बैंक मैनेजर कैसे बनें, योग्‍यता, कोर्स व सैलरी

स्टूडेंट 12वीं पास कर लेते हैं तो अपने भविष्य के बारे में अपने कैरियर के बारे में डिसीजन लेना जरूरी हो जाता है ऐसे में कोई इंजीनियर बनना चाहता है कोई डॉक्टर बनना चाहता है कोई स्टूडेंट पायलट बनना चाहते हैं किसी स्टूडेंट को फोर्स की नौकरी में इंटरेस्ट होता है कोई छात्र बिजनेस में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं

किसी को बैंक मैनेजर की नौकरी ज्यादा पसंद होती है लेकिन बैंक मैनेजर कैसे बने Bank manager kaise bane बैंक मैनेजर बनने के लिए किस तरह से तैयारी करना पड़ता है. 12वीं के बाद कौन-कौन से कोर्स करने के बाद बैंक मैनेजर बन सकते हैं के बारे में उन्हें पूरी जानकारी रहेगी तभी वह बैंक के मैनेजर के लिए तैयारी कर सकते हैं.

बैंक मैनेजर की नौकरी ज्यादातर छात्र करना चाहते हैं क्योंकि इस नौकरी में अन्य जॉब से ज्यादा सैलरी भी होता है और इसमें बहुत ही जल्दी प्रमोशन भी होता है बैंक की नौकरी की तैयारी करने के लिए अधिकतर छात्र कॉमर्स से पढ़ाई करते हैं ताकि उन्हें एकाउंटिंग की पूरी तरह से जानकारी हो जाए बैंक मैनेजर कैसे बने जानने के लिए आइए नीचे पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं. बैंक में जॉब कैसे पाएं 

Contents

बैंक मैनेजर कैसे बनें

बैंक की नौकरी एक बहुत ही सम्मानित नौकरी होती है. लेकिन बैंक में किसी भी पद को प्राप्त करने के लिए बहुत ही कड़ी मेहनत करनी पड़ती है. जनरल नॉलेज, रिजनिंग, मैथ, अकाउंटिंग, टैली आदि की जब पूरी तरह से जानकारी रहेगी तभी बैंक मैनेजर के लिए जो भी एग्जाम निकलते हैं

उसको पास कर सकते हैं.यह एक बहुत ही कठिन परीक्षा होता है इसमें जब मेहनत लगन और परिश्रम के साथ साथ सही मार्गदर्शन सही शिक्षा जब मिलेगी तभी एक बैंक मैनेजर बनने का सपना पूरा हो सकेगा.

बैंक मैनेजर कैसे बने इसके लिए क्या-क्या तैयारी करनी पड़ती है क्या-क्या जरूरी है नीचे विस्तार से जानते हैं.

Bank manager kaise bane

कॉमर्स से स्नातक

बैंक के किसी भी जॉब के लिए एग्जाम देने के लिए सबसे पहले 12वीं पास करने के बाद कॉमर्स सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन पास करना जरूरी होता है. वैसे साइंस या आर्ट्स से भी अगर ग्रेजुएशन किए हैं तो बैंक की तैयारी कर सकते हैं

लेकिन जब कॉमर्स से ग्रेजुएशन करेंगे तो और भी आसानी से बैंक एग्जाम दे पाएंगे क्योंकि इसमें एकाउंटिंग फाइनेंस आदि अच्छे से पढ़ाया जाता है एकाउंटिंग की सही जानकारी हो जाएगी तो बैंक में जॉब करना भी आसान हो जाएगा.

एकाउंटिंग की जानकारी

यह तो सभी को पता है कि बैंक में पैसों के लेनदेन अकाउंट खुलवाना लोन से संबंधित कार्य आदि किए जाते हैं तो इसमें एकाउंटिंग की जानकारी सबसे जरूरी है. तभी बैंक के हर एक कार्य को आसानी से कर पाएंगे एग्जाम में जो भी क्वेश्चन आएगा उसको सॉल्व कर पाएंगे.

