बीएससी क्या है फुल फॉर्म योग्‍यता फायदें व 16+ कोर्स, पूरी जानकारी

BSc क्‍या हैं BSc kya hai 12वीं के बाद अगर किसी प्रोफेशनल कोर्स को छात्र करना चाहते हैं तो सबसे पहले उनका चुनाव ग्रेजुएशन कोर्स होता है. लेकिन सबसे प्रसिद्ध डिग्री बीएससी हैं.

आज के समय में अगर प्राइवेट सेक्टर में या गवर्नमेंट सेक्टर में कैरियर बनाना चाहते हैं तो सबसे पहले एजुकेशनल क्वालीफिकेशन ग्रेजुएशन मांगा जाता है.अगर ग्रेजुएशन साइंस से हैं तो जॉब पाना आसान हो जाता हैं.

जिस तरह बीए, बीकॉम, बी टेक, बीसीए आदि कोर्स 12वीं के बाद किया जाता है, उसी तरह बीएससी भी एक ग्रेजुएशन कोर्स है. बीएससी में और भी कई मुख्य कोर्स होता है. अगर कोई छात्र अपना करियर साइंस के फील्ड में बनाना चाहते हैं तो उनके लिए बीएससी कोर्स बेहतर होता है.

बीएससी कोर्स के लिए क्या योग्यता आवश्यक है, इसका फुल फॉर्म क्या होता है, बीएससी करने के लिए एडमिशन प्रक्रिया क्या है, बीएससी के बाद कौन-कौन से कोर्स कर सकते हैं, कौन सा जॉब कर सकते हैं के बारे में अगर जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो नीचे विस्तार से सभी जानकारी मिलेगी. 12th  के बाद क्‍या करें

BSc kya hai

बीएससी एक अंडरग्रैजुएट कोर्स है. इस कोर्स को 12वीं पास करने के बाद किया जा सकता है. बीएससी कोर्स 3 साल का होता है. इसमें साइंस स्ट्रीम से पढ़ाई किया जाता है. बीएससी कोर्स कई अन्य सब्जेक्ट से भी किया जाता है.

यह कोर्स जो छात्र आगे चलकर मेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, किसी गवर्नमेंट जॉब के लिए तैयारी करते हैं या किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं तो कर सकते है. 

Bsc Kya hai

बीएससी कोर्स करने के बाद अगर चाहे तो मास्टर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं. भारत में कई कॉलेज या यूनिवर्सिटी में बीएससी कोर्स का पढ़ाई होता है. कई कॉलेजों में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम पास करना पड़ता है. लेकिन अधिकतर कॉलेज में डायरेक्ट एडमिशन होता है.

BSc ka full form

साइंस के क्षेत्र में 12वीं के बाद सबसे ज्यादा लोकप्रिय कोर्स बीएससी है. बीएससी का फुल फॉर्म Bachelor of science होता है. जो छात्र साइंस के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, आगे चलकर मास्टर डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं, तो उनके लिए यह एक बहुत ही बेहतर कोर्स हैं.

गवर्नमेंट सेक्टर में, रेलवे, बैंक, यूपीएससी, बीपीएससी आदि एग्जाम आसानी से पास कर सकते हैं. बीएससी का हिंदी में विज्ञान से स्नातक होता है. बीएससी में और भी कई प्रोफेशनल कोर्स होते हैं, जो कि 4 साल या 5 साल में पूरा किया जाता है.

BSc के लिए योग्यता

  • किसी भी ग्रेजुएशन कोर्स को करने के लिए सबसे पहले टेंथ के बाद ट्वेल्थ पास करना पड़ता है.
  • बीएससी के लिए 12वीं साइंस सब्जेक्ट से करना पड़ता है.
  • 12वीं में कम से कम 50% से 60% मार्क्स होना आवश्यक है.
  • 12वीं क्लास में केमिस्ट्री, फिजिक्स, मैथ, बायोलॉजी आदि सब्जेक्ट आवश्यक है.
  • 12वीं किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज यूनिवर्सिटी से पास होना जरूरी है.

