप में फोटो बना सकते हैं.
  • टैली सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं.
  • घर के हिसाब किताब के जितने भी विवरण है उसका डाटा बना सकते हैं.
  • अपने बैंकिंग सिस्टम को भी अपने लैपटॉप कंप्यूटर से चला सकते हैं.
  • किसी भी प्रकार के ऑनलाइन बिल जमा कर सकते हैं.
  • जबकि एक कैलकुलेटर से इन सभी कामों को नहीं कर सकते हैं.

क्या कैलकुलेटर हम लोग बना सकते हैं

बिल्कुल कैलकुलेटर एक बना सकते हैं. उसके लिए एक कंप्यूटर की आवश्यकता है और उसमें कुछ कोडिंग करके एक कैलकुलेटर को आसानी से बनाया जा सकता है.

जबकि एक कैलकुलेटर के द्वारा एक कैलकुलेटर नहीं बनाया जा सकता है.

वर्तमान में कैलकुलेटर कितना उपयोगी है

वर्तमान समय में Calculator पहले जितना उपयोगी था उतना आज भी उपयोगी है. क्योंकि कैलकुलेटर से आसानी से किसी भी प्रकार की कैलकुलेशन को कर लिया जाता है.

आज के समय में कैलकुलेटर का उपयोग तो आपने मोबाइल स्मार्टफोन में भी आसानी से कर सकते हैं.

कैलकुलेटर का भविष्य

Calculator का भविष्य तो वर्तमान में भी उज्जवल है. लेकिन कैलकुलेटर जो एक डिवाइस है उसके अस्तित्व पर खतरा है. क्योंकि स्मार्टफोन मोबाइल के अधिकतर उपयोग होने के कारण कैलकुलेटर उसी में उपलब्ध रहता है. जिसके कारण आने वाले भविष्य में लोग कैलकुलेटर खरीदना अलग से पसंद नहीं करेंगे.

कंप्यूटर का भविष्य

वर्तमान में जितना Computer उपयोगी है उससे कहीं और ज्यादा कंप्यूटर का उपयोग भविष्य में भी होने वाला है. जिसके कारण कंप्यूटर का भविष्य आने वाले समय में और भी ज्यादा उपयोगी और बेहतर होने वाला है.

FAQ

कैलकुलेटर क्या है

Calculator एक छोटा सा मशीन है जिससे अंकगणितीय कैलकुलेशन कर सकते हैं.

कंप्यूटर क्या है

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिससे प्रोग्रामिंग एवं अन्य प्रकार के तकनीकी कामों को कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें

सारांश

Computer Aur Calculator Mein Antar कंप्यूटर एवं कैलकुलेटर में अंतर सामान्य रूप से बहुत ही ज्यादा है. क्योंकि दोनों की तुलना करना आकाश एवं आकाश में उपलब्ध तारे के समान है. कंप्यूटर आकाश की तरह है जबकि कैलकुलेटर आकाश में मौजूद एक छोटे से तारे के रूप में है.

Leave a Comment