एनालॉग कंप्यूटर क्‍या हैं उपयोग व विशेषता

Analog Computer kya hai कंप्यूटर के बहुत से ऐसे नाम हैंं जिनसे हम सभी लोग परिचित नहीं होते हैंं जिसमें अलग-अलग कंप्यूटर को अलग अलग नाम से उच्चारण किया जाता हैं लेकिन इन अलग-अलग नाम के कंप्यूटर का क्या काम होता हैं क्या मतलब होता हैं इनका विशेषता क्या होता हैं तथा इस तरह की जो अलग-अलग नाम के कंप्यूटर होते हैंं उसका उपयोग क्या हैं यह जानना बहुत ही जरूरी हैं.

आज इस लेख में हम लोग ऐसे ही एक अन्य कंप्यूटर के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने वाले हैंं जिसमें एनालॉग कंप्यूटर क्या हैं एनालॉग कंप्यूटर का इतिहास क्या हैं विशेषता क्या हैं एनालॉग कंप्यूटर कितने प्रकार का होता हैं एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग तथा एनालॉग कंप्यूटर का उदाहरण भी कुछ इसमें हम लोग जानेंगे तथा एनालॉग कंप्यूटर का नुकसान क्या हैं.

एनालॉग कंप्यूटर और डिजिटल कंप्यूटर में क्या अंतर हैं एनालॉग कंप्यूटर का पहला कंप्यूटर कौन था कंप्यूटर संबंधित तमाम तरह के सवाल आपके मन में होंगे उन सभी सवालों का जवाब कंप्यूटर के बारे में विस्तार से पूरी जानकारी नीचे आपको मिलने वाला हैं.

Analog computer kya hai

कंप्यूटर शब्‍द से लगभग हम सभी लोग परिचित हैंं क्योंकि कंप्यूटर से आज हर कोई जुड़ा हुआ हैं तथा उसके बारे में थोड़ी बहुत जानकारी रखता हैं लेकिन Analog Computer से क्या होता हैं यह सबसे महत्वपूर्ण सवाल हैं.

एनालॉग कंप्यूटर एक ऐसा कंप्यूटर होता हैं जिससे जितने भी तरह के भौतिक मात्राएं होती हैंं उन को मापने के लिए एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता हैं जैसे कि यदि तापमान को मापना हो लंबाई को मापना हो चौड़ाई को मापना हो गति को मापना हो तो उसके लिए एनालॉग कंप्यूटर से ही इस तरह के भौतिक मात्राओं को मापा जाता हैं.

Analog computer kya hai

What is Analog Computer in Hindi 

एनालॉग कंप्यूटर एक ऐसा कंप्यूटर हैं जिसका इस्तेमाल विज्ञान के क्षेत्र में इंजीनियरिंग के क्षेत्र में मापन के क्षेत्र में किया जाता हैं. एनालॉग कंप्यूटर अपने पास किसी भी तरह के डाटा को स्टोर नहीं करता हैं एनालॉग कंप्यूटर एक ऐसा कंप्यूटर होता हैं जो लगातार कामों को करते रहता हैं तथा उसका जो काम हैं वह बदलते रहता हैं.

क्योंकि यह डाटा को सपोर्ट नहीं करता हैं यह लगातार चलने वाला एक प्रक्रिया होता हैं जोकि एनालॉग कंप्यूटर के द्वारा किया जाता हैं.एनालॉग कंप्यूटर किसी भी तरह के रिकॉर्ड को अपने पास स्टोर नहीं करता हैं और सीधे-सीधे डायरेक्टली उसका रिजल्ट को प्रदर्शित करता हैं.

जैसे उदाहरण के लिए एक थर्मामीटर का ही बात किया जाए तो थर्मामीटर से जब किसी के बुखार को मापा जाता हैं तब उसका तापमान बताता हैं और फिर कुछ ही देर के बाद वह लुप्त हो जाता हैं और फिर से जब किसी का बुखार मापा जाता हैं तो थर्मामीटर से उसका जो तापमान होता हैं पता चलता हैं.

इस तरह से थर्मामीटर जो हैं और रिकॉर्ड को अपने पास से स्टोर नहीं करता हैं लेकिन उसका जो रिजल्ट होता हैं जो आउटपुट होता हैं उसको उसी समय प्रदर्शित कर देता हैं.

Analog Computer में मेमोरी उपलब्ध नहीं होता हैं जिसके कारण एनालॉग कंप्यूटर डाटा को अपने पास स्टोर नहीं करता हैं.

