Backlink – बैकलिंक्स क्या है और बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं

किसी भी प्रकार के नए वेबसाइट को गूगल में रैंंक कराने के लिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की आवश्यकता पड़ता है.

Backlink kya hai in hindi सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का मुख्य स्तंभ बैकलिंक्स हैं.

इस लेख में हम लोग जानेंगे कि बैकलिंक्स क्या है कितने प्रकार के बैकलिंक्स होते हैं बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं बैकलिंक्स क्यों जरूरी है इन सभी सवालों का जवाब नीचे विस्तार से मिलने वाला हैंं.

What is backlink in hindi

बैकलिंक्स एक प्रकार का लिंक होता हैं जो कि किसी दूसरे वेबसाइट से प्राप्त होता हैं बैकलिंक्स का मतलब किसी दूसरे वेबसाइट से आपके वेबसाइट का लिंक जब प्राप्त होता हैं मिलता हैं तो उसे बैकलिंक्स कहा जाता हैं.

Backlinks का प्रकार अलग अलग होता हैं कुछ बैकलिंक्स वैसे होते हैं जो डू फॉलो बैकलिंक्स होते हैं कुछ वैसे Backlinks होते हैं जो नो फॉलो बैकलिंक्स होते हैं बैकलिंक्स बनाने से वेबसाइट का डोमिनो अथॉरिटी बढ़ता हैं वेबसाइट का लोगो को जानकारी प्राप्त होता हैं तथा रैंकिंग भी इंप्रूव होता हैं.

Backlink kya hai in hindi

जब किसी नए वेबसाइट का लिंक किसी पुराने वेबसाइट्स या जिस वेबसाइट का डोमिन अथॉरिटी अच्छा है उस वेबसाइट के साथ जब किसी नए वेबसाइट्स का लिंक साझा किया जाता है तो उसे Backlinks कहा जाता है आसान भाषा में बैकलिंक्स का मतलब यदि समझा जाए तो do follow link से किसी वेबसाइट को आगे बढ़ाने में मदद करें उसे Backlinks कहते हैं.

Backlink kya hai in hindi

बैकलिंक्स कैसे बनाएं किसी वेबसाइट का डोमिन अथॉरिटी बढ़ाने के लिए या किसी भी कीवर्ड को गूगल के टॉप में रैंक कराने के लिए Backlinks बनाना पड़ता हैं यदि आप भी Backlinks कैसे बनाते हैं सर्च करते हुए इस पोस्‍ट पर आए हैं तो यहां पर आपको Backlinks बनाने के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से नीचे मिलने वाला हैं.

किसी भी नए वेबसाइट का या पुराने वेबसाइट का प्रसिद्धि पॉपुलरीटी बढ़ाने के लिए उसका अथॉरिटी बढ़ाने के लिए Backlinks बनाना बहुत ही जरूरी हैं क्योंकि बिना Backlinks के आपके वेबसाइट के बारे में दूसरे जो पुराने वेबसाइट ओनर हैं उनको जानकारी नहीं होता हैं.

तथा आपको दूसरे वेबसाइट से लिंक जूस प्राप्त नहीं होता हैं इसलिए किसी भी वेबसाइट के लिए Backlinks बनाना किसी भी वेबसाइट के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही जरूरी हैं.

बैकलिंक्स कितने प्रकार के होते हैं

Backlinks दो प्रकार के होते हैं डू फॉलो लिंक्स बैकलिंक्स नो फॉलो बैकलिंक्स यह दोनों प्रकार के Backlinks इसी वेबसाइट को गूगल में फर्स्ट पेज पर लाने में बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं किसी भी नई वेबसाइट को आगे बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक डु फॉलो लिंक्स बनाना चाहिए.

  • Do follow backlinks
  • Nofollow backlinks 

Do follow Backlinks 

किसी भी नई वेबसाइट को आगे बढ़ाने के लिए अधिक लोगों के पास इस वेबसाइट का लिंक पहुंचाने के लिए डू फॉलो बैक लिंक्स बनाना जरूरी है डू फॉलो बैकलिंक का मतलब होता है किसी पुराने वेबसाइट में जिसका डोमिन authority ज्यादा हो उसके home page पर या किसी पोस्ट के बीच में किसी वेबसाइट का लिंक को जोड़ना do follow Backlinks कहलाता है.