BSC के लिए एडमिशन प्रक्रिया

भारत में कई ऐसे कॉलेज या यूनिवर्सिटी है, जहां पर बैचलर ऑफ साइंस की पढ़ाई होती है. बीएससी कोर्स करने के लिए डायरेक्ट नंबर के आधार पर या एंट्रेंस एग्जाम के पास करने के बाद एडमिशन होता है.

1. डायरेक्ट एडमिशन

वैसे तो भारत में अधिकतर कॉलेज ऐसे हैं जहां पर डायरेक्ट 12वीं के नंबर के आधार पर बीएससी में एडमिशन होता है. अधिकतर छात्रों का 12वीं के बाद ग्रेजुएशन करने के लिए बैचलर ऑफ साइंस का ही चुनाव करते हैं.

2. एंट्रेंस एग्जाम

कई बड़े-बड़े कॉलेज यूनिवर्सिटी है, जहां से बैचलर ऑफ साइंस कोर्स करने के लिए पहले एंट्रेंस एग्जाम पास करना पड़ता है. वैसे तो नॉर्मली ज्यादातर लोग ट्वेल्‍थ के अंक के आधार पर ही किसी भी कॉलेज में एडमिशन ले लेते हैं.

लेकिन जो भारत के प्रसिद्ध या सरकारी शिक्षण संस्थान है, वहां पर एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता है. एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद मेरिट लिस्ट बनाया जाता है. मेरिट लिस्ट में जिस छात्र का नाम आता है उन्हीं का बीएससी में  एडमिशन हो पाता है. बीएससी कोर्स करने के लिए कई एंट्रेंस एग्जाम है

  • BHU UET
  • JNU entrance exam
  • N e s t (National entrance screening test)
  • AMU entrance exam
  • GSAT
  • PUBDT
  • Pantnagar university entrance exam
  • Indian institute of science education and research
  • AGRICET
  • CUCET
  • GSAT
  • UPCATET
  • ICAR AIEEA
  • JET
  • NPAT
  • SUAT
  • IGNOU

BSC के प्रमुख कोर्स

वैसे तो अधिकतर लोग साइंस से बीएससी करते हैं. लेकिन इसमें और भी कई प्रमुख सब्जेक्ट से किया जाता है. हर कोई अपने रुचि और पसंद के अनुसार अलग-अलग क्षेत्र में करियर बनाने के लिए इस कोर्स को करते हैं. बीएससी के कई प्रमुख कोर्स है.

  • BSc Physics
  • BSc Chemistry
  • BSC computer science
  • BSc Mathematics
  • BSc agriculture
  • BSc IT
  • BSc electronics
  • BSc Nursing
  • BSc Biotechnology 
  • BSc Biochemistry 
  • BSc Geography 
  • BSc Zoology
  • BSc Medical 
  • BSC hotel management
  •  BSc fashion designing 
  • BSc interior design

1. बीएससी केमिस्ट्री

केमिस्ट्री से ग्रेजुएशन करने के लिए बीएससी केमिस्ट्री कोर्स किया जाता है. यह 3 साल का डिग्री होता है. इसमें रसायन से संबंधित जानकारी दिया जाता है.

जैसे कि कार्बनिक, रसायन, पदार्थ आदि सब्जेक्ट की पढ़ाई होती है. इस कोर्स को करने के बाद आगे मास्टर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं, या किसी जॉब के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं.

2. BSc कंप्यूटर साइंस

आज के समय में कंप्यूटर साइंस से सबसे ज्यादा छात्र कोर्स कर रहे हैं, तो 12वीं पास करने के बाद अगर किसी छात्र को ग्रेजुएशन करना है तो बीएससी कंप्यूटर साइंस में ज्यादा इंटरेस्टेड होते हैं. बीएससी कंप्यूटर साइंस में कंप्यूटर से रिलेटेड हर तरह के बेसिक नॉलेज दिए जाते हैं. 

ताकि आगे चलकर छात्र अपना कैरियर किसी भी क्षेत्र में आसानी से बना सकें. वैसे आजकल प्राइवेट या गवर्नमेंट किसी भी सेक्टर में जॉब करने के लिए कंप्यूटर की जानकारी होना आवश्यक है.

बीएससी कंप्यूटर साइंस 3 साल का ग्रेजुएशन कोर्स होता है. इस कोर्स में कंप्यूटर सिस्टम, कंप्यूटर बेसिक नॉलेज, ऑपरेटिंग सिस्टम, कंप्यूटर के हर एक फंक्शन आदि का जानकारी प्राप्त हो जाता है.

3. बीएससी फिजिक्स

भौतिकी के मूल सिद्धांतों से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए बीएससी फिजिक्स का कोर्स किया जाता है. यह कोर्स 3 साल का एक ग्रेजुएशन कोर्स होता है. बीएससी फिजिक्स में विद्युत, चुंबकत्व, क्वांटम यांत्रिकी, अर्धचालक, प्रकाश की तरंगे, संख्यिकी आदि विषयों की पढ़ाई होती है.

4. BSc मैथमेटिक्स

बीएससी मैथमेटिक्स एक ग्रेजुएशन डिग्री है. जिसमें मैथ से संबंधित मूल और जटिल दोनों तरह का पढ़ाई किया जाता है. इस कोर्स में बीजगणित, विक्टर, विश्लेषण, ज्यामिति, कैलकुलस, त्रिकोणमिति, उन्नत कैलकुलस, विभेदक, इंटीग्रल कैलकुलस आदि की पढ़ाई होती है.

बीएससी मैथमेटिक्स करने के बाद कई क्षेत्र में नौकरी कर सकते हैं जैसे कि आर्किटेक्चर, इंजीनियरिंग, नेशनल डिफेंस, कंप्यूटर एप्लीकेशन एंड आईटी, एविएशन, फिजिकल साइंस आदि.

5. Bsc it

बीएससी आईटी का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ साइंस इन इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी होता है. यह 3 साल का स्‍नातक कोर्स है. जिसमें डाटा मैनेजमेंट, स्टोरेज, सिक्योरिटी, सूचना प्रौद्योगिकी, प्रोसेसिंग और कंप्यूटर से संबंधित कई जानकारियों को प्राप्त करने का मौका मिलता है.

Bsc it करने के बाद कई नौकरी कर सकते हैं. जैसे की एप्लीकेशन प्रोग्राम और वेब प्रोग्राम, डेटाबेस, एडमिनिस्ट्रेटर, वेब डिजाइनर, सिस्टम एनालिस्ट या हर तरह के आईटी संगठन में जॉब प्राप्त कर सकते हैं.

6. बीएससी इलेक्ट्रॉनिक

यह 3 साल का एक कोर्स होता है जिसको 12वीं के पास बाद किया जाता है. जो व्यक्ति इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से ग्रेजुएशन करना चाहते हैं उनके लिए बीएससी इलेक्ट्रॉनिक्स बेहतर कोर्स होता है. इस कोर्स में 6 सेमेस्टर होता है.

बीएससी इलेक्ट्रॉनिक्स में इलेक्ट्रॉनिक से संबंधित पढ़ाई होता है. इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों, ट्रांसमीटर, सर्किट, इंटीग्रेटेड सर्किट, रिसीवर, कम्युनिकेशन, इक्विपमेंट आदि के बारे में अच्छी तरह से जानकारी इस कोर्स में प्राप्त होता है.

7. बीएससी नर्सिंग

बीएससी नर्सिंग जिसे बैचलर ऑफ साइंस इन नर्सिंग कहा जाता है. चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में किया जाने वाला कोर्स है. जो कि 4 साल में पूरा किया जाता है. स्वास्थ्य के क्षेत्र में अधिकतर जानकारी लेने के लिए लोगों को चिकित्सीय सेवा करने के लिए बीएससी नर्सिंग बेहतर कोर्स है.

8. BSc जूलॉजी

बीएससी जूलॉजी ग्रेजुएशन कोर्स है. जो कि 3 साल में पूरा किया जाता है. इस कोर्स में प्रतिस्पर्धी शरीर विज्ञान, समुद्र विज्ञान, विकासात्मक कोशिका, जीव विज्ञान, कशेरुक परिस्थितिकी परजीवी विज्ञान सेल बायोलॉजी डेवलपमेंटल आदि सब्जेक्ट के बारे में पूरी जानकारी दिया जाता है.

9. बीएससी फैशन डिजाइनिंग

अगर किसी छात्र को ट्वेल्थ के बाद फैशन डिजाइनिंग के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना है, तो बीएससी फैशन डिजाइनिंग बैचलर डिग्री प्राप्त करते हैं. यह 3 साल का कोर्स होता है. जिसमें फैशन डिजाइनिंग के बारे में जानकारी दिया जाता है. इसमें फैशन उद्योग के साथ-साथ टेक्नोलॉजी का जानकारी प्राप्त होता है.

10. Bsc होटल मैनेजमेंट

यह 3 साल का एक अंडरग्रैजुएट कोर्स होता है. बीएससी होटल मैनेजमेंट में होटल चलाने के बारे में मैनेजमेंट करने के बारे में जानकारी दिया जाता है. इसमें सेल्स एंड मार्केटिंग, फ्रंट ऑफिस, फूड एंड बेवरेज, हाउसकीपिंग, अकाउंटिंग, फूड प्रोडक्शन और किचन के बारे में जानकारी दिया जाता है.

Bsc Kya hai 2

BSC के लिए कॉलेज

भारत में कई कॉलेज यूनिवर्सिटी है, जहां से बीएससी का कोर्स कर सकते हैं. कई प्रसिद्ध कॉलेजों में एंट्रेंस एग्जाम के आधार पर एडमिशन होता है. लेकिन कई जगहों पर 12वीं के नंबर के आधार पर दाखिला हो जाता है.

Hindu college New Delhi
St Stephen’s college New Delhi
Hindu vishwavidyalaya Varanasi
Presidency college Chennai
Fergusson college Pune
Ramjas college New Delhi
Veer kunwar Singh vishwavidyalayaAra Bihar
Aligarh Muslim vishwavidyalaya Aligarh
Guru gobind Singh indraprastha vishwavidyalayaNew Delhi
Jamia millia islamia university New Delhi 
women’s Christian college Chennai
PATNA WOMEN’S COLLEGEPatna
MAGADH MAHILA COLLEGE PATNA
Patna Science CollegePatna

Bsc के बाद क्या करें

साइंस से ग्रेजुएशन करने के बाद आगे अगर चाहते हैं तो मास्टर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं. बीएससी के बाद कई क्षेत्रों में नौकरी भी प्राप्त कर सकते हैं.

गवर्नमेंट क्षेत्र में कई प्रसिद्ध वैकेंसी निकलता है जिसमें ग्रेजुएशन की योग्यता मान्य होती है. ग्रेजुएशन के बाद नौकरी करने के लिए कई क्षेत्र हैं.

1. बीएससी के बाद जॉब क्षेत्र

  • जॉब क्षेत्र
  • आईटी कंपनी
  • फॉरेंसिक अनुसंधान विभाग
  • हॉस्पिटल्स
  • डाटा साइंटिस्ट
  • हेल्थ केयर प्रोवाइडर्स
  • वेब डिजाइनर
  • ब्लॉगर
  • डिजिटल मार्केटिंग
  • वेब कंटेंट राइटर
  • कृषि विभाग 
  • पर्यावरण प्रबंधन और संरक्षण 
  • अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान

2. BSc के बाद गवर्नमेंट जॉब

  • एएफसीएटी परीक्षा
  • बीपीएससी परीक्षा
  • यूपीएससी परीक्षा
  • बैंकिंग
  • रेलवे
  • टीचर
  • लेक्चरर
  • नेवी 
  • एयर फोर्स
  • नेशनल डिफेंस आर्मी
  • एसएससी सीजीएल 
  • इंडियन फॉरेस्ट सर्विसेज 
  • जनरल कॉम्पिटेटिव एक्जाम

3. बीएससी के बाद कोर्स

  • एमएससी
  • एमबीए
  • एम आई एम
  • b.ed
  • एलएलबी

BSC करने के फायदे

Bachelor of science कोर्स करने के बाद करियर में आगे बढ़ने के लिए कई ऑप्शन मिलते हैं. अगर किसी को कोर्स करना है जॉब करना है तो उसी क्षेत्र में अपना कैरियर बना सकते हैं. इस कोर्स को करने के बाद बहुत सारे करियर बनाने के लिए दरवाजे खुल जाते हैं. इसके कई फायदे हैं.

  • आगे मास्टर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं.
  • गवर्नमेंट सेक्टर में हर साल कई तरह के नौकरी का वैकेंसी निकलता है, तो ग्रेजुएशन के बाद अप्लाई कर सकते हैं.
  • प्राइवेट सेक्टर में कई मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी कर सकते हैं.
  • बेहतर सैलरी प्राप्‍त हो सकता हैं.
  • बीएससी करने के बाद बेहतर एजुकेशन प्राप्त होता है पर्सनालिटी में डेवलप होता है.
  • यह कोर्स छोटे शहरों में या बड़े शहरों में कहीं भी आसानी से कर सकते हैं.
  • अन्य कोर्स के मुकाबले कम फीस में बीएससी कोर्स कंप्लीट हो जाता है.
  • बीएससी के बाद अगर मेडिकल क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते हैं तो आसानी से बना सकते हैं.
  • रिसर्च सेंटर, इसरो, इंजीनियरिंग, कानून, टीचिंग लाइन आदि क्षेत्रों में करियर बना सकते हैं.
  • स्‍टूडेंट के अच्‍छे परफॉर्मेंस पर सरकार के तरफ से स्‍कॉलरशिप भी‍ मिलता हैं.स्‍कॉलरशिप के रूप में अच्‍छा रकम मिल जाता हैं जिससे ग्रेजुएशन कर फीस आसानी से पूरा हो जाता हैं.

इसे भी पढ़ें

सारांश

BSc kya hai आज के समय में साइंस से ग्रेजुएशन अधिकतर छात्र 12वीं के बाद करते हैं. क्योंकि यह एक बहुत ही प्रसिद्ध और लोकप्रिय कोर्स होता है. किसी भी क्षेत्र में जाने के लिए ग्रेजुएशन होना जरूरी है.

प्राइवेट या गवर्नमेंट सेक्टर में अगर बेहतर नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं, तो पहले साइंस से ग्रेजुएशन होना आवश्यक होता है. 

इसलिए अधिकतर छात्र अपना सुखी और संपन्न भविष्य बनाने के लिए साइंस से ही ग्रेजुएशन प्राप्त करते हैं. इस लेख में बीएससी क्या है, बीएससी के कौन कौन से प्रमुख और भी कोर्स है, बीएससी के क्या फायदे हैं, किस किस क्षेत्र में बीएससी के बाद अपना करियर बना सकते हैं के बारे में विस्तार से जानकारी दिया गया है. अगर इस लेख से संबंधित किसी तरह का सवाल है या सुझाव है तो कृपया कमेंट करके जरूर बताएं.

Leave a Comment