एनालॉग कंप्यूटर का मतलब क्या होता हैं

एनालॉग कंप्यूटर एक ऐसा कंप्यूटर होता हैं जो लगातार काम को करता हैं कंटीन्यूअस डाटा प्रोसेसिंग कंटीन्यूअस वर्किंग करने वाला एक कंप्यूटर जो अपने पास डाटा को Store नहीं करता हैं लेकिन उसके आउटपुट को प्रदर्शित कर देता हैं वैसे कंप्यूटर को एनालॉग कंप्यूटर कहा जाता हैं.

एनालॉग कंप्यूटर एक लगातार कंटीन्यूअसली डाटा को एनालिसिस करने वाला कंप्यूटर होता हैं जो कंटीन्यूअस रिजल्ट को दिखाते हुए काम करता हैं.

Analog Computer को कोई इनपुट दिया जाता हैं तो उसका सिग्‍नल जो हैं वह कंप्यूटर के पास जाता हैं और फिर से वह बदल जाता हैं और जब फिर दूसरा कोई इनपुट दिया जाता हैं तो फिर बदलते हुए काम करता हैं और इसका रिजल्ट भी समय समय से बदल जाता हैं.

साधारण भाषा में एनालॉग कंप्यूटर का यदि मतलब समझाया जाये तो एक ऐसा कंप्यूटर जो समय के हिसाब से मौसम के हिसाब से अपने आप को बदलता हो और बदलने के बाद उसका जो वर्तमान समय में स्थिति उस को प्रदर्शित करता हो वैसे कंप्यूटर को एनालॉग कंप्यूटर कहा जाता हैं. 

जैसे कोई भी बाइक हो या कोई भी वाहन में जो मीटर लगा हुआ होता हैं वह भी एक एनालॉग मीटर होता हैं जो हर समय वाहन के गति के अनुसार बदलते रहता हैं ठीक उसी प्रकार एरोप्लेन में जो एरोप्लेन के स्थिति मौसम की स्थिति को जानने के लिए जो कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता हैं.

वह भी एक एनालॉग कंप्यूटर होता हैं जिससे जब भी मौसम का स्थिति बदलता हैं या जो एरोप्लेन का गति हैं  सब कुछ एनालॉग कंप्यूटर पर प्रदर्शित होते रहता हैं और समय-समय से वह बदलता रहता हैं.

इतिहास

जो भी मीटर होते हैंं वह सभी मीटर समय-समय पर बदलते रहते हैंं क्योंकि जो उसका गति हैं या तापमान हैं उसके निर्धारित करता हैं जैसे किसी भी वाहन में जो मीटर लगाया हुआ रहता हैं उस मीटर का काम हैं गति को बताना और जब गति कम होता हैं तो मीटर अपने आप कम हो जाता हैं और गति जब बढ़ता हैं.

तब मीटर भी ऊपर चला जाता हैं तो इस तरह के जो सिस्टम या प्रणाली बनाया गया था उसको सबसे पहले शुरुआत वर्ष 1873 में विलियम थॉमसन के द्वारा किया गया जिससे बाद में लॉर्ड केल्विन के नाम से भी जाना गया. 

उनके द्वारा सबसे पहले Tide predictor के तर्ज पर वर्ष 1998 में एक Harmonic analyser बनाया गया जिसमें 80 घटक था इस 80 घटक में हर एक साइनसोइडल गति उत्पन्न करने में सक्षम था.

वर्ष 1930 के अंतराल में एक अमेरिकी इंजीनियर वनेवर वुश एवं उनके सहयोगियों द्वारा differential analyser का अविष्कार किया गया. इस मशीन में विभिन्न तरह के यांत्रिक इंटीग्रेटर्स का उपयोग किया गया था जो कि एक पहला एनालॉग कंप्यूटर के रूप में काम करने वाला विश्वसनीय उपकरण था.

सबसे पहला एनालॉग कंप्यूटर

पूर्ण रूप से जो एक एनालॉग कंप्यूटर के रूप में काम करने वाला एनालॉग कंप्यूटर का नाम astrolabe हैंं. पूर्व काल में सूरज के ग्रहों और तारों की गति की को एनालिलिस करना बहुत कठिन काम था जिसके बाद धीरे-धीरे अन्य तरह के मापन संबंधी उपकरण को भी तैयार किया गया जिसमें एक एनालॉग कंप्यूटर भी हैं.

एनालॉग कंप्यूटर के प्रकार

अलग-अलग तरह के बहुत ही किए काम के आधार पर एनालॉग कंप्यूटर के अलग-अलग प्रकार होता हैं जो मापन संबंधी कामों के लिए उपयोग किया जाता हैं जिसका उदाहरण नीचे इस प्रकार हैं.

Mechanical Analog Computer – जितने भी वाहन का उपयोग हम लोगों के द्वारा किया जाता हैं उन सभी वाहनों में 1 मीटर लगा हुआ होता हैं जो मीटर वाहन के गति के बारे में जानकारी प्रदान करता हैं इस तरह के जो वाहनों में लगे हुए मीटर हैंं वह एक मैकेनिकल कंप्यूटर के रूप में काम करते हैंं.