डू फॉलो बैकलिंक्स बनाने के लिए किसी भी वेबसाइट के जो मालिक होते हैं उनसे कांटेक्ट करना पड़ता हैं तथा डू फॉलो Backlinks वैसे बैकलिंक्स होते हैं जो किसी वेबसाइट के मेन पेज से प्राप्त होता हैं वैसे लिंक डू फॉलो लिंक्स कहलाते हैं.

डू फॉलो Backlinks बनाने के लिए किसी भी वेबसाइट में जाकर के आप प्रोफाइल बैकलिंक्स क्रिएट कर सकते हैं या फिर किसी भी वेबसाइट में यदि उसके मेन पेज में एडिट करने का ऑप्शन हैं तो वहां से जा करके आप अपने वेबसाइट का लिंक ऐड करके डू फॉलो Backlinks बना सकते हैं.

डू फॉलो बैकलिंक्स कैसे बनायें

डू फॉलो बैकलिंक्स बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण तरीका हैं कि आप अपने सिमिलर वेबसाइट को गेस्ट पोस्टिंग करें इससे आप अपने वेबसाइट के लिए डू फॉलो बैकलिंक्स बना सकते हैं तथा आप अपने वेबसाइट का डोमिनो अथॉरिटि तथा गूगल में रैंकिंग को भी बढ़ा सकते हैं.

आज के समय में प्रोफाइल बैकलिंक्स या और भी जितने तरह के डू फॉलो Backlinks से वह गूगल में क्रॉल नहीं होते हैं जिसके कारण उस तरह के लोग फॉलो Backlinks बनाना बेहतर नहीं हैं.

तो डू फॉलो बैकलिंक्स बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज हैं कि आप गेस्ट पोस्टिंग करें इससे आपको डू फॉलो Backlinks प्राप्त होगा और वह गूगल में क्रॉल भी करेगा तथा इससे आपके वेबसाइट का डोमिनो अथॉरिटी और ग्रोथ होगा.

गेस्ट पोस्टिंग किस तरह के वेबसाइट को करें 

डू फॉलो बैकलिंक्स बनाने के लिए गेस्ट पोस्ट किस तरह के वेबसाइट को भेजना चाहिए इसके बारे में भी जानकारी होना बहुत ही जरूरी हैं यदि आपका वेबसाइट किसी भी एक चीज पर बना हुआ हैं और आप उसी से संबंधित वेबसाइट को गेस्ट पोस्टिंग करते हैं जिसका डोमिनो अथॅरिटी ज्यादा हैं जिसका गूगल में रैंकिंग अच्छा हैं पॉपुलरीटी अच्छा हैं तो वैसे वेबसाइट को यदि आप गेस्ट पोस्टिंग करते हैं.

उससे बैकलिंक्स प्राप्त करते हैं तो आपके वेबसाइट का और अथॉरिटी के साथ-साथ गूगल में रैंकिंग मजबूत होगा तो यदि आप अपने वेबसाइट के लिए डू फॉलो Backlinks बनाना चाहते हैं तो इस तरह के जो भी जानकारी आपको इस लेख में दी गई हैं ठीक उसी तरह के वेबसाइट के साथ आप अपने वेबसाइट के लिए डू फॉलो बैकलिंक्स बनाएं.

डू फॉलो बैकलिंक्स बनाने के फायदे

डू फॉलो बैकलिंक्स बनाने से क्या फायदे हैं Backlinks क्यों बनाना चाहिए यह भी जानना बहुत ही जरूरी हैं डू फॉलो Backlinks बनाने से दूसरे वेबसाइट के ओनर होते हैं.

उनके साथ आपका विश्वास तथा एक रिश्ता बनता हैं जिससे एक ब्लॉगर दूसरे ब्लॉगर के साथ अपना दोस्ताना संबंध बनाते हैं साथ ही साथ डू फॉलो Backlinks बनाने से आपकी वेबसाइट के लिए सबसे महत्वपूर्ण फायदा यह हैं कि आपके वेबसाइट का डोमिनो अथॉरिटी बढ़ जाता हैं.