जनरल नॉलेज की जानकारी

किसी भी गवर्नमेंट जॉब के लिए एग्जाम देने के लिए जनरल नॉलेज की जानकारी बहुत ही जरूरी होती है. अगर जनरल नॉलेज की पूरी तरह से ज्ञान रहेगा तो बैंक मैनेजर के लिए या बैंक के किसी भी एग्जाम को आसानी से पास कर सकेंगे.

मैथ और रिजनिंग की जानकारी

किसी भी चीज का लेन-देन या हिसाब किताब करने के लिए मैथ का नॉलेज होना आवश्यक है. बैंकिंग एग्जाम में जितना जनरल नॉलेज अकाउंटिंग जरूरी है उतना ही मैथ और रिजनिंग भी जानना जरूरी है क्योंकि उसमें इससे संबंधित क्वेश्चन ज्‍यादा रहता है.

ताकि आगे चलकर अगर आप परीक्षा पास कर ले और बैंक के जॉब करें तो उसमें किसी भी तरह के लेनदेन करना हो अकाउंट खुलवाना हो किसी के पैसा जमा करना हो बैंक में किसी का लोन पास करना हो और उसमें कितना ब्याज लगेगा का हिसाब किताब करना हो तो आसानी से कर पाए.

कंप्यूटर की जानकारी

कंप्यूटर कोर्स की जानकारी होना आवश्यक है क्योंकि चाहे प्राइवेट बैंक हो या सरकारी बैंक हो किसी भी बैंक में आज के समय में हर कार्य कंप्यूटर के माध्यम से ही हो रहा है किसी का खाता खुलवाना हो किसी का पैसा जमा करना है निकालना है बैंक का स्टेटस देखना है वहां पर बैंक मैनेजर या जो भी कर्मचारी होते हैं वह कंप्यूटर पर ही देख करके सारे काम कुछ ही समय में कर देते हैं.14+बेस्‍ट कंप्यूटर कोर्स 

बैंकिंग एग्जाम के पुराने प्रश्नों को देखें

अगर बैंक का एग्जाम देना चाहते हैं बैंक की तैयारी करना चाहते है तो जो पिछले साल का बैंक एग्जाम का सिलेबस है उसको अच्छे से देखें उसमें जो भी बैंक पीओ के लिए क्वेश्चन पेपर में क्वेश्चन है उसको सॉल्व करें तो आगे की बैंक जॉब के लिए तैयारी अच्छे से हो सकेगी.

मास्टर डिग्री प्राप्त करें

कॉमर्स से ग्रेजुएशन करने के बाद अगर चाहे तो आगे चलकर मास्टर डिग्री भी प्राप्त कर सकते हैं. किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से फाइनेंस या बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन से कोई भी मास्टर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं जैसे कि एम कॉम, एमबीए पीजीडीएम आदि.

आईबीपीएस परीक्षा

किसी भी प्राइवेट बैंक में या सरकारी बैंक में सीधे बैंक मैनेजर के लिए भर्ती नहीं होता है. पहले आईबीपीएस का एग्जाम देना पड़ता है अगर इस परीक्षा को पास कर जाते हैं तो प्रोबेशनरी ऑफिसर जिसे बैंक पीओ कहा जाता है बनते हैं.

इसके बाद 2-3 साल के बाद असिस्टेंट बैंक मैनेजर के लिए आपका प्रमोशन होगा और उसके बाद एक 2 साल या 3 साल इसी पोस्ट पर रहने के बाद बैंक मैनेजर बनाए जाते हैं तो बैंक मैनेजर बनने के लिए आईबीपीएस का परीक्षा पहला सीढ़ी है.

ट्रेनिंग

आईबीपीएस एग्जाम को पास करने के बाद जब बैंक का पीओ बन जाते हैं तो कुछ दिनों के लिए ट्रेनिंग कराया जाता है. ताकि बैंक के हर एक कामों को अच्छे से समझ सके हर एक काम को करने के लिए पूर्ण रूप से सुशिक्षित हो पाए.