जब वाहन की जो गति हैं जो पहिए हैं वह घूमने लगते हैंं उसका रफ्तार बढ़ने लगता हैं या कम होने लगता हैं तब जो गाड़ी में लगे हुए ऑडोमीटर होते हैंं उस को मापने के लिए मैकेनिकल एनएलओ कंप्यूटर का ही उपयोग किया जाता हैं.

Analog Digital computer – आज का समय इतना ज्यादा डिजिटल हो गया हैं कि जैसा कि हम लोग किसी भी पेट्रोल पंप पर देखते हैंं कि वहां पर जो तेल दिया जाता हैं उसका मापन जो हैं एक कंप्यूटर के द्वारा किया जाता हैं जो अपने आप वहां पर ऑटोमेटिक चलता रहता हैं.

यह जो काम होता हैं इसको करने के लिए एक डिजिटल एनालॉग कंप्यूटर का ही इस्तेमाल किया जाता हैं जिसको एक हाइब्रिड कंप्यूटर के नाम से भी जाना जाता हैं.

जिसमें उस मशीन के द्वारा इनपुट के रूप में डीजल या पेट्रोल को वाहन में डाला जाता हैं और उसका जो आउटपुट होता हैं वह स्क्रीन पर बदलते रहता हैं और वहां पर दिखाई निरंतर देते रहता हैं इस तरह के जो काम होते हैंं उसके लिए के एनालॉग डिजिटल कंप्यूटर के द्वारा ही होता हैं.

Electronic Analog Computer – आज के समय में हर घर में प्रीपेड मीटर लगाया जा रहा हैं जिससे विद्युत का मापन किया जाएगा तथा उसी से रिचार्ज करके और विद्युत को अपने घर में उपयोग किया जाएगा इस तरह के जो इलेक्ट्रिकल इलेक्ट्रिसिटी को मापने के लिए जो कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा हैं.

या जो तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा हैं वह एक इलेक्ट्रॉनिक्स एनालॉग कंप्यूटर का हैं उदाहरण हैं हर घर में जो भी मीटर लगा हुआ हैं उसको मापने के लिए विद्युत धारा को मापन करने के लिए वाल्ट मीटर का उपयोग किया जाता हैं और उसको करने के लिए इलेक्ट्रॉनिकल एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता हैं.

Analog computer kya hai

Side rules Analog computer – जितने भी तरह के गणितीय जो परिमाप होते हैंं उसको मापने के लिए साइड रूल्स एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल होता हैं जिससे गणितीय जो भी चिन्‍ह या जो गणितीय सिम्‍बल हैं उसको किया जाता हैं.

Pneumatic Analog computer – इस तरह के जो भी कंप्यूटर होते हैंं उसको ऊर्जा के क्षेत्र में ऊर्जा के स्रोत के मापने के लिए जैसे हवा को भी यदि मापना हो उसको पता करना हो तो उसके लिए सामान्य रूप से एक फिनोमेटिक एनालॉग कंप्यूटर का ही इस्तेमाल किया जाता हैं.

Hydraulic Analog computer – यदि किसी स्थान पर स्थिर पानी हैं और उसका प्रभाव हो रहा हैं उस पर दबाव की स्थिति क्या हैं उसको यदि मापना हो तो उसके लिए हाइड्रोलिक एनालॉग कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता हैं.

उपयोग

Analog Computer एक ऐसा कंप्यूटर हैं जिसका उपयोग तथा इस्तेमाल हर तरह के कामों के लिए हर क्षेत्र में किया जाता हैं जिसका उदाहरण हैं यह नीचे हम लोग जानते हैंं.

  • तापमान की स्थिति मापने के लिए गणना करने के लिए एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता हैं.
  • पेट्रोल पंप पर तेल मापने के लिए एक एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता हैं.
  • विद्युतीय धारा को मापने के लिए वोल्ट मीटर को मापने के लिए एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता हैं.
  • वैज्ञानिक किसी भी तरह के प्रयोग करने के लिए वैज्ञानिक प्रयोगशाला में एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता हैं.
  • किसी स्थान पर पानी की स्थिति पानी का दाग पानी का बहाव को यदि मापना हो तो उसके लिए भी एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग किया जाता हैं.