तथा गूगल में वेबसाइट का रैंकिंग ऊपर चला जाता हैं वेबसाइट धीरे धीरे पॉपुलर होने लगता हैं लोग आपके वेबसाइट के बारे में सर्च करना शुरू करते हैं यदि आप डू फॉलो Backlinks अपने वेबसाइट के लिए ज्यादा से ज्यादा बनाते हैं तो आपकी वेबसाइट के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद हैं.

गेस्ट पोस्टिंग कैसे करते हैं 

Guest Post करने के लिए आप किसी भी वेबसाइट को सर्च कर सकते हैं उसके लिए आप गूगल में जाकर के आप अपने वेबसाइट से संबंधित किसी भी कीवर्ड को सर्च करें और उसके बाद जितने भी वेबसाइट वहां पर दिख रहा हैं उन वेबसाइट को आप ओपन करके और वहां आप देख सकते हैं कि उस वेबसाइट में गेस्ट पोस्ट एक्सेप्ट किया जाता हैं या नहीं किया जाता हैं.

आप इस तरह से 10 20 30 40 वेबसाइट को विजिट करें और उस पर देखें कि गेस्ट पोस्टिंग स्‍वीकार करते हैं या नही यदि स्‍वीकार करते हैं तो आप वहां से उनका ईमेल आईडी के द्वारा आप गेस्ट पोस्ट भेज सकते हैं या उस वेबसाइट में ऑनलाइन यदि गेस्ट पोस्ट सबमिट करने के लिए ऑप्शन दिया गया हैं तो वहां पर भी आप अपने गेस्ट पोस्ट को सबमिट कर सकते हैं.

गेस्ट पोस्टिंग करने के लिए वेबसाइट सर्च कैसे करें

गेस्ट पोस्टिंग करने के लिए आप वेबसाइट गूगल से ही सर्च कर सकते हैं गूगल में जाकर के आप अपने ब्लॉग नीचे संबंधित किसी भी कीवर्ड को सर्च करेंगे सर्च करने के बाद ऊपर से 20 वेबसाइट जो आपको दिखेगा या 30 दिखेगा उस हर एक वेबसाइट पर जाकर के आप गेस्ट पोस्टिंग के लिए मेल कर सकते हैं.

या उनसे कांटेक्ट कर सकते हैं पता कर सकते हैं और उसके बाद यदि वेबसाइट अगर आपको गेस्ट पोस्टिंग करने के लिए परमिशन देता हैं.

तो आप उनके लिए गेस्ट पोस्टिंग लिख सकते हैं गेस्ट पोस्टिंग फ्री में भी अधिकतर लोग स्वीकार करते हैं जबकि गेस्ट पोस्टिंग कुछ लोग पैसा लेकर के भी स्वीकार करते हैं तो आप अपने हिसाब से फ्री में आप शुरू में गेस्ट पोस्टिंग लोगों को करें इससे आपके वेबसाइट का स्वास्थ्य बहुत ही ज्यादा इंप्रूव तथा बेहतर होगा.

नो फॉलो बैकलिंक्स क्या हैं 

नो फॉलो बैकलिंक्स का मतलब होता है किसी वेबसाइट के कमेंट सेक्शन में जा कर के अपने वेबसाइट या किसी पोस्ट या पेज का लिंक कमेंट करना यह भी एक अच्छा तरीका है.

नो फॉलो लिंक्स बनाने का जैसे किसी भी वेबसाइट का लिंक सेम नीच के वेबसाइट पर जाकर के कमेंट सेक्शन में आपने वेबसाइट का पोस्ट का लिंक कमेंट सेक्शन में कमेंट करना और उसके साथ उस पोस्ट के बारे में अच्छा मैसेज देना नो फॉलो बैक लिंक होता है. नो फॉलो बैकलिंक्स वैसे Backlinks होते हैं जिसको किसी भी वेबसाइट पर जाकर के कॉमेंट करके किया जाता हैं.

इसका मतलब होता हैं कि वैसे वेबसाइट का लिंक नो फॉलो Backlinks होता हैं जिसको किसी वेबसाइट के होमपेज या उसके बॉडी पेज के अंदर से प्राप्त नहीं किया गया हो वैसे जितने भी लिंक होते हैं वह सभी नो नो फॉलो Backlinks भी वेबसाइट के लिए बनाना चाहिए फॉलो लिंक होते हैं.

इससे भी वेबसाइट का डोमिनो अथॅरिटी तथा पापुलैरिटी इंप्रूव होता हैं. नो बैकलिंक्स बनाने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं करना पड़ता हैं इसको बहुत ही आसानी से बनाया जा सकता हैं.

नो फॉलो लिंग्स का मतलब जो भी वेबसाइट हैं जिस पर नो फॉलो Backlinks बनाया गया हैं उस वेबसाइट ओनर या उस वेबसाइट के द्वारा आपके वेबसाइट के बारे में कुछ खास तवज्जो नहीं दिया जाता हैं तथा इससे उस वेबसाइट ओनर का कोई लेना देना नहीं होता हैं इस तरह के जितने भी लिंक होते हैं उसको कमेंट करके बनाया जाता हैं.

नो फॉलो बैक लिंक कैसे बनाते हैं

No Follow Backlinks बनाने के लिए वेबसाइट पर जाकर कॉमेंट करना होता हैं उसके लिए सबसे जरूरी हैं कि आप कुछ वेबसाइट का लिस्ट पहले डाउनलोड करके रख लें और हर एक वेबसाइट पर जाकर के कॉमेंट करें और कॉमेंट अप्रूव हो जाने के बाद आपको नो फॉलो Backlinks उस वेबसाइट से प्राप्त हो जाता हैं.

जितना ज्यादा से ज्यादा नो फॉलो Backlinks आप अपने वेबसाइट के लिए बनाते हैं उतना ही आपके वेबसाइट के लिए बेहतर होता हैं इससे एक गूगल को यह पता चलता हैं कि आप अपने वेबसाइट के लिए डू फॉलो Backlinks के साथ-साथ नो फॉलो Backlinks भी बनाते हैं जिससे आपके वेबसाइट का अथॉरिटी तथा रैंकिंग भी इंप्रूव होता हैं.

नो फॉलो बैकलिंक्स बनाने के फायदे

No Follow Backlinks बनाने से सबसे पहले यह फायदा होता हैं कि जितने भी वेबसाइट पर जाकर के कमेंट करके नो फॉलो Backlinks बनाते हैं उस वेबसाइट ओनर के पास आपकी वेबसाइट का लिंक चला जाता हैं.

जिससे अधिकतर वेबसाइट पर कमेंट करने से अधिकतर वेबसाइट ओनर को यह पता चलता हैं कि आपका वेबसाइट इस तरह का हैं यदि आप अच्छा एक वेबसाइट बनाए हैं तो उस वेबसाइट पर भी लोग विजिट करना शुरू करते हैं तथा आपकी वेबसाइट के लिए डू फॉलो Backlinks भी दे सकते हैं.

इसलिए नो फॉलो Backlinks बनाने से गूगल के नजर में भी एक अच्छा मैसेज जाता हैं तथा इससे आपकी वेबसाइट का डोमिनो अथॉरिटी साथ ही साथ गूगल में रैंकिंग भी मजबूत होता हैं इसलिए अपने वेबसाइट के लिए ज्यादा से ज्यादा नो फॉलो Backlinks भी आप बना सकते हैं इसको बनाने में बहुत ही कम मेहनत करना पड़ता हैं तथा आसानी से इस को कमेंट करके बनाया जा सकता हैं.

Some Important Point in Backlinks

Why create Backlinks – किसी नए वेबसाइट का डोमिन अथॉरिटी बढ़ाने के लिए और इस वेबसाइट को गूगल में रैक करने के लिए Backlinks बनाया जाता है Backlinks बनाने से पेज का अथॉरिटी और डोमिन का अथॉरिटी बढ़ता है.

और यह दोनों बढ़ने से वेबसाइट का रैंकिंग बहुत ज्यादा इंप्रूव होता है इसलिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन में Backlinks एक बहुत ही बड़ा भूमिका अदा करता है इसलिए Backlinks बनाना बहुत महत्वपूर्ण है.

Link juice – जब हम किसी  वेबसाइट का लिंक अपने  वेबसाइट केअंदर  लिंक  करते हैं तो लिंक जूस बनता है और अपने  वेबसाइट के किसी अन्‍य पेज काेे bhi  link  karte  hai to  वेबसाइट का अथॉरिटी और उसका परफॉर्मेंस बढ़ता है.

Low quality Backlink – किसी वेबसाइट का लिंक उसी वेबसाइट के साथ जोड़ना चाहिए जिस वेबसाइट का niche same सेम हो लेकिन कभी-कभी किसी भी प्रकार के वेबसाइट के साथ जब हम अपने वेबसाइट के लिंक को साझा करते हैं तो लो क्वालिटी Backlinks बनता हैं.

High quality Backlink  – हाई क्वालिटी Backlinks का मतलब होता है आपने वेबसाइट का लिंक किसी बड़े वेबसाइट जिसका डोमिन authority और same niche के वेबसाइट के साथ अपने वेबसाइट के लिंक को साझा करते हैं.

तो वह हाई क्वालिटी फॉलो लिंक्स बनता है इसलिए अधिक से अधिक हाई क्वालिटी फॉलो Backlinks वेबसाइट इंप्रूवमेंट के लिए बनाना जरूरी है इससे वेबसाइट का डोमिन authority  और पेज और authority दोनों बढ़ता है और website गूगल में रैंक काफी आसानी से होता हैंं.

Internal links – जब किसी वेबसाइट का कोई पोस्ट या पेज गूगल में rank करने लगता है तो उस पोस्ट या पेज के साथ दूसरे किसी पोस्ट का लिंक शेयर करते हैं और दूसरा पोस्ट भी गूगल में रैक करने की संभावना रहता है इसलिए इंटरनल लिंकिंग भी Backlinks में काफी महत्वपूर्ण है.

Guest post – किसी बड़े वेबसाइट में डू फॉलो Backlinks बनाने के लिए सबसे आसान जो तरीका है वह गेस्ट पोस्ट लिखना किसी बड़े वेबसाइट पर जाकर के और एक अच्छा क्वालिटी कंटेंट्स का पोस्ट तैयार करके और उस वेबसाइट पर शेयर करना उसमें अपने वेबसाइट का लिंक भी शेयर करना फॉलो Backlinks बनाने का और अपने डोमिन authority और पेज और authority बढ़ाने का सबसे आसान और बेहतर तरीका है.

कमेंट करना  – नो फॉलो बैकलिंक्स बनाने का सबसे सरल आसान तरीका है किसी बड़े वेबसाइट के कमेंट सेक्शन में जाकर के अच्छा कमेंट लिखना और उसके नीचे अपने पोस्ट का लिंक शेयर करना इससे उस वेबसाइट पर जितने भी विजिटर आते हैं.

और वहां पर आप अपने किसी एक पोस्ट का लिंक शेयर करते हैं तो वहां से डायरेक्ट क्लिक करके वह आपके वेबसाइट पर भी विस्टस आएगा जिससे आपके वेबसाइट का परफॉर्मेंस बढ़ेगा इसलिए अधिक से अधिक नो फॉलो लिंक भी बनाना बहुत आसान हैंं.

ये भी पढ़े

सारांश 

बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं बैकलिंक्स क्या हैं बैंकलिंक्‍स कितने प्रकार के होता हैं बैकलिंक्स के फायदे क्या हैं इन सभी चीजों के बारे में इस लेख में हमने पूरी जानकारी देने का प्रयास किया हैं.

फिर भी यदि आपके मन में बैंकलिंक्‍स से संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल हो तो कृपया कमेंट करके पूछ सकते हैं साथ ही साथ बैंकलिंक्‍स कैसे बनाएं के बारे में दी गई जानकारी आपको कैसा लगा कृपया कमेंट करके जरूर बताएं तथा इस जानकारी को अपने दोस्त मित्रों के साथ शेयर भी जरूर करें धन्यवाद

 

1 thought on “Backlink – बैकलिंक्स क्या है और बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं”

Leave a Comment