बैंकिंग कोर्स

एक बैंक मैनेजर की नौकरी प्राप्त करने के लिए या बैंक के एग्जाम देने के लिए कई बैंकिंग कोर्स है जिसके माध्यम से बैंक एग्जाम के बारे में आप आसानी से तैयारी कर पाएंगे एग्जाम को आसानी से पास कर पाएंगे. इन कोर्सेज में फाइनेंस, होम लोन, रिस्क मैनेजमेंट, बैंकिंग मैनेजमेंट, बैंकिंग, टैक्सेशन आदि के बारे में बहुत ही अच्छे से जानकारी दिया जाता है तो इसके लिए कई बैंकिंग कोर्स है.

  • बीकॉम बैंकिंग मैनेजमेंट
  • एम कॉम
  • बीबीए इन बैंकिंग
  • पीएचडी इन बैंकिंग और फाइनेंस 
  • एमएसजी इन बैंकिंग एंड फाइनेंस
  • बीएसई बैंकिंग एंड फाइनेंस
  • एमबीए बैंकिंग एंड फाइनेंस
  • मास्टर ऑफ लॉ इन इंटरनेशनल बैंकिंग

बैंक मैनेजर बनने के लिए योग्यता

किसी भी गवर्नमेंट जॉब या प्राइवेट जॉब को प्राप्त करने के लिए सबसे ज्यादा क्वालिफिकेशन जरूरी है. अगर एजुकेशन क्वालीफिकेशन सही नहीं रहेगा आप कोई उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं किए रहेंगे तब तक किसी भी तरह के जॉब पाना मुश्किल हो जाता है. बैंक में जॉब पाने के लिए बैंक मैनेजर बनने के लिए सबसे पहले सही एलिजिबिलिटी होना जरूरी है.

  • सबसे जरूरी है कि बैंकिंग एग्जाम के लिए किसी भी उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन पास हो.
  • ग्रेजुएशन किसी भी विषय से चाहे बीएससी, बीए, बी टेक, बी कॉम आदि किए हैं तो बैंक का एग्जाम दे सकते है. लेकिन बैंक एग्जाम देने के लिए सबसे बेहतर अगर कॉमर्स से ग्रेजुएशन पास किए हैं तो ज्यादा फायदा होता है.
  • बैंक एग्जाम देने के लिए उस उम्मीदवार का भारत का नागरिक होना जरूरी है.
  • बैंक एग्जाम के लिए कोई कंप्यूटर कोर्स जरूरी है क्योंकि बैंक में नौकरी करने के लिए कंप्यूटर की जानकारी आवश्यक है.
  • टैली की जानकारी आवश्यक है.
  • एकाउंटिंग के बारे में जानकारी आवश्यक है.
  • बैंक के एग्जाम देने के लिए उम्मीदवार का कम से कम 20 वर्ष और ज्यादा से ज्यादा 30 साल तक का उम्र होना आवश्यक है.
  • इसमें एससी एसटी और ओबीसी के लिए कुछ साल का छूट दिया जाता है.
  • आईबीपीएस एग्जाम को पास करने के लिए पूरी तैयारी होना चाहिए.

बैंक मैनेजर बनने के लिए गुण या कौशल

किसी भी उम्मीदवार को अगर बैंक मैनेजर बनना है बैंक मैनेजर के लिए तैयारी कर रहे हैं परीक्षा पास किए हैं तो उनके लिए कुछ आवश्यक गुण या कौशल भी होना जरूरी है.12वीं के बाद साइंस स्‍टूडेंट क्या करें

व्यवसाय प्रबंधन कौशल

व्यवसाय को कैसे चलाया जाता है बैंक में किस तरह से ज्यादा फायदा होगा बैंक में किस तरह से कार्य किया जाए कि ज्यादा ग्राहक आए या कोई भी ग्राहक आने के लिए उसी बैंक में ज्यादा प्रभावित रहे 

इस तरह का कार्य करने का गुण अगर एक बैंक मैनेजर के अंदर होगा तो बैंक में ग्राहक ज्यादा आना पसंद करेंगे. बैंक में नई नई सुविधाएं नए-नए स्कीम निकाल कर ग्राहकों को प्रभावित करने का कौशल आना चाहिए.

नेतृत्व

किसी भी बैंक में छोटे लेबल के कर्मचारी आदि जो भी होते हैं उनका हेड एक मैनेजर ही होता है तो मैनेजर के अंदर नेतृत्व का गुण होना चाहिए कि किस तरह से बैंक के हर एक कर्मचारी को एक साथ लेकर कार्य किया जाए तो उससे बैंक में बढ़ोतरी होगा.

ग्राहक सेवा

कभी-कभी ऐसा होता है कि हम किसी बैंक में जाते हैं और वहां के मैनेजर से किसी तरह का बात पूछ लिया जाए बैंक की किसी स्कीम के बारे में पूछा जाए और वह मैनेजर अच्छे से बात नहीं करता है तो उस बैंक में जाना कोई पसंद नहीं करता है.

इसलिए एक मैनेजर को ग्राहक की सेवा करने का गुण होना चाहिए. ग्राहक से जितने ही अच्छे से बात करेंगे किसी भी स्कीम या सुविधा के बारे में विस्तार से उन्हें बताएंगे तभी वह उस बैंक में आना पसंद करेंगे या उस बैंक में जो भी कार्य होगा वह अच्छे से कर पाएंगे.

कंप्यूटर का नॉलेज

अगर एक बैंक मैनेजर के पास कंप्यूटर का पूरी तरह से नॉलेज है वह किसी भी ग्राहक का कार्य बहुत ही जल्दी से और आसानी से कंप्यूटर के माध्यम से कर पाएंगे जिससे कि ज्यादा ग्राहकों का भीड़ भी नहीं होगा और जो भी अपना कार्य करवाने ग्राहक आएंगे उनका कार्य जल्दी से हो जाएगा.

Bank manager kaise bane

बैंक मैनेजर के लिए परीक्षा कैसे होता है

वैसे तो बैंक में सीधे मैनेजर के लिए कोई परीक्षा नहीं है सीधे मैनेजर के पोस्ट पर भर्ती नहीं होता है. पहले पीओ के लिए एग्जाम देना पड़ता है और उस एग्जाम को आईबीपीएस एग्जाम कहते हैं. इसी परीक्षा को पास करने के बाद पीओ बनते हैं

कुछ दिनों में प्रमोशन होने के बाद असिस्टेंट मैनेजर बनते हैं और अगर उनका कार्य अच्छा रहा तो कुछ ही दिनों में प्रमोशन के बाद बैंक मैनेजर बन सकते हैं. इसके लिए परीक्षा चार चरणों में होता है.

प्री एग्जाम

बैंक एग्जाम का सबसे पहला चरण प्री एग्जाम होता हैं. जिसमें सामान्य ज्ञान, रिजनिंग, मैथ, इंग्लिश, करंट अफेयर्स आदि का जानकारी होना जरूरी है क्योंकि इसी से संबंधित इसमें क्वेश्चन आते है. इस एग्जाम को अगर पास कर लेते हैं उसके बाद दूसरे चरण का एग्जाम दे पाएंगे.

मेंस एग्जाम

इस परीक्षा का दूसरा चरण मेंस एग्जाम होता है प्री एग्जाम में जो भी उम्मीदवार पास होंगे वही मेंस का एग्जाम दे पाएंगे. पहले चरण के एग्जाम से इसमें ज्यादा तैयारी करना पड़ता है मेंस एग्जाम को पास करने के बाद ही उम्मीदवार तीसरे चरण के परीक्षा को देने के योग्य होते हैं.

इंटरव्यू

इंटरव्यू को हिंदी में साक्षात्कार भी कहा जाता है जब मेंस एग्जाम पास कर लेते हैं उसके बाद उम्मीदवार को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है. इसमें भारतीय अर्थव्यवस्था, राजनीति, कृषि, समाज, व्यापार, खेल, मीडिया, बाजार, रिजर्व बैंक, भारत का संविधान, वित्त पुरस्कार, बैंक से संबंधित आदि प्रश्नों को पूछा जाता है. जिसमें अगर उम्मीदवार पास कर जाता है तो अगले चरण में उसको बुलाया जाता है.

ग्रुप डिस्कशन

ग्रुप डिस्कशन जिसे हिंदी में सामूहिक विचार विमर्श भी कहा जाता है. ग्रुप डिस्कशन में दो से अधिक व्यक्ति एक साथ बैठकर किसी भी सवाल पर अपने अपने विचार रखते हैं उसी तरह इसमें भी तीनों चरणों पास किये हुए उम्मीदवार और कुछ अधिकारी एक साथ बैठकर किसी तरह का एक विषय दिया जाता है

उसी पर ग्रुप डिस्कशन करते हैं. हर उम्मीदवार अपना विचार और अपने काबिलियत के हिसाब से उस विषय पर बोलते हैं. अगर इसमें पास हो जाते हैं तो बैंक की नौकरी प्राप्त कर लेंगे.

बैंक मैनेजर की तैयारी कैसे करें

इसकी तैयारी करने के लिए किसी भी उम्मीदवार के पास किसी भी छात्र के पास कई कई ऑप्शन है जिसके माध्यम से वह बैंक जॉब के लिए पूरी तरह से जानकारी हासिल कर पाएंगे.

कोचिंग इंस्टिट्यूट में तैयारी

ट्वेल्थ पास करने के बाद अगर चाहते हैं कि बैंक जॉब की तैयारी करें बैंक में नौकरी करें उसके लिए परीक्षा का तैयारी करना पड़ता है. जिसके लिए किसी भी कोचिंग इंस्टीट्यूट में ऐडमिशन लेकर तैयारी कर सकते हैं.

आज के समय में कई ऐसे कोचिंग इंस्टिट्यूट है जिसमें बैंक की नौकरी के लिए तैयारी कराया जाता है. उसमें जनरल नॉलेज, करंट अफेयर्स, मैथ, रिजनिंग आदि का शिक्षा प्राप्त किया जा सकता है.

घर से तैयारी करें

अगर आप किसी कोचिंग इंस्टिट्यूट में एडमिशन लेने के लिए सक्षम नहीं है पैसों की कमी है तो घर से भी बैंक की तैयारी कर सकते हैं इसके लिए शुरू से ही मैथ जनरल नॉलेज रिजनिंग करंट अफेयर्स आदि का ज्ञान ज्यादा प्राप्त करें.

इन सारे विषयों में ज्यादा मेहनत करें परिश्रम करें लगन से पढ़ाई करें. बैंक एग्जाम के लिए कई बुक भी आते हैं जिसमें पिछले साल में जो भी एग्जाम हुए हैं उनके प्रश्न दिए हुए रहते हैं उन प्रश्नों को देख करके उन्हें सॉल्व करें.शेयर मार्केट से पैसा कैसे कमाए

ऑनलाइन तैयारी करें

आज के डिजिटल युग में किसी भी चीज के लिए फ्री में जानकारी प्राप्त करने के लिए मोबाइल लैपटॉप एक बेहतरीन माध्यम हो गया है जिसके पास इंटरनेट की सुविधा है वह अपने मोबाइल पर भी किसी भी तरह के प्रश्न का उत्तर जान सकता है. किसी भी तरह की जानकारी को हासिल कर सकता है तो बैंक परीक्षा का भी तैयारी मोबाइल से ऑनलाइन कर सकते हैं उसके लिए दो तरह के ऑप्शन है.

गूगल:- दुनिया का नंबर वन सर्च इंजन वेबसाइट गूगल है गूगल पर दुनिया के किसी भी कोने से किसी भी तरह के क्वेश्चन का आंसर प्राप्त कर सकते हैं तो बैंक के जॉब के लिए भी हर तरह के क्वेश्चन का आंसर सर्च करके देख सकते हैं और उससे याद कर सकते हैं.

यूट्यूब:-गूगल पर तो किसी भी तरह के क्वेश्चन के आंसर पढ़ करके उसे याद करना पड़ता है लेकिन यूट्यूब पर वीडियो के माध्यम से बैंक मैनेजर के तैयारी फ्री में कर सकते हैं. यूट्यूब दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सर्च इंजन वेबसाइट है इस पर कई लोग बैंकिंग एग्जाम की तैयारी के लिए कई तरह के वीडियो बनाकर डालते हैं उन वीडियो को सर्च करके देख सकते हैं और उससे संबंधित तैयारी कर सकते हैं.

बैंक मैनेजर का कार्य

हर एक बैंक मैं मैनेजर होते हैं वह उस ब्रांच के हेड होते हैं. उस ब्रांच में जो भी कार्य होता है उसका देख रेख और उसका पूरा नियंत्रण करना एक बैंक मैनेजर का कार्य होता है.

  • बैंक में दिनभर में जितने लेनदेन हुए हैं जितने कार्य हुए हैं उनका हिसाब किताब करना और सही तरीके से एक जगह उसी हिसाब किताब को सम्मिलित करके रखना एक बैंक मैनेजर के द्वारा  ही किया जाता है.
  • बैंक में जितने कर्मचारी हैं उनको लीड करना दिन भर में उन्हें कौन कौन सा कार्य करना है किस तरह से करना है गाइड करने का कार्य एक मैनेजर का ही होता है.
  • बैंक में जितने ग्राहक आते हैं उन ग्राहक के साथ अच्छा संबंध स्थापित करना ग्राहक का समय से कार्य करना और अन्य कर्मचारियों के द्वारा भी हर कार्य को सही समय से करवाना बैंक मैनेजर का कर्तव्य है.
  • अपने ग्राहकों के लिए समय समय से अलग अलग तरीके के आकर्षक सेवाएं विकसित करना ताकि ज्यादातर ग्राहक उसी बैंक में आए.
  • किसी भी बैंक में 1 साल में कितना फायदा हुआ है कितना मुनाफा हुआ है इन सारे बातों का ध्यान और हिसाब किताब मैनेजर ही रखता है. बैंक में हर एक रिकॉर्ड और स्टेटमेंट को सही तरीके से बना कर रखना मैनेजर का कार्य होता है.
  • बैंक का फायदा कराने के लिए बैंक को विकसित करने के लिए समय समय से नई स्कीम या रणनीति तैयार करना मैनेजर का काम होता है.

सरकारी बैंक मैनेजर कैसे बने

सरकारी बैंक मैनेजर बनने के लिए 12वीं के पास बाद कॉमर्स से ग्रेजुएशन पास करना होता है अगर साइंस या आर्ट्स से भी ग्रेजुएशन पास किए हैं तो भी बैंक की नौकरी के लिए परीक्षा दे सकते हैं. बैंक में मैनेजर बनने के लिए सबसे पहले आईबीपीएस एग्जाम पास करके पियो की नौकरी प्राप्त करना पड़ता है 

पियो के पद पर रहते हुए कुछ दिनों के बाद प्रमोशन के बाद असिस्टेंट मैनेजर बनेंगे और इस पद पर अच्छे से कार्य अगर करते रहे तो जल्दी ही प्रमोशन हो जाएगा उसके बाद बैंक मैनेजर बन सकते हैं.

प्राइवेट बैंक मैनेजर कैसे बने

सरकारी बैंक मैनेजर बनने से कुछ आसान प्राइवेट बैंक मैनेजर बनना होता है. इसके लिए पियो प्रोग्राम ज्वाइन करना पड़ता है इस प्रोग्राम के खत्म होने के बाद कई प्राइवेट बैंकों के लिए कैंडिडेट का चुनाव किया जाता है और इंटरव्यू होता है. इंटरव्यू पास करने के बाद प्राइवेट बैंक में नौकरी कर सकते हैं.

बैंक मैनेजर को मिलने वाली सुविधाएं

किसी भी सरकारी क्षेत्र में नौकरी करने पर कई तरह की सरकार के द्वारा सुविधाएं दी जाती है तो बैंक की नौकरी करने पर भी कई तरह की सुविधाएं प्राप्त होती है.

  • यात्रा में छूट
  • पेट्रोल एलाइंस 
  • फ्री घर 
  • फ्री चिकित्सा सेवा 
  • टेलीफोन सेवा 
  • स्पेशल रिलायंस 
  • न्यू पेंशन स्कीम 
  • न्यूज़पेपर रीइंबर्समेंट 
  • इंटरटेनमेंट एक्सपेंसेस 
  • क्लीनिंग मैटेरियल्स एक्सपेंसेस
  • फ्री बिजली बिल 
  • हेल्थ इंश्योरेंस 
  • क्रेडिट कार्ड 
  • डियरनेस अलाउंस

भारत के प्रमुख सरकारी बैंक

  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 
  • बैंक ऑफ इंडिया 
  • पंजाब नेशनल बैंक 
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया 
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 
  • बैंक ऑफ बड़ौदा 
  • पंजाब एंड सिंध बैंक 
  • केनरा बैंक 
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र

भारत के प्रमुख प्राइवेट बैंक

  • एचडीएफसी बैंक
  • आईडीएफसी बैंक 
  • आईसीआईसीआई बैंक 
  • एक्सिस बैंक 
  • कोटक महिंद्रा बैंक 
  • लिमिटेड फेडरल बैंक 
  • इंडस्लैंड बैंक 
  • यस बैंक 
  • आरबीएल बैंक 
  • एचएसबीसी

FAQ

12वीं के बाद बैंक मैनेजर कैसे बने

12वीं पास करने के बाद ग्रेजुएशन पास करना जरूरी है उसके बाद ही किसी भी बैंक की जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैं अगर कॉमर्स से ग्रेजुएशन करते हैं तो और भी अच्छा रहेगा. ग्रेजुएशन करने के बाद आईबीपीएस एग्जाम को पास करना पड़ता है.

बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या करना चाहिए

बैंक में नौकरी करने के लिए बैंक में मैनेजर बनने के लिए आईबीपीएस एग्जाम पास कर के बैंक के पियो की नौकरी करें और प्रमोशन होने के बाद असिस्टेंट मैनेजर बन जाएंगे असिस्टेंट मैनेजर के पद पर रहते हुए प्रमोशन के बाद बैंक मैनेजर बनेंगे.

बैंक जॉब के लिए क्वालिफिकेशन क्या होनी चाहिए

किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन पास होना जरूरी है इसके बाद ही किसी भी बैंक की नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

बैंक मैनेजर की सैलरी

बैंक मैनेजर की सैलरी कम से कम 30000 और ज्यादा से ज्यादा 60,000 तब शुरुआती दौर में मिलता है.

निष्कर्ष

आज के समय में लगभग हर छात्र बैंक में नौकरी करना चाहते हैं उनका सपना होता है वह बैंक की नौकरी प्राप्त करें तो बैंक मैनेजर कैसे बने बैंक में नौकरी कैसे प्राप्त कर सकते हैं इसके लिए क्या योग्यता होनी चाहिए से संबंधित हर तरह के जानकारी इस लेख में दिए गए हैं आशा करते हैं कि यह लेख आपको जरूर पसंद आया होगा.कंप्यूटर एक्सपर्ट कैसे बने

Leave a Comment