विशेषता

  • Analog Computer एक ऐसा कंप्यूटर हैं जो निरंतर इनपुट को प्राप्त करता हैं तथा बिना उसको स्टोर किए हुए हैंं जो उस इनपुट का आउटपुट होता हैं उसको निरंतर बदलते हुए प्रदर्शित करते रहता हैं.
  • Analog Computer किसी भी तरह के संकेतों के बारे में जानने के लिए या किसी वाहन की गति विद्युत धारा प्रवाह तापमान आदि को जानने के लिए बहुत ही उपयोगी हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर यदि मौसम में बदलाव हो तो उसका भी समय समय से स्थिति को प्रदर्शित करता हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर अपने पास डाटा को स्टोर नहीं करता हैं.
  • Analog Computer एक जनरल कंप्यूटर हैं के तुलना में सस्ता होता हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर का परिणाम डिजिटल कंप्यूटर के तुलना में उतना ज्यादा सटीक नहीं होता हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर भौतिक कार्यों के लिए भौतिक कार्य के मापन के लिए बहुत ही ज्यादा बेहतर एवं उपयोगी हैं.
  • Analog Computer से जो काम किया जाता हैं उस काम को डिजिटल कंप्यूटर से नहीं किया जा सकता हैं.
  • एनालॉग कंप्यूटर किसी भी तरह के मापन के लिए उपयोग किया जाता हैं.

कुछ उदाहरण

  • पेट्रोल पंप पर लगा हुआ मीटर
  • ऑडोमीटर
  • वोल्ट मीटर
  • एनालॉग क्लॉक
  • स्पीड को मापने वाला मीटर
  • थर्मामीटर
  • टेलीफोन लाइन
  • फ्लाइट सिम्युलेटर
  • फ्रिकवेंसी ऑफ सिग्नल

एनालॉग कंप्यूटर और डिजिटल कंप्यूटर में अंतर

एनालॉग कंप्यूटर

डिजिटल कंप्यूटर

एनालॉग कंप्यूटर बिल्कुल सटीक उत्तर नहीं देता हैं एनालॉग कंप्यूटर की तुलना में डिजिटल कंप्यूटर सटीक उत्तर देता हैं
जो काम एनालॉग कंप्यूटर कर सकता हैं उस काम को डिजिटल कंप्यूटर नहीं कर सकता हैं
एनालॉग कंप्यूटर संस्ता होता हैं डिजिटल कंप्यूटर महंगा होता हैं
एनालॉग कंप्यूटर का स्पीड डिजिटल कंप्यूटर के तुलना में कम होता हैं डिजिटल कंप्यूटर का स्पीड एनालॉग कंप्यूटर के तुलना में ज्यादा होता हैं
Analog Computer में मेमोरी सीमित होता हैं डिजिटल कंप्यूटर में मेमोरी ज्यादा होता हैं डिजिटल कंप्यूटर ज्यादा डाटा को स्टोर कर सकता हैं

एनालॉग कंप्यूटर भौतिकी विविधताओ पर निर्भर करता हैं

जबकि डिजिटल कंप्यूटर भौतिक विविधताओ  पर निर्भर नहीं रहता हैं
एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग करना थोड़ा कठिन हैं जबकि डिजिटल कंप्यूटर का उपयोग करना एनालॉग कंप्यूटर के तुलना में आसान हैं
Analog Computer का बनावट थोड़ा कठिन होता हैं जबकि डिजिटल कंप्यूटर का बनावट एनालॉग के तुलना में आसान होता हैं
एनालॉग कंप्यूटर बिजली को ज्यादा खपत करता हैं जबकि डिजिटल कंप्यूटर बिजली का कम उपयोग करता हैं
एनालॉग कंप्यूटर विशेष प्रयोजन का एक उपकरण हैं डिजिटल कंप्यूटर एक सामान्य कामों के लिए उपयोग किया जाता हैं
Analog Computer का कुछ उदाहरण जैसे की घड़ी थर्मामीटर ऑडोमीटर आदि डिजिटल कंप्यूटर का उदाहरण जैसे कि लैपटॉप डेक्सटॉप डिजिटल कैमरा डिजिटल वॉच इत्यादि

नुकसान

कोई भी चीज जितना ही उपयोगी हैं लाभकारी हैं उतना ही उसका कुछ ना कुछ दुष्परिणाम या नुकसान भी होता हैं ठीक वैसे ही Analog Computer का भी कुछ नुकसान हैं जो कि नीचे दिया गया हैं.

Analog Computer में बुद्धिमता का अभाव होता हैं इस तरह के जो कंप्यूटर होते हैंं उसे सोचने और समझने की शक्ति कम होता हैं

Analog Computer में किसी भी तरह के वायरस से सुरक्षा नहीं होता हैं.

सारांश

एनालॉग कंप्यूटर क्या हैं तथा इसका उपयोग क्या हैं एनालॉग कंप्यूटर के बारे में इस लेख में पूरी जानकारी दी गई फिर भी यदि Analog Computer kya hai संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल हैं सुझाव हो तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें. तथा Analog Computer के बारे में दी गई जानकारी को अपने दोस्त मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर जरूर करें